‘बयानबाजी करने वाले 12 घंटे में होंगे बाहर’, वेणुगोपाल ने राजस्थान कांग्रेस के नेताओं को दिया राहुल का मैसेज

जयपुर,

राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा दाखिल होने से पहले कांग्रेस के नेता एकजुट दिखने लगे हैं. जयपुर में कांग्रेस के संगठन महासचिव KC वेणुगोपाल सचिन पायलट और अशोक गहलोत के बीच झगड़ा मिटाने का प्रयास करते दिखे. लेकिन इससे पहले केसी वेणुगोपाल ने मीटिंग में कहा- आज के बाद कोई भी नेता एक दूसरे के खिलाफ स्टेटमेंट देता है तो 12 घंटे में उसे कांग्रेस पार्टी से हटा दूंगा. दोनों नेताओं का हाथ पकड़कर ऊपर उठाया और कहा कि हम साथ-साथ हैं. लेकिन दोनों नेताओं के बीच तल्खी इतनी ज्यादा है कि हाथ उठाने के बावजूद इन्होंने कोई बात नहीं की.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा सचिन पायलट को गद्दार कहे जाने के बाद जिस तरह से राहुल गांधी ने हस्तक्षेप किया था. उसी वजह से यह सुलह हो पाई है. कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और महासचिव जयराम रमेश ने साफ कर दिया था कि KC वेणुगोपाल को दोनों नेताओं के बीच संबंध सुधारने के लिए जयपुर भेजा जा रहा है. हालांकि अगले दिन उन्होंने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा की बैठक के लिए केसी वेणुगोपाल जयपुर जा रहे हैं. जयपुर के कांग्रेस के वार रुम में दोनों नेताओं के बीच वॉर खत्म करने के लिए बैठक की गई.

वेणुगोपाल ने ऐसे निभाई अहम भूमिका
बैठक शुरू होने से पहले ही KC वेणुगोपाल दोनों नेताओं के बीच तटस्थ दिखने के लिए न तो सचिन पायलट से मिले और न ही अशोक गहलोत से मिले. ठीक साढ़े 3 बजे दोनों ही कांग्रेस के नए नवेले अस्पताल रोड के वार रूम में पहुंच गए.

बयान देने वाले को किया जाएगा पार्टी से बाहर
केसी वेणुगोपाल ने मीटिंग में बैठते ही कहा- लिसेन टू मी, आई एम रीपीटिंग लिसेन टू मी. आज के बाद कोई भी नेता एक दूसरे के खिलाफ स्टेटमेंट देता है तो 12 घंटे में उसे कांग्रेस पार्टी से हटा दूंगा. यह संदेश में राहुल गांधी का लेकर आया हूं. मीटिंग खत्म होने के बाद केसी वेणुगोपाल ने सचिन पायलट को बुलाया और फिर अशोक गहलोत को बुलाया और दोनों को लेकर एक कमरे में चले गए. दोनों को केसी वेणुगोपाल ने नसीहत दी कि राहुल गांधी ने कहा है कि भारत जोड़ो यात्रा में कोई खलल नहीं होनी चाहिए और पार्टी के लिए एकजुटता से काम करो.थोड़ी देर बाद मुख्यमंत्री अशोक गलत बाहर आए और उन्होंने कहा कि राहुल गांधी ने कह दिया है कि दोनों नेता एसेट हैं तो दोनों ही नेता एसेट हैं और उनके कहने का मतलब समझिए कि कांग्रेस के सभी कार्यकर्ता एसेट हैं.

इससे पहले उन्होंने दिन में कहा था कि राहुल गांधी ने मेरे बारे में नहीं कहा है बल्कि वह रेफरेंस में बोल रहे थे कि कांग्रेस का हर कार्यकर्ता एसेट है. लेकिन जब तीन घंटे बाद बैठक खत्म हुई तो कहा गया कि पहले सचिन पायलट अपनी बात रखेंगे फिर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपनी बात रखेंगे और उसके बाद केसी वेणुगोपाल अपनी बात रखेंगे. इस बीच अंदर से जो तस्वीरें आईं उसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बगल में सचिन पायलट बैठे तो थे मगर दोनों की दिशाएं अलग-अलग थी और दूरियां साफ दिख रही थीं.

बाहर आने पर पहले सचिन पायलट ने राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की जमकर तारीफ की और कहा कि पार्टी एकजुटता के साथ भारत जोड़ो यात्रा में लगी हुई है और BJP इससे घबराई हुई है. उसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बारी आई. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट और अशोक गहलोत दोनों एसेट हैं और दोनों मिलकर राजस्थान में कांग्रेस के लिए काम करेंगे.

केसी वेणुगोपाल ने कहा- कार्रवाई होगी
इसके बाद KC वेणुगोपाल बोले. उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा के बारे में बताया और आखिरी में कहा कि दोनों नेता एक हैं और जो हमारी एडवाइजरी के बाद बयान दिए गए हैं उनके बारे में रिपोर्ट मांगी गई है उन सब पर कार्रवाई होगी.

गौरतलब है कि इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का चेहरा बिल्कुल उतरा हुआ था और उतना ही सचिन पायलट का चेहरा भी उतरा हुआ था. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राजनीति के माहिर खिलाड़ी हैं. लिहाजा जब वे सचिन पायलट को एसेट बता रहे थे तो उनके चेहरे पर हंसी आ गई. लेकिन उसके बाद भी वो सचिन पायलट को एसेट बताकर खुश नहीं थे. केसी वेणुगोपाल ने दोनों का हाथ उठाकर हम साथ-साथ हैं की मुद्रा में फोटो खिंचवाया. लेकिन उसके बाद दोनों ही नेताओं ने एक दूसरे से बात तक नहीं की.

केसी वेणुगोपाल पहली बार इस विजिट में मुख्यमंत्री निवास में नहीं गए. जब केसी वेणुगोपाल एयरपोर्ट के लिए निकल रहे थे तो अशोक गहलोत गाड़ी में बैठते हुए केसी वेणुगोपाल से मिलने गए और कुछ कान में कहते नजर आए. जिसके बाद केसी वेणुगोपाल ने उन्हें समझाया फिर केसी वेणुगोपाल की पीठ पर हाथ रखते हुए अशोक गहलोत आगे बढ़ गए और अपनी गाड़ी में बैठकर निकल गए.

राहुल कराएंगे समझौता
आपको बता दें कि कांग्रेस की कोशिश है कि किसी भी तरह से दोनों नेताओं के बीच झगड़े का असर राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर न पड़े. साथ ही पार्टी की यह भी कोशिश है कि सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ऐसी ही तस्वीर भारत जोड़ो यात्रा में भी देखने को मिले. यह भी कहा जा रहा है कि एक बार फिर से राहुल गांधी सचिन पायलट और अशोक गहलोत का हाथ एक साथ उतर उठवा कर अपनी भारत जोड़ो यात्रा में तस्वीर खिंचवा सकते हैं.

About bheldn

Check Also

ममता बनर्जी पर गरम अधीर रंजन चौधरी के विद्रोही तेवर, खरगे के बयान पर बोले-मैं नहीं करूंगा वेलकम

कोलकाता पश्चिम बंगाल कांग्रेस अध्यक्ष और लोकसभा के पांच बार के सदस्य अधीर रंजन चौधरी …