क्या टेक कंपनियों का स्वर्णिम दौर खत्म? अर्श से फर्श पर FB वाली Meta कंपनी

नई दिल्ली,

फेसबुक (Facebook) की पैरेंट कंपनी मेटा (Meta) के लिए साल 2022 बेहद खराब साबित हुआ है. कंपनी के शेयरों में गिरावट लंबे समय से जारी है, लेकिन इस साल आई गिरावट मेटा के अस्तित्व पर प्रश्न चिह्न लगाने वाली साबित हुई है. बीते पांच सालों में कंपनी का शेयर करीब 50 फीसदी तक टूट चुका है. जबकि एक साल के भीतर ही शेयरों की कीमत 73 फीसदी तक घट गई है.

मेटा के निवेशकों का भरोसा घटा
ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक, वर्षों से Facebook, Amazon, Apple, Netflix और Google इन्वेस्टर्स के लिए निवेश का सबसे अच्छा और कमाई वाला विकल्प रहे. लेकिन टॉप पर रहने वाली फेसबुक के निवेशक अब इसके शेयरों से डरने लगे हैं. कंपनी के शेयरों में गिरावट का जो सिलसिला चल रहा है, उसने न केवल कंपनी के प्रति निवेशकों का भरोसा घटाया है, बल्कि कोरोना महामारी के दौरान कमाए लाभ को भी मिटा दिया है.

तिमाही नतीजों ने बढ़ाई चिंता
फेसबुक (Facebook) की पैरेंट कंपनी मेटा (Meta) के रेवेन्यू में लगातार दूसरी तिमाही में गिरावट दर्ज की गई है. विज्ञापन रेवेन्यू में गिरावट की वजह से तिमाही में कंपनी का रेवेन्यू घटा है. इस तिमाही के कमजोर रिजल्ट ने मेटावर्स पर प्रति वर्ष 10 बिलियन डॉलर खर्च करने की योजना पर भी सवाल खड़े कर दिए हैं. तीसरी तिमाही में मेटा का रेवेन्यू 29.01 बिलियन डॉलर से 4 फीसदी घटकर 27.71 बिलियन हो गया. रेवेन्यू में तेज गिरावट के अलावा मेटा ने मौजूदा तिमाही के लिए उम्मीद से कमजोर बिक्री का अनुमान लगाया है, जिससे यह चिंता और बढ़ गई है कि रेवेन्यू में गिरावट कहीं ट्रेड न बन जाए.

S&P 500 पर सबसे खराब प्रदर्शन
फेसबुक की मूल कंपनी मेटा इंक इस साल एसएंडपी 500 में सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली फर्म साबित हुई है. हालात इस कदर खराब हो चुके हैं कि मेटा एसएंडपी में सबसे नीचे है, एलाइन टेक्नोलॉजी, जेनरैक होल्डिंग्स, एसवीबी फाइनेंशियल ग्रुप और मैच ग्रुप से भी पीछे हो गई है. S&P 500 से तुलना करें ये अमेरिकी इंडेक्स एक साल में करीब 20 फीसदी गिरा है, जबकि मेटा के शेयर 73 फीसदी तक लुढ़क गए. वहीं 5 साल में S&P 500 ने करीब 40 फीसदी का रिटर्न दिया है, इसकी तुलना में मेटा ने 50 फीसदी का निगेटिव रिटर्न दिया है. ऐसे में अब लंबी अवधि के निवेशकों के भी धैर्य टूटने लगे हैं.

पिछले एक महीने में ये शेयर करीब 35 फीसदी नीचे आ चुका है. वहीं सालभर में 73 फीसदी का नुकसान इस शेयर दिया है. ठीक एक साल पहले यानी 4 नवंबर 2021 को यह शेयर करीब 338 डॉलर का था, जो अब गिरकर करीब 90 डॉलर के पास पहुंच गया है.

मेटा सिर्फ स्टॉक नहीं FAANG
Meta सिर्फ एक और स्टॉक नहीं है, यह एक FAANG है. इसका मतलब पांच सबसे लोकप्रिय और सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली अमेरिकी टेक कंपनियों के शेयरों के समूह में से एक सदस्य. इनमें मेटा जिसे पूर्व में फेसबुक, एमेजॉन, एप्पल, नेटफ्लिक्स और Google की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट शामिल हैं. भले ही ये पांचों स्टॉक अभी भी एसएंडपी 500 की मार्केट वैल्यू का 13 फीसदी से अधिक बनाते हैं, लेकिन खासतौर पर मेटा और उसके साथ ही अन्य के शेयरों में गिरावट देख लगता है कि टेक कंपनियों का स्वर्णिम दौर खत्म अब खत्म होने की ओर बढ़ चला है.

इतनी रह गई मार्क जुकरबर्ग की नेटवर्थ
फेसबुक का नाम बदलकर मेटा रखना मार्क जुकरबर्ग के लिए घाटे का सौदा साबित हुआ है. मेटा के शेयरों में जारी गिरावट के सिलसिले से उनकी नेटवर्थ पर बड़ा असर पड़ा है. कभी दुनिया के टॉप-10 अमीरों में मौजूदगी दर्ज कराने वाले जुकरबर्ग अब अरबपतियों की लिस्ट में फिसलकर 29वें पायदान पर पहुंच चुके हैं. फोर्ब्स की रियल टाइम बिलेनियर्श लिस्ट के मुताबिक, मार्क जुकरबर्ग की नेटवर्थ (Mark Zuckerberg Net Worth) महज 33.5 अरब डॉलर रह गई है.

About bheldn

Check Also

ब्रिटेन के पीएम और उनकी पत्‍नी की रईसी कैसे बढ़ा रही इन्‍फोसिस? अमीरों की लिस्‍ट में और ऊपर

नई दिल्‍ली: इन्‍फोसिस के कारण ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक और उनकी पत्‍नी अक्षता मूर्ति …