13 किमी तक कैसे फंसी रही वह? देखिए जब अंजलि बनकर बलेनो के नीचे घुसी पुलिस

दिल्ली के कंझावला केस में अंजलि की मौत को लेकर फॉरेंसिक टीम की जांच का दायरा बढ़ रहा है। सूत्रों के मुताबिक, एफएसल टीम को कार का वो हुक नहीं मिला है जिसमें अंजलि फंसकर 13 किलो मीटर तक घसीटती चली गई।एफएसएल सूत्रों का कहना है कि घटना जो भी हो, लेकिन कई किलोमीटर तक शव कार में कैसे फंसा रहा, इसकी जांच की जा रही है। अभी तक माना जा रहा है कि हादसे के बाद लड़की का पैर अगले टायर के पास एक्सेल में फंस गया था।

घिसटने से जल गया अंजलि का शव
भारी-भरकम कार के दबाव के कारण शव सड़क पर इतने दबाव के साथ घिसट रहा था कि वह जल भी गया था। इस केस में गिरफ्तार पांचों आरोपियों से अब तक कई राउंड की पूछताछ हो चुकी है। वो एक्सिडेंट और उसके बाद के घटनाक्रम को लेकर विरोधाभासी बयान दे रहे हैं।

दीपक कर रहा था ड्राइविंग
सूत्रों के मुताबिक, आरोपियों में तीन युवकों ने ड्राइविंग कर रहे दीपक और आगे बगल की सीट पर बैठे मनोज मित्तल पर गंभीर आरोप लगाए हैं। कार उस रात मंगोलपुरी निवासी दीपक चला रहा था। एक्सिडेंट साइट और अन्य जगहों से लिए गए ब्लड सैंपल, पांचों आरोपियों से लिए गए ब्लड सैंपल और क्राइम सीन के रीक्रिएशन- ये तीन रिपोर्ट दिल्ली पुलिस को सौंप सकती है फॉरेंसिंक लैब।

About bheldn

Check Also

UP: मां से अवैध संबंध, 8 साल की बेटी से रेप, लखनऊ में मदरसे का मौलाना गिरफ्तार

लखनऊ , लखनऊ के एक मदरसे में पढ़ने वाली मासूम बच्ची के साथ कुकर्म का …