ममता बनर्जी के गढ़ में चलेगा ज्योतिरादित्य सिंधिया का जादू? बीजेपी ने दी है बड़ी जिम्मेदारी

भोपाल

एमपी नगर निकाय चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधियाके गढ़ में बीजेपी हार गई। ज्योतिरादित्य सिंधिया के गृह नगर ग्वालियर में बीजेपी 58 साल बाद चुनाव हार गई है। इसके बाद से वह विरोधियों के निशाने पर हैं। विरोधियों के साथ-साथ कुछ अपने लोग भी ज्योतिरादित्य सिंधिया पर सवाल उठा रहे हैं। नतीजों के बाद पश्चिम बंगाल के प्रभारी और बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने यह कहा था कि ग्वालियर की हार हमारे लिए अलार्मिंग है। पिछले दिनों एक ग्रुप के आने के बाद वहां हम मजबूत हुए थे फिर भी चुनाव हारे हैं। कैलाश के हमले के बीच ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिम बंगाल में बड़ी जिम्मेदारी मिल गई है। पिछले चार सालों के रेकॉर्ड को देखते हुए यह सवाल है कि क्या ममता बनर्जी के गढ़ में ज्योतिरादित्य सिंधिया का जादू चलेगा।

ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिम बंगाल में प्रवास मंत्री नियुक्त किया गया है। उन्हें दमदम लोकसभा सीट की जिम्मेदारी दी गई है, जहां बीजेपी पिछले चुनाव में हार गई थी। संगठन की तरफ से जिम्मेदारी मिलने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने काम संभाल लिया है। उन्होंने कोलकाता पहुंचने के बाद संगठन से जुड़े अलग-अलग लोगों से संवाद किया है। साथ ही दक्षिणेश्वर से बारानगर तक मेट्रो में यात्रा की है। कुछ यूथ लोगों के ग्रुप के साथ भी मंत्री ने बात की है। इसके बाद पश्चिम बंगाल सरकार पर जमकर हमला किया है।

पश्चिम बंगाल में भ्रष्टों की सरकार
स्कूल नौकरी घोटाले में पश्चिम बंगाल के उद्योग मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आरोप लगाया कि राज्य में तृणमूल कांग्रेस ‘भ्रष्टों की सरकार’ चला रही है। उन्होंने कहा कि राज्य में भ्रष्टाचार का स्तर ‘चौंकाने वाला और अभूतपूर्व है।’ सिंधिया ने आरोप लगाया कि टीएमसी सरकार ने कुशासन और भ्रष्टाचार की सभी हदें पार कर दी हैं। अब लोगों के लिए नहीं बल्कि भ्रष्टाचारियों की सरकार है। पूरी सरकार भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी हुई है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के आने से बीजेपी को कितनी सफलता मिली
दरअसल, एमपी की राजनीति में ज्योतिरादित्य सिंधिया की हमेशा सुर्खियों में रहते हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया मार्च 2020 में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया के आने के बाद कांग्रेस के 22 से अधिक सदस्यों ने भी प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। अक्टूबर 2020 में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए थे, इनमें चार सीट विधायकों के निधन से खाली हुए थे। वहीं, 24 सीट ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ आए विधायकों के थे। उपचुनाव में बीजेपी 28 में से 19 सीटों पर जीत हासिल की। इस चुनाव में बीजेपी को 67 फीसदी सफलता मिली।इस परिणाम को बहुत बेहतर तो नहीं कहा जाता था लेकिन सिंधिया के आने से बीजेपी की ताकत जरूर विधानसभा में बढ़ गई थी। उपचुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया की करीबी इमरती देवी समेत चार लोग हार गए थे।

ग्वालियर मेयर चुनाव में भी नहीं चला जादू
वहीं, बीते दिनों जो निकाय चुनाव के नतीजे आए हैं, उसमें बीजेपी अपने गढ़ ग्वालियर में हार गई है। ग्वालियर नगर निगम पर 58 सालों से लगातार बीजेपी का कब्जा था। ज्योतिरादित्य सिंधिया के आने से ग्वालियर में पार्टी की ताकत कथित रूप से बढ़ी थी लेकिन मजबूत किले को बीजेपी गवां दिया। इसके बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया की छवि को लेकर सवाल उठ रहे हैं।

कांग्रेस में भी 2019 के बाद नहीं कर पाए थे कमाल
ज्योतिरादित्य सिंधिया 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान गुना-शिवपुरी सीट हार गए थे। इस दौरान वह कांग्रेस में ही थी। हार के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया कुछ दिन तक खामोश रहे। इसके बाद उन्हें यूपी विधानसभा चुनाव में प्रियंका गांधी के साथ जिम्मेदारी दी गई। वहां भी ज्योतिरादित्य सिंधिया कुछ खास कमाल नहीं कर पाए।

पश्चिम बंगाल में चलेगा जादू?
बीते तीन सालों का ट्रैक रेकॉर्ड देखें तो बहुत बेहतर नहीं है। सरकार में ज्योतिरादित्य सिंधिया का प्रदर्शन अच्छा है। अब संगठन ने उन्हें साबित करने के लिए पश्चिम बंगाल में बेहतर मौका दिया है। 2024 के लोकसभा चुनाव में उनके कंधों पर दमदम लोकसभा सीट जिताने की जिम्मेदारी है। अब देखना होगा कि इसमें वह कितना कामयाब होते हैं।

कैलाश विजयवर्गीय हैं पश्चिम बंगाल के प्रभारी
अभी पश्चिम बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय हैं। कैलाश विजयवर्गीय भी एमपी से ही आते हैं। उनके और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच रिश्ते जगजाहिर हैं। हालांकि दोनों समय-समय पर एक साथ दिखाने की कोशिश करते हैं। निकाय चुनाव में हार के बाद कैलाश ने इशारों-इशारों में फिर से तीर चलाया है। अब देखना होगा कि पश्चिम बंगाल में दोनों की ट्यूनिंग कितनी जमती है।

About bheldn

Check Also

‘गुनाह के तहत सजा मिलनी चाहिए’, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने हाथरस वाले बाबा के खिलाफ कर दी एक्शन की मांग

लखनऊ उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने हाथरस हादसे (भोलेबाबा सत्संग) को लेकर बयान …