जब सोनिया पर निशाना साधने पर भड़क गई थी कांग्रेस, राजनाथ को भिजवा दिया था समन

नई दिल्ली

नेशनल हेरल्ड मामले में अध्यक्ष सोनिया गांधी से ईडी की पूछताछ पर विरोध-प्रदर्शन करने वाली कांग्रेस को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने फिर घेरा है। बीजेपी ने 2012 के एक वाक्या का जिक्र कर कांग्रेस पर हमला बोला है। दरअसल, बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष राजनाथ सिंह को एक जमीन अधिग्रहण मामले में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशाना साधने के कारण प्रिवलेज कमिटी ने उन्हें समन जारी कर दिया था। इसी मुद्दे को लेकर बीजेपी देश की सबसे पुरानी पार्टी पर हमलावर है। बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ( ने ट्वीट कर कहा कि राजनाथ सिंह के बयान के बाद कांग्रेस भड़क गई थी और उन्हें प्रिवलेज पैनल के सामने उपस्थित होने के लिए 10 बार समन भेजा था। वहीं, बिहार सरकार में मंत्री और वरिष्ठ बीजेपी नेता शहनवाज हुसैन ने तो इसे सीधे कांग्रेस के इशारे पर षडयंत्र बताया।

झारखंड के गोड्डा से सांसद निशिकांत दुबे एक ट्वीट कर कहा, ‘सोनिया गांधी जी आपकी पार्टी ने केवल आपके परिवार के ट्रस्ट के बारे में 2012 में बोलने के कारण उस वक्त के @BJP4India के अध्यक्ष और आज देश के रक्षा मंत्री @rajnathsingh को संसद की privilege कमिटि में बुलाने का 10 नोटिस दिया, यही @INCIndia का लोकतंत्र है तथा संसद का दुरुपयोग का इतिहास।’

शहनवाज का ट्वीट, कांग्रेस के इशारे पर षडयंत्र
दुबे के इस ट्वीट पर बिहार सरकार में मंत्री शहनवाज हुसैन ने भी समर्थन किया और लिखा, ‘मुझे याद है बीजेपी से उस वक्त मैं भी अनंत कुमार जी, गोपीनाथ मुंडे जी व अन्य के साथ संसद की कमेटी का सदस्य था। पीसी चाको अध्यक्ष थे। तब तत्कालीन पार्टी अध्यक्ष @rajnathsinghजी के एक बयान पर उनके खिलाफ कांग्रेस के इशारे पर षड्यंत्र हुआ और हमलोगों ने पूरे संघर्ष से इसे विफल किया था।’

क्या था मामला
दरअसल, राजनाथ सिंह ने हरियाणा के गुड़गांव में राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट के जरिए कथित तौर पर जबरदस्ती जमीन अधिग्रहण को लेकर सोनिया गांधी पर निशाना साधा था। राजनाथ सिंह ने आरोप लगाया था कि राजीव गांधी ट्रस्ट ने गुड़गांव के उल्हावास गांव के किसानों का जबरदस्ती दस्तखत लेकर जमीन अधिग्रहण किया है। उन्होंने इस मामले की न्यायिक जांच की मांग की थी।

मीनाक्षी नटराजन ने दिया था प्रिवलेज मोशन
राजनाथ के आरोपों पर कांग्रेस सांसद मीनाक्षी नटराजन ने 19 अगस्त 2011 को बीजेपी नेता के खिलाफ प्रिवलेज मोशन ले आई थीं। अपने नोटिस में नटराजन ने राजनाथ सिंह के आरोप को गलत, आधारहीन और झूठा करार दिया था। नटराजन 2011 के नवंबर में पीसी चाको की अध्यक्षता वाले पैनल के सामने पेश भी हुई थीं। 15 सदस्यीय इस पैनल में बीजेपी नेता अनंत कुमार (अब दिवंगत), गोपीनाथ मुंडे (अब दिवंगत) और शहनवाज हुसैन भी शामिल थे।

तत्कालीन सरकार ने अधिग्रहण को सही बताया था। सरकार ने दावा किया था कि ग्रामीणों की इच्छा के बाद ही जमीन का अधिग्रहण किया गया था। गांव वालों ने जमीन को 33 साल के पट्टे पर देने का प्रस्ताव पास किया था।

दुबे का दावा, 10 बार राजनाथ को भेजा गया समन
दुबे ने अपने ट्वीट में दावा किया है कि राजनाथ को 10 बार पैनल ने समन भेजा था। पैनल ने इस बारे में राजनाथ का बयान लेने के लिए समन भेजा था। गौरतलब है कि नेशनल हेरल्ड मामले में सोनिया गांधी से ईडी ने 3 दिन पूछताछ की थी। इस दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं समेत राज्यों के नेताओं ने पूरे देशभर में प्रदर्शन किया था।

About bheldn

Check Also

PM मोदी ने अजीत डोभाल पर फिर जताया भरोसा… तीसरी बार राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार नियुक्त

नई दिल्ली, अजीत डोभाल पर भरोसा जताते हुए पीएम मोदी ने उन्हें तीसरी बार राष्ट्रीय …