चीन ने बढ़ाई टेंशन… दुश्मन देश में परमाणु सुनामी ला सकता है न्यूक्लियर रिएक्टर से लैस नया हथियार

बीजिंग

दक्षिण चीन सागर में अमेरिका से उलझा चीन डिस्पोजेबल परमाण रिएक्टर बना रहा है। इस रिएक्टर को लंबी दूरी के टारपीडो में लगाया जाएगा। इन टारपीडो के जरिए चीनी नौसेना समुद्र के नीचे परमाणु सुनामी ला सकती है। चीनी रक्षा मंत्रालय से जुड़े एक रिसर्च टीम ने एक छोटे, कम लागत वाले परमाणु रिएक्टर के लिए वैचारिक डिजाइन को पूरा कर लिया है। इसके जरिए चीनी रिसर्चर रूस पोसीडॉन मानव रहित पनडुब्बी का एक मिनी वर्जन बनाने की तैयारी कर रहे हैं। पोसीडॉन परमाणु ऊर्जा से चलने वाला दुनिया का पहला ज्ञात वॉटर ड्रोन है। रूस के इस ड्रोन को दुनिया के सबसे बड़ी पनडुब्बी बेलगोरोड में तैनात किया गया है। यह हथियार किसी भी देश के समुद्र तट पर परमाणु सुनामी ला सकता है।

टारपीडो ट्यूब में फिट हो सकता है परमाणु रिएक्टर
चीनी रिसर्च टीम ने कहा कि पोसीडॉन का बड़े पैमाने पर उत्पादन नहीं किया जा सकता, क्योंकि यह बहुत बड़ा, महंगा और विनाशकारी है। वहीं, नए ‘डिस्पोजेबल’ परमाणु रिएक्टर को एक मानक टारपीडो ट्यूब में फिट किया जा सकता है। इस टारपीडो को किसी भी पनडुब्बी या युद्धपोत से बड़ी संख्या में लॉन्च किया जा सकता है। टारपीडो डिस्पोजेबल परमाणु रिएक्टर के जरिए हमला करने से पहले 200 घंटे तक 30 समुद्री मील (56 किमी / घंटा या 35 मील प्रति घंटे) से अधिक की स्पीड से चल सकता है। इतना ही नहीं, हमला करने से पहले यह अपने परमाणु रिएक्टर को समुद्र में ही गिरा देगा और उसके बार पारंपरिक वारहेड के जरिए निशाना साधेगा।

चीनी वैज्ञानिक ने समझाया डिस्पोजेबल परमाणु रिएक्टर और पोसीडॉन में अंतर
चाइना इंस्टीट्यूट ऑफ एटॉमिक एनर्जी के प्रमुख वैज्ञानिक गुओ जियान ने कहा कि उनके डिस्पोजेबल परमाणु रिएक्टर और रूस के पोसीडॉन के बीच एक बुनियादी अंतर है। इस महीने चाइना शिपबिल्डिंग इंडस्ट्री कॉरपोरेशन के पीयर-रिव्यू जर्नल ऑफ अनमैन्ड अंडरसीज सिस्टम्स में प्रकाशित एक पेपर में गुओ जियान ने कहा कि यह हाई फ्रैक्सिबिलिटी और कम कीमत वाला रिएक्टर होगा। परमाणु ऊर्जा से चलने और अनमैंड रहने के कारण इन्हें किसी पनडुब्बी की तरह भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

दो मेगाटन परमाणु वारहेड के साथ हमला कर सकता है पोसीडॉन
रूसी मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, पोसीडॉन दो मेगाटन परमाणु वारहेड के साथ हमला कर सकता है। इसके हमले से किसी भी तटीय शहर में परमाणु सुनामी आ सकती है। पोसीडॉन का हमला हिरोशिमा में हुए परमाणु हमले से करीब 100 गुना अधिक ताकतवर होगा। लेकिन चीनी शोधकर्ताओं ने कहा कि पोसीडॉन की तरह के हथियार के इस्तेमाल से दुनिया को खत्म करने वाला परमाणु युद्ध शुरू हो सकता है। इस कारण कम ही संभावना है कि इस हथियार का इस्तेमाल कभी हो सकता है।

चीन में अंडर वॉटर ड्रोन की बढ़ रही मांग को पूरा करेगा यह रिएक्टर
गुओ जियान ने कहा कि चीन में छोटे, हाई स्पीड, लंबी दूरी के अंडर वॉटर ड्रोन की मांग बढ़ रही है। इनका उपयोग टोही, ट्रैकिंग, हमले और स्ट्रैटजिक स्ट्राइक में किया जा सकता है। ऐसे में डिस्पोजेबल परमाणु रिएक्टर्स इन मिशनों को समर्थन देने के लिए भारी मात्रा में ऊर्जा प्रदान कर सकते हैं, लेकिन अधिकांश रिएक्टर एक परिष्कृत संरचना और उच्च लागत के साथ आते हैं।

About bheldn

Check Also

इजरायल ने राफा के पास शिविर कैंप पर किया हमला, 25 की मौत, 50 लोगों घायल

नई दिल्ली, इजरायली सुरक्षा बलों ने शुक्रवार को गाजा के दक्षिणी शहर राफा के बाहर …