अब वर्ल्ड बैंक के बदले सुर, कहा- भारत में है दम, आगे बढ़ता रहेगा, अगले वित्त वर्ष में आएगी गिरावट

नई दिल्ली,

भारत के लिए अच्छी खबर आई है…दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती इकोनॉमी आगे भी इसी रफ्तार से बढ़ेगी. ये हम नहीं कह रहे, बल्कि विश्व बैंक ने भरोसा जताया है. World Bank ने चालू वित्त वर्ष 2022-23 के लिए भारत के जीडीपी ग्रोथ रेट के अनुमान को बढ़ाकर 6.9 फीसदी कर दिया है.

पहले जताया था ये अनुमान
World Bank की ओर से ग्रोथ रेट के अमुमान को बढ़ाना निश्चित तौर पर भारत के लिए एक शानदार खबर है. वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि चालू वित्त वर्ष 2022-23 में भारतीय अर्थव्यवस्था 6.9 फीसदी की दर से आगे बढ़ेगी. गौरतलब है कि विश्व बैंक ने बीते अक्टूबर महीने में विभिन्न कारणों का हवाला देते हुए भारत के आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को 7.5 फीसदी से घटाकर 6.5 फीसदी किया था.

अच्छा परफॉर्म कर रही इकोनॉमी
बिजनेस स्टैंडर्ड के मुताबिक, विश्व बैंक ने मंगलवार को जारी अपनी रिपोर्ट में कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था अच्छा परफॉर्म कर रही है और दूसरी तिमाही के जीडीपी के आंकड़े उम्मीद से बेहतर आ सकते हैं. इन सब कारणों से पूरे वित्त वर्ष के ग्रोथ रेट के अनुमान को बढ़ाया जा रहा है. भारत में विश्व बैंक के कंट्री डायरेक्टर अगस्टे कौमे ने न्यू इंडिया डेवलपमेंट अपडेट में कहा, ‘भारतीय अर्थव्यवस्था उल्लेखनीय रूप से लचीली रही है और मजबूत मैक्रोइकॉनॉमिक फंडामेंटल्स ने इसे दूसरों की तुलना में अच्छी स्थिति में रखा है.

सितंबर में उम्मीद से बेहतर थे GDP आंकड़े
सितंबर तिमाही में भारत की जीडीपी में 6.3 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई थी, हालांकि, यह एक साल पहले की समान अवधि में 8.4 फीसदी की तुलना में धीमी थी. लेकिन, वैश्विक हालातों और दुनिया की दूसरी अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले ये आंकड़ा बेहतर ता. यही नहीं, जीडीपी वृद्धि को लेकर एनालिस्ट का ने जो अनुमान जाहिर किया था, ये उससे बेहतर था.

अगले वित्त वर्ष में आएगी गिरावट
विश्व बैंक के ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष में ग्रोथ रेट में तेजी आने की उम्मीद जताई है, तो वहीं अगले वित्त वर्ष में इसमें थोड़ी गिरावट देखने को मिलेगा. वर्ल्ड बैंक ने कहा है कि अगले फाइनेंशियल ईयर में इंडियन इकोनॉमी 6.6 फीसदी की दर से आगे बढ़ेगी. इससे पहले विश्व बैंक ने 7 फीसदी की दर से ग्रोथ करने का अनुमान जताया था, जिसमें कटौती की गई है.

About bheldn

Check Also

बेरोजगारी के दौर में आधे पदों पर पुलिस की भर्ती क्यों… गुजरात हाईकोर्ट का सरकार से तीखा सवाल

मुंबई: गुजरात हाईकोर्ट ने बेराेजगारी के बाद भी पुलिस विभाग में सिर्फ आधे पदों पर …