पिता की डेड बॉडी के साथ खेलती रहीं बच्चियां, मां ऑफिस से लौटी तो मचा कोहराम

लखीमपुर खीरी

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी से ऐसी घटना सामने आई है, जो मजबूत दिल वालों के आंखों में भी आंसू ला देगी। घर में पिता अकेले थे। अबोध जुड़वा बेटियों की जिम्मेदारी उन पर थी। मां ड्यूटी पर गई थी। दिन में दिल का दौरा पड़ा और उनका निधन हो गया। लेकिन, जुड़वा बच्चियों को यह सब कहां समझ में आता। वह अपने पिता की डेड बॉडी से खेलती रही। बच्चियों के हाथ जो भी लगा उससे वे खेलती रही। मां के सुहाग की निशानी सिंदूर से भी। उन बच्चियों ने पिता के शरीर पर सिंदूर लगाया। खुद भी चेहरे और शरीर पर लगा लिया। मां जब ड्यूटी से लौटी तो पति को बेड पर बेसुध पड़ा पाया। उन्हें लगा कि पति को हार्ट अटैक आया है। कोशिश की। अस्पताल ले जाया गया। लेकिन, मुर्दा शरीर में जान कहां से आए। घर में कोहराम मचा है।

घटना सदर कोतवाली थाना क्षेत्र के काशीनगर मुहल्ले की है। सरकारी डॉक्टर दंपत्ति यहां किराए के मकान में करीब 5 साल से रह रहे थे। पति डा. राजेश मोहन गुप्ता बाजूडीहा गांव में तैनात थे। वहीं, पत्नी डॉ. वीणा गुप्ता शहर के सीएचसी में तैनात हैं। घटना 26 जुलाई की है। उस दिन अस्पताल से जब डॉ. वीणा घर लौटीं तो दरवाजा अंदर से बंद था। उन्होंने आवाज लगाई। दरवाजा जोर-जोर से पीटा, लेकिन भीतर से कोई हलचल नहीं हुई। मुहल्लेवालों को सूचना दी। लोग आए। दरवाजा तोड़ा गया। इसके बाद जो दृश्य था, वह हैरान करने वाला था।

डॉ. वीणा गुप्ता ने बताया कि दरवाजा तोड़ा गया तो पति बेड पर बेसुध पड़े हुए थे। दोनों बच्चियां अपने हाथों और गाल में सिंदूर लगाकर पिता के शरीर के साथ खेल रही थी। मासूमों ने अपने पिता के पेट और पैर में सिंदूर लगाया हुआ था। पति की स्थिति देखते ही डॉ. वीणा को समझ में आया कि उन्हें दिल का दौरा पड़ा है। वह अचेत पड़े पति को बचाने के लिए सीने को दबाकर पंप करने की कोशिश करने लगी। वे लोगों से मदद के लिए भी गुहार लगा रही थी। इसी क्रम में पुलिस भी मौके पर पहुंची।

बेसुध पड़े डॉ. राजेश मोहन गुप्ता को जिला अस्पताल ले जाया गया। वहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। तीन डॉक्टरों की टीम ने बॉडी का पोस्टमार्टम किया, जिसमें मौत का कारण हार्ट अटैक बताया गया है। पुलिस की ओर से कहा गया कि मृतक डॉ. राजेश वाराणसी के रहने वाले थे। वहीं, उनकी पत्नी वीणा गुप्ता लखनऊ की रहने वाली हैं। पोस्टमार्टम के बाद पार्थिव शरीर परिजनों को सौंप दिया गया।

About bheldn

Check Also

‘मैं धर्मनिरपेक्ष हूं, यादव-मुसलमानों के लिए भी काम करूंगा’, बयान पर हंगामे के बाद JDU सांसद की सफाई

भागलपुर, जेडीयू के नवनिर्वाचित सांसद देवेश चंद्र ठाकुर ने कुछ दिन पहले कहा था कि …