RSS प्रचारक निंबाराम का दावा, महात्मा गांधी से पहले डॉ. हेडगेवार ने लड़ी आजादी की लड़ाई

जयपुर

राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक निंबाराम ने दावा किया है कि भारत की आजादी की लड़ाई महात्मा गांधी से पहले डॉ. हेडगेवार ने लड़ी थी। उन्होंने कहा कि स्वाधीनता संग्राम 1857 में ही शुरू हो गया था जिसमें सेठ-साहूकार, किसान, मजदूर और हर वर्ग के लोग शामिल हुए थे। इस स्वाधीनता संग्राम का नेतृत्व केशव बलिराम हेडगेवार ने किया था। जयपुर में लेखक याजवेन्द्र यादव की लिखी पुस्तक ‘तुष्टिकरण की यात्रा 1921-2021 सैक्युलर्स एंड लिबरल्स’ के विमोचन समारोह में ये बातें कही। निंबाराम ने कहा कि 1857 में शुरू हुए स्वतंत्रता संग्राम में महात्मा गांधी 1915 में शामिल हुए थे। गांधी से पहले हेडगेवार स्वतंत्रता संग्राम के नेतृत्व कर रहे थे जिन्होंने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की स्थापना भी की थी। एतिहासिक तथ्यों को गलत तरीके से पेश करके गुमराह करने की कोशिशें होती रही है।

भारत जोड़ने की बात करने वाले बताएं भारत तोड़ा किसने – निंबाराम
पुस्तक विमोचन समारोह के दौरान निंबाराम ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि जो लोग आज भारत जोड़ने की बातें कर रहे हैं, उन्हें बताना चाहिए कि भारत को तोड़ा किसने। आजादी के वक्त केवल देश का विभाजन नहीं हुआ बल्कि राष्ट्रगीत वंदेमातरम का भी हुआ और राष्ट्रीय ध्वज को भी बदल दिया गया। निंबाराम ने कहा कि हम तो अखंड भारत के पूजारी हैं। आजादी के आन्दोलन में हमारी भूमिका सबसे महत्वपूर्ण रही है। जो लोग यह पूछते हैं कि आरएसएस का आजादी में क्या योगदान है, उन्हें इतिहास की सही जानकारी नहीं है। जिन्हें इतिहास का ज्ञान प्राप्त करना है, उन्हें याजवेन्द्र यादव की यह पुस्कत ‘तुष्टिकरण की यात्रा 1921-2021 सैक्युलर्स एंड लिबरल्स’ जरूर पढनी चाहिए। यह पुस्तक शोधग्रंथ है, इसमें इतिहास की हकीकत बताई गई है।

झूठ को हजार बार बोलने से वह सच नहीं हो जाता
पुस्तक विमोचन समारोह के दौरान अखिल भारतीय शैक्षिक महासंघ के अध्यक्ष जीव सिंघल ने कहा कि एक ही झूठ को हजार बार बोलने से वह सच नहीं हो जाता है। आजकर सोशल मीडिया का जमाना है। कई बार सोशल मीडिया पर झूठे तथ्यों को वायरल कर दिया जाता है जिससे लोग गुमराह हो जाते हैं। सही और गलत में फर्क पता करने के लिए तथ्यों को परखना अतिआवश्यक है। सिंघल ने कहा कि सुनियोजित साजिश के तहत हमारे देश में नफरत फैलाने का काम पश्चिम देशों से फंडिंग आती है। इन्हें रोकना आज की सबसे बड़ी जरूरत है।

About bheldn

Check Also

घर में पत्नी ने की खुदकुशी तो अस्पताल में फांसी के फंदे से झूलती मिली पति की लाश

कोच्चि, केरल के कोच्चि में पत्नी की मौत के बाद एक शख्स निजी अस्पताल में …