चीन ने भारतीय सीमा से मात्र 50 किमी दूर तैनात की सतह से हवा में मारने वाली मिसाइल, सैटेलाइट तस्वीरों से बड़ा खुलासा

बीजिंग

भारत के लिए चीन हमेशा से एक खतरा है। बॉर्डर पर होने वाली एक्टिविटी दिखाती हैं, कि उस पर आंख मूंद कर भरोसा नहीं किया जा सकता। सैटेलाइट तस्वीरों से अब एक बड़ा खुलासा हुआ है। नई तस्वीरों से पता चला है कि चीन ने भारतीय सीमा से 50 किमी की दूरी पर सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों को तैनात कर दिया है। नई सैटेलाइट तस्वीरों से पता चला है कि अब से मिसाइल साइट पूरी तरह से एक्टिव है।

जिस जगह ये मिसाइल तैनात है वह भूटान, भारत और चीन के ट्राइजंक्शन पर है। 2017 में डोकलाम में चीन और भारत की सेनाएं आमने सामने आ गई थीं। करीब दो महीने तक ये स्टैंडऑफ चला था। वहीं 2020 में गलवान घाटी में भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने आ गई थीं। इस लड़ाई में 40 से ज्यादा चीनी सैनिक मारे गए थे। इस लड़ाई के बाद से ही चीन ने LAC पर मिसाइल सिस्टम का बेस बनाना तेजी से शुरू कर दिया था।

क्या दिख रहा सैटेलाइट तस्वीर में
सैटेलाइट फोटो का विश्लेषण करने वाले डेमियन साइमन ने ट्वीट किया, ‘डोकलाम के उत्तर में सिर्फ 50 किमी दूर पर बने सर्फेस टू एयर मिसाइल बेस पर कैमोफ्लॉज (छलावरण) एक्टिविटी देखी गई है। मार्च 2020 की शुरुआत से ये था, लेकिन अब हालिया तस्वीरें बताती हैं कि ये पूरी तरह से काम कर रहा है।’ इस तस्वीर में संभावित लॉन्चर दिख रहा है जो एक मिलिट्री व्हीकल पर हो सकता है। इसके अलावा लॉन्च पैड और एक बेसबॉल कोर्ट के साथ अन्य इमारतें दिख रही हैं।

चीन ने सीमा पर बनाए पुल
मिसाइल सिस्टम तैनात करने के साथ ही चीन पुल निर्माण कर भी अपनी नापाक हरकतों को अंजाम देता रहा है। मई में सैटेलाइट तस्वीरें सामने आई थीं, जिसके मुताबिक चीन पैंगोंग झील पर विशाल पुल बना रहा है। ये चीन का दूसरा पुल होगा। एक तरफ भारत से बातचीत और व्यापार करने वाला चीन ये पुल सिर्फ और सिर्फ भारतीय सेना के करीब अपने हथिराबंद वाहनों को पहुंचाने के लिए करेगा। नया पुल पुराने पुल से ज्यादा चौड़ा होगा। नए पुल को बनाने के लिए पुराने पुल को सर्विस ब्रिज के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा।

About bheldn

Check Also

इजरायल ने राफा के पास शिविर कैंप पर किया हमला, 25 की मौत, 50 लोगों घायल

नई दिल्ली, इजरायली सुरक्षा बलों ने शुक्रवार को गाजा के दक्षिणी शहर राफा के बाहर …