नेता राहुल या खरगे? अय्यर ने बताया कांग्रेस अध्यक्ष और लीडर के बीच का महीन फर्क

नई दिल्ली

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद की ओर से कहा गया है कि गांधी परिवार हमारे नेता हैं, राहुल गांधी हमारे नेता हैं और वो रहेंगे। पार्टी को चलाने के लिए एक फुल टाइम अध्यक्ष की जरूरत थी जो सिर्फ इसी काम को करे। जो बड़े काम करने हैं वो हमारे नेता करते रहेंगे। सलमान खुर्शीद की ओर से यह बात कांग्रेस के नए अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे के पार्टी की कमान संभालने के बाद क्या कुछ बदला है के जवाब में कही गई। सलमान खुर्शीद के इस बयान के बाद बीजेपी को एक बार फिर कांग्रेस पर हमला करने का मौका मिल गया। बीजेपी की ओर से कहा गया कि खरगे जी सिर्फ एक मुखौटा हैं, मुख नहीं हैं। कांग्रेस ने एक चेहरे के ऊपर दूसरा चेहरा लगाया है। सलमान खुर्शीद की ओर से जो बात कही गई इसको लेकर जब कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कांग्रेस में यह परंपरा शुरू से है तो सवाल आज क्यों उठे।

कांग्रेस में यह शुरू से तो सवाल आज क्यों
मणिशंकर अय्यर ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि हमारी पार्टी के इतिहास में हमेशा कांग्रेस के जो अध्यक्ष रहे हैं वो हमेशा हमारे नेता नहीं रहे हैं। मिसाल के तौर पर महात्मा गांधी जब पार्टी के नेता थे उस वक्त कई लोग पार्टी के अध्यक्ष बने। जवाहर लाल नेहरू जब नेता थे उस वक्त कई लोग लोग अध्यक्ष बने। इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री बनीं तब अलग-अलग लोग अध्यक्ष बने। नेता कोई रहा है तब कई दूसरे अध्यक्ष बने। अय्यर ने कहा कि उस ऐतिहासिक दर्शन में देखें तो गांधी परिवार खासकर राहुल गांधी जिस तरीके से वह भारत जोड़ो यात्रा का नेतृत्व करते हुए आगे बढ़ रहे हैं वह कांग्रेस के नेता हैं। मल्लिकार्जुन खरगे अध्यक्ष हैं। कांग्रेस में यह परंपरा शुरू से है तो सवाल आज क्यों उठे।

सुरक्षा चूक की बात कह रहे हैं तो गलत क्या
राहुल गांधी की सुरक्षा को लेकर उठाए गए सवाल पर मणिशंकर अय्यर ने कहा कि हम ऐसी स्थिति चाहते हैं कि जहां हर भारतीय अपने को सुरक्षित समझे। हम ऐसी पार्टी हैं जहां दो हत्या का अनुभव है। इंदिरा जी गईं राजीव जी के साथ क्या हुआ। यह स्वभाविक हम अपने नेताओं की सुरक्षा का ध्यान दें। जो साथ चल रहे हैं उनको लग रहा है कि चूक है तो इसमें क्या गलत है। विपक्ष का क्या काम है। सरकार का कर्तव्य क्या बनता है उन सवालों का जवाब देना। संसद में जवाब देते नहीं और न ही आमतौर पर सवालों का जवाब दिया जाता है। हम सवाल करते रहेंगे जब तक संतुष्ट नहीं होंगे। सीमा पर क्या स्थिति है, हम मौका मांग रहे हैं संसद में मौका नहीं मिल रहा है।

बीजेपी देश को तोड़ रही तो वोट आखिर कैसे?
भारत तोड़ने वाले सवाल पर मणिशंकर अय्यर ने कहा कि धर्म के आधार पर क्षेत्र के आधार पर भाषा के आधार पर और दो पूंजीपतियों को सब देकर आम जनता को पीड़ित किया जा रहा है। वहीं यह पूछे जाने पर कि यदि बीजेपी देश को तोड़ रही है तो इतना वोट कैसे। मणिशंकर अय्यर ने कहा कि बहुत आसान सवाल है 2014 और 2019 एक तिहाई वोट के आधार दो तिहाई सीट है। 80 से 85 फीसदी आबादी एक धर्म की है लेकिन मोदी जी को एक तिहाई वोट मिलता है। सलमान खुर्शीद के राहुल गांधी से भगवान राम की तुलना के सवाल पर अय्यर ने कहा कि यह सवाल उनसे ही पूछिए।

About bheldn

Check Also

रिजर्वेशन पर पीएम मोदी ने चला दांव जिसका 2024 में दिखेगा सीधा असर!

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (BJP) दक्षिण के राज्‍यों में अपनी पकड़ को ढीला नहीं …