जिंदगियां तबाह करना हमारे पड़ोसी की आदत… नए साल के जश्न में डूबी थी दुनिया और यूक्रेन में बरस रही थीं रूसी मिसाइलें

कीव

यूक्रेन की राजधानी कीव और देश के अन्य हिस्सों में शनिवार को हुए कई विस्फोटों में कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई और 14 घायल हो गए, जो यह दिखाता है कि नए साल के पहले रूसी हमले तेज हो गए। कुछ यूक्रेनवासियों ने नववर्ष की छुट्टियों में परिवारों से मिलने के लिए देश लौटने के खतरे को भी धता बता दिया। यूक्रेन के अधिकारियों ने दावा किया कि रूस अब जान-बूझकर नागरिकों को निशाना बना रहा है, ताकि 2023 को खूनी वर्ष के रूप में पेश करने के लिए डर का माहौल तैयार किया जा सके।

यूक्रेन की प्रथम महिला ओलेना जेलेंस्का ने नववर्ष की पूर्व संध्या के जश्न से ठीक पहले इतने बड़े मिसाइल हमले को लेकर आक्रोश व्यक्त किया। उन्होंने कहा, ‘दूसरों की जिंदगी बर्बाद करना हमारे पड़ोसियों की घिनौनी आदत है।’ विस्फोट भी असामान्य रूप से तेज गति से हुए कि रूस की ओर से गुरुवार को ऊर्जा अवसंरचना सुविधाओं को नुकसान पहुंचाने के लिए बड़ी संख्या में मिसाइल दागने के 36 घंटे बाद अधिकारियों को सतर्क किया जा सका।

यूक्रेन में नए साल का जश्न फीका
यूक्रेन के विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने हाल के दिनों में नागरिकों पर हुए हमलों का उल्लेख किया। उन्होंने आगे कहा कि इस बार रूस ने न केवल ऊर्जा के बुनियादी ढांचों को, बल्कि आवासीय इलाकों को भी निशाना बनाया है। कीव में शनिवार दोपहर को विभिन्न आवासीय इमारतों और नागरिक अवसंरचनाओं को निशाना बनाया। यू्क्रेन में बड़ी संख्या में लोग रूसी बमबारी और बिजली तथा पानी की कमी से जूझ रहे हैं और नए साल का जश्न यहां फीका रहने की संभावना है क्योंकि 10 महीने पहले रूस द्वारा शुरू किया गया युद्ध जारी है।

पुतिन ने किया ‘यूक्रेन पर हमले’ का बचाव
नए साल पर देशवासियों को संबोधित करते हुए रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पश्चिमी देशों पर आक्रामक रुख अपनाने और रूस को कमजोर करने के लिए यूक्रेन युद्ध का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। इस दौरान पुतिन ने यूक्रेन पर हमले के अपने फैसले का बचाव किया। उन्होंने कहा कि मॉस्को के पास रूस की सुरक्षा पर खतरे के कारण यूक्रेन में सेना भेजने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था।

About bheldn

Check Also

राहुल और अखिलेश के साथ से यूपी में बनेगी बात, न्याय यात्रा में शामिल होने का मतलब समझिए

आगरा आखिर वो घड़ी आ ही गई, जिस घड़ी को सपा-कांग्रेस को बेसब्री से इंतजार …