‘नीतीश-तेजस्वी के गठबंधन के पीछे PFI का हाथ’, बोले बिहार BJP चीफ

पटना,

बिहार में नीतीश कुमार की जेडीयू ने एनडीए से गठबंधन तोड़कर विपक्ष के महागठबंधन का दामन थाम फिर से सरकार बना ली है. नीतीश कुमार ने 8वीं बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. गठबंधन और सत्ता से बाहर हुई बीजेपी लगातार नीतीश कुमार पर जनता को धोखा देने का आरोप लगा रही है. इस बीच बिहार बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव पर PFI से सांठगांठ कर सरकार बनाने का आरोप लगाया है.

दरअसल, बिहार के बेतिया में आयोजित ‘जनादेश से विश्वासघात’ कार्यक्रम में बोलते हुए डॉ संजय जायसवाल ने कहा कि 11 जुलाई को पीएम मोदी के बिहार दौरे से पहले आतंकी हमले की साजिश थी. पूरे देश को इस्लामिक स्टेट बनाने की साजिश थी. जब इसकी जांच एनआईए को सौंपी गई तो पीएफआई के लिंक सामने आए. जब अधिकारियों को लगा कि इसमें वो लोग फंस जाएंगे तो उन्होंने तेजस्वी को समझाया कि आप और नीतीश कुमार अब एक हो जाइए.

‘आतंकी हमले को पटाखे का विस्फोट बोलते थे नीतीश’
डॉ जायसवाल ने कहा कि मुंगेर और छपरा में तीन मंजिल के मकान के विस्फोट को हम लोग आतंकी हमला कहते थे तो नीतीश जी उसे पटाखे का विस्फोट बोलते थे. पूरा बिहार आतंकियों के लिए स्लीपरसेल बन गया है. देश में कही भी आतंकवाद की घटना घटती है तो उसका लिंक बिहार से जुड़ता है. लेकिन नीतीशजी को ये बात समझ में नहीं आती थी.

‘लाखों हिंदुओं को भारत भागना पड़ा’
उन्होंने कहा कि 1940 में लाहौर में अगर कोई खड़ा होकर बोलता था कि हिंदुओं को यहां से भागना पड़ेगा तो लोग सोचते थे ये कौन पागल आदमी ऐसा बोल रहा है. लेकिन 1947 में बंटवारे के बाद लाखों हिंदुओं को भारत भागना पड़ा. सर गंगाराम लाहौर के रहने वाले थे, उनकी कोई संपत्ति पाकिस्तान में नहीं बची. उनको भी सबकुछ छोड़कर भारत आना पड़ा.

About bheldn

Check Also

गुजरात में पकड़ी गई 1400 करोड़ रुपये की ड्रग्स, पकड़े गए 5 विदेशीस्मगलर, पाकिस्तान से जुड़ रहा कनेक्शन

नई दिल्ली  नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने नौसेना और गुजरात एटीएस के साथ मिलकर ड्रग्स …