जापान में परमाणु रिएक्‍टर के पास धधका खतरनाक ज्‍वालामुखी, उच्‍चतम अलर्ट जारी, इलाका खाली

टोक्‍यो

जापान में क्‍यूशू द्वीप समूह पर स्थित सकूराजिमा ज्‍वालामुखी एक बार फिर से खतरनाक तरीके से धधक उठा है। इस ज्‍वालामुखी में रविवार को लावा निकलने के बाद पूरे इलाके को खाली करा लिया गया। ज्‍वालामुखी विस्‍फोट को देखते हुए उच्‍चतम स्‍तर का अलर्ट लेवल 5 जारी किया गया है। इस विस्‍फोट से जापानी अधिकारियों की टेंशन इसलिए भी बढ़ी हुई है क्‍योंकि उससे कुछ किलोमीटर की दूरी पर एक पर‍माणु रिएक्‍टर मौजूद है।

जापान के मौसम विभाग ने कहा है कि यह ज्‍वालामुखी रविवार को रात में स्‍थानीय समयानुसार करीब 8 बजकर 5 मिनट पर भड़का। जापानी एजेंसी के निगरानी कैमरे ने दिखाया कि धुएं का गुबार या राख ज्‍वालामुखी से निकल रही है। मौसम विभाग ने लेवल 5 का अलर्ट जारी करके लोगों को इलाका खाली करने का आदेश दिया है। यही नहीं कागोशिमा प्रांत और कागोशिमा शहर के लोगों को सलाह दी गई है कि वे सतर्क रहें।

परमाणु पावर प्‍लांट में किसी भी तरह की अनियमितता नहीं
जापान की परमाणु नियामक संस्‍था ने कहा है कि पास में स्थित परमाणु पावर प्‍लांट में किसी भी तरह की अनियमितता नहीं देखी गई है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक सकूरजिमा ज्‍वालामुखी जापान के सबसे सक्रिय ज्‍वालामुखी में शामिल है। इससे पहले हाल‍िया दशकों में इस ज्‍वालामुखी में कई बार विस्‍फोट हो चुका है। यह इससे पहले जनवरी में भड़का था और कई किलोमीटर दूर तक हवा में राख के बादल फैल गए थे।

यह ज्‍वालामुखी कागोशिमा प्रांत में स्थित है जो जापान के दक्षिणी हिस्‍से में है। ज्‍वालामुखी विशेषज्ञ रॉबिन जॉर्ज एंड्रीव ने कहा कि यह पूरा इलाका ज्‍वालामुखी विस्‍फोट के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्‍होंने कहा कि खतरे का इलाका ज्‍वालामुखी की सक्रियता पर निर्भर करता है। उन्‍होंने बताया कि इस पूरे इलाके में लोगों को ज्‍वालामुखी विस्‍फोट से बचाव के बारे में ट्रेनिंग दी गई है। यही नहीं वहां अक्‍सर ड्रिल भी कराई जाती है। जापान का यह ज्‍वालामुखी दुनिया के सबसे ज्‍यादा निगरानी वाले ज्‍वालामुखी में शामिल है।

About bheldn

Check Also

एक नींद की झपकी और 14 लोगों की दर्दनाक मौत… यहां जानिए कैसे हुआ रुद्रप्रयाग में भयंकर हादसा

रुद्रप्रयाग: उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर रैतोली गांव के समीप शनिवार …