चीन के वुहान में पशु बाजार से निकला कोरोना वायरस, दो नए रिसर्च का दावा

नई दिल्ली

कोरोना महामारी चीन से ही निकली और पूरी दुनिया में फैल गई। दो नए रिसर्च ने भी इसका खुलासा किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोना वायरस की उत्पत्ती चीन के वुहान में हुआनन सीफूड मार्केट में हुई। रिपोर्ट यह दर्शाता है कि वायरस बाजार में बेचे जाने वाले जानवरों से निकला है ना कि इसे किसी लैब में तैयार किया गया था। सीएनएन के अनुसार, दोनों रिसर्च को फरवरी में ऑनलाइन पोस्ट किया गया था और अब इसकी समीक्षा की गई है। इसके बाद उन्हें मंगलवार को साइंस जर्नल में प्रकाशित किया गया है। हालांकि दोनों अध्ययनों ने अलग-अलग दृष्टिकोण अपनाए हैं, लेकिन दोनों एक ही निष्कर्ष पर पहुंचे हैं कि वुहान में पशु बाजार से वायरस के निकलने की सबसे अधिक संभावना है।

पहला अध्ययन क्या कहता है?
पहले अध्ययन में चीनी वैज्ञानिकों और जीवविज्ञानी माइकल वर्बे और एरिज़ोना विश्वविद्यालय के उनके सहयोगियों ने स्थानिक और पर्यावरणीय विश्लेषण का निर्धारण करने के लिए मैपिंग टूल और एक सोशल मीडिया ऐप का उपयोग करके डेटा का मिलान किया। उन्होंने दावा किया कि कोरोना वायरस संभवतः 2019 के अंत में बाजार में बेचे जाने वाले जीवित जानवरों में मौजूद था।

एपी समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक वर्बे ने कहा, “यह एक संकेत है कि वायरस उन लोगों में फैलने लगा जो बाजार में काम करते थे। इसके बाद स्थानीय समुदाय में भी फैलने लगे।” वैज्ञानिकों ने दावा किया कि सबसे पहले COVID-19 मामले बाजार के विक्रेताओं के बीच सामने आए जिन्होंने इन जीवित जानवरों या वहां खरीदारी करने वाले लोगों को बेचा। उनका मानना ​​​​है कि जानवरों में दो अलग-अलग वायरस घूम रहे थे जो लोगों को संक्रमित करते थे। अध्ययन में कहा गया है, “20 दिसंबर से पहले पाए गए सभी आठ सीओवीआईडी ​​​​-19 मामले बाजार के पश्चिमी हिस्से से थे, जहां स्तनपायी प्रजातियां भी बेची जाती थीं।”

दूसरा अध्ययन
दूसरा अध्ययन यह निर्धारित करने के लिए एक सूक्ष्म विश्लेषण देता है कि दिसंबर 2019 में सबसे पहले नमूना जीनोम से शुरू होने वाला पहला कोरोना वायरस संक्रमण जानवरों से मनुष्यों में कब आया और फरवरी 2020 के मध्य तक फैल गया। इस शोध के अनुसार, कोरोना वायरस के शुरुआती संस्करण में संभवतः दो वंश थे, जिन्हें वैज्ञानिक ए और बी कहते हैं। इसने कहा कि ये वंश मनुष्यों में कम से कम दो क्रॉस-प्रजाति संचरण घटनाओं का परिणाम थे।

अध्ययन में दावा किया गया है कि पहला पशु-से-मानव संचरण संभवतः वंश बी से आया था और 18 नवंबर, 2019 के आसपास हुआ था। उन्होंने वंश बी प्रकार को उन लोगों में पाया जिनका पशु बाजार से सीधा संबंध था। उनका सुझाव है कि वंश A को जानवरों से मनुष्यों में वंश B से संक्रमण के हफ्तों या दिनों के भीतर पेश किया गया था। यह वंश उन मनुष्यों के नमूनों में पाया गया था जो बाजार में रहते थे या रहते थे।

About bheldn

Check Also

पन्नू की बात कर मोदी का मन खट्टा तो नहीं करेंगे बाइडेन, डोभाल की वापसी की भी होगी खुन्नस?

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने अभी इटली गए हैं। …