दुनिया के सबसे विवादित समुद्र में युद्धाभ्यास करेंगे रूस और चीन

मॉस्को,

रूस लगातार पूरी दुनिया को डराने का काम कर रहा है. पहले उसने दुनिया की सबसे खतरनाक मिसाइल एवनगार्ड तैनात की. अब राजधानी मॉस्को से सोमवार यानी 19 दिसंबर 2022 को एक ऐसी खबर आई है, जिससे पूरी दुनिया परेशान हो सकती है. रूस ने कहा है कि उसकी नौसेना चीन की नेवी के साथ मिलकर 21 से 27 दिसंबर तक पूर्वी चीन सागर में युद्धाभ्यास करेंगे.

रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि हम चीन की नौसेना के साथ मिलकर आपसी नौसैनिक संबंधों को मजबूत करना चाहते हैं. इसलिए मॉस्को और बीजिंग मिलकर पूर्वी चीन सागर में नौसैनिक ड्रिल करेंगे. ये ड्रिल 21 से 27 दिसंबर तक चलेगा. इस दौरान मिसाइलें दागी जाएंगी. आर्टिलरी से भी हमला किया जाएगा. साथ ही पनडुब्बियों को टारगेट बनाया जाएगा.

रक्षा मंत्रालय की तरफ से जारी बयान के मुताबिक इस नौसैनिक युद्धाभ्यास का मुख्य मकसद है दोनों देशों के बीच नौसैनिक संबंधों को बेहतर और प्रगाढ़ बनाना. इससे एशिया-प्रशांत क्षेत्र में शांति का माहौल बनेगा. इस युद्धाभ्यास में चीन की तरफ से दो डेस्ट्रॉयर, पेट्रोल शिप, सप्लाई शिप और एक पनडुब्बी शामिल होगी.

इसके अलावा चीन की सेना की तरफ से पैसिफिक फ्लीट के एयरक्राफ्ट और हेलिकॉप्टर्स को भी शामिल किया जाएगा. रूस की तरफ से भी इसी तरह के जंगी जहाज और विमान युद्धाभ्यास में रहेंगे. इस युद्धाभ्यास को लेकर दुनिया भर में कयास लगाया जा रहा है कि रूस और चीन शीत युद्ध के समय के साथी थे. ये फिर से एकदूसरे के साथ आ रहे हैं. पिछले कुछ सालों में रूस और चीन एकदूसरे के काफी करीब आए हैं. दोनों कहते हैं कि उनके बीच बिना किसी सीमा के संबंध है. ताकि वो दुनिया पर बढ़ रहे अमेरिका के प्रभाव को कम कर सकें.

About bheldn

Check Also

‘बाइडेन को याद नहीं कि…’, राष्ट्रपति चुनाव से नाम वापस लेने के बाद डोनाल्ड ट्रंप का तंज

नई दिल्ली, अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव से जो बाइडेन के अपना नाम वापस लेने के …