ममता ही बोली थीं- मिल-बांटकर खाओ… टीवी डिबेट में राजनीतिक विश्लेषक के किए दावे हैरान कर देंगे

कोलकाता

एसएससी घोटाले में आरोपी बंगाल के कैबिनेट मंत्री पार्थ चटर्जी की गिरफ्तारी के बाद राजनीति तेज हो गई है। इस बीच सीएम ममता बनर्जी ने भी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि वह गलत काम या भ्रष्टाचार का समर्थन नहीं कर सकतीं। गौरतलब है कि एसएससी घोटाले की जांच कर रही ईडी को पार्थ चटर्जी की करीबी अर्पिता मुखर्जी के आवास से 21 करोड़ रुपये नकद मिले थे जिसके बाद दोनों की गिरफ्तारी हुई। इस बीच एक टीवी न्यूज चैनल की डिबेट के दौरान राजनीतिक विश्लेषक गार्गी नंदी रॉय ने पार्थ चटर्जी और ममता बनर्जी पर गंभीर आरोप लगाए।

गार्गी नंदी रॉय ने कहा, ‘बंगाल का हर वर्ग, हर मां बाप आज आहत है, क्योंकि हमारे बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ हो रहा है। उन टीचर को रखा गया है जिन्होंने ब्लैंक पेपर दिया था टीचर्स एग्जामिनेशन में और बदले में 15 से 20 लाख रुपये लिए गए थे। हमने ऐसे वीडियो देखे हैं कि जो बंगाली की टीचर है उनको बांग्ला स्पेलिंग नहीं बोलना आता है। कोई-कोई पार्टी में कुछ लोग चोर होते हैं लेकिन टीएमसी ऐसी पार्टी है कि चोरों ने ही पार्टी बना दिया है।’

‘दीदी बैकफुट पर हैं, पैसा ऊपर तक नहीं जा रहा’
ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए गार्गी रॉय ने कहा, ‘दीदी ने कुछ दिन एक रैली में बोला था कि मिल-बांटकर खाने की कोशिश करो, अकेले सबकुछ मत खाओ। ये वहां का कल्चर है। ये जो शिक्षा का भ्रष्टाचार है उसमें हम बहुत आहत हुए। बंगाल के लोगों का कल्चर पढ़ने लिखने वाले लोगों का कल्चर है। बंगाल में हर काम दीदी की प्रेरणा से होता है। दीदी इलेक्शन में जाकर बोलती हैं कि हर सीट में मुझे वोट दो और ये पार्थ चटर्जी दीदी के खासमखास हैं, उनके करीबी हैं।’

अर्पिता मामले पर गार्गी रॉय बोलीं, ’21 जुलाई को राजनीतिक मंच पर अर्पिता बैठी हुई थी। दीदी के पीछे। उनको मंच पर क्यों बिठाया गया था अगर अर्पिता कोई नहीं लगती है उनकी। कुछ परसेंटेज जानने में गड़बड़ हुआ। पहले 80 फीसदी के ऊपर जाता था, पार्थो दा 20 फीसदी तक रखते थे। अभी कुछ प्रॉब्लम हुआ इसलिए दीदी बैकफुट पर हैं। पैसा ऊपर तक नहीं जा रहा है।’

‘लालू जेल जा सकते हैं तो दीदी क्यों नहीं’
राजनीतिक विश्लेषक ने कहा, ‘बंगाली में कहावत है कि कान खींचेगे तो सर अपने आप खिंचा चला आएगा। अभी सिर्फ कान खींचा गया है सर का इंतजार कीजिए। लालू प्रसाद यादव जेल जा सकते हैं तो दीदी और दीदी के भाई क्यों नहीं जा सकते।’

गार्गी नंदी ने आरोप लगाया कि पार्थ की एक और करीबी हैं जिनके नाम पर शांतिनिकेतन में 7-8 के ऊपर फ्लैट्स हैं। वह कहती हैं, ‘बंगाल को भ्रष्टाचार का समंदर बनाकर रख दिया है।’ डिबेट में मौजूद टीएमसी प्रवक्ता शांतनु सेन ने कहा, ‘अगर बंगाल में एजुकेशन इतनी खराब है तो सेंट्रल स्कॉच अवॉर्ड क्यों दे रहा है। ममता दीदी ने कहा कि अगर कोई दोषी हुआ तो उसे सजा मिलेगी लेकिन क्या नरेंद्र मोदी या अमित शाह ने कभी संसद में कहा कि अगर बीजेपी का कोई नेता करप्ट हुआ तो कार्रवाई करेंगे।’

About bheldn

Check Also

कई अधिकारी अंदर से ‘हाथी’ और ‘साइकिल’ हैं… संजय निषाद ने सरकार-प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोला, बुलडोजर पर भी उठाए सवाल

लखनऊ, निषाद पार्टी प्रमुख और उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री संजय निषाद ने प्रशासन के …