जातिवाद खत्म करने के लिए करें टिफिन मीटिंग… मिशन कर्नाटक के लिए नड्डा की बीजेपी कार्यकर्ताओं को सलाह

तुमकुरू

बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में रिपोर्ट कार्ड (कामकाज का लेखाजोखा) की राजनीति की शुरुआत की है। उन्होंने कहा कि बीजेपी अपने कामकाज व प्रदर्शन की बदौलत आगामी कर्नाटक विधानसभा के चुनाव में जनता के समक्ष जाएगी। बीजेपी के तुमकुरू और मधुगिरी विधानसभा क्षेत्रों के शक्ति केंद्र प्रमुखों की एक बैठक को संबोधित करते हुए नड्डा ने कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे बीजेपी की समावेशी राजनीति का संदेश लेकर जनता के बीच और इस बात की कतई परवाह ना करें कि सामने वाला व्यक्ति किस जाति, धर्म और लिंग का है।नड्डा ने कहा, ‘जब हम चुनावों में जाएंगे तो रिपोर्ट कार्ड लेकर जाएंगे। हमारा हर नेता गर्व के साथ कहेगा कि हमने जो वादे किए हैं उन्हें पूरा किया है और हमने जो वादे नहीं भी किए थे, उन्हें भी पूरा किया है।’

‘कर्नाटक को आगे बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी’
उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे जनता के बीच जाएं तो कहें कि ना ही पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा और ना ही वर्तमान मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कर्नाटक को आगे बढ़ाने में कोई कसर छोड़ी है।नड्डा ने कहा कि ऐसे कार्यकर्ताओं से मिलने तुमकुरू आए हैं जो जमीन पर कड़ी मेहनत करते हैं और पार्टी व सरकार के संदेश को जनता के बीच पहुंचाते हैं। उन्होंने कहा, ‘मैंने कर्नाटक के सभी क्षेत्रों का दौरा करने का फैसला किया है। हम चुनाव की तैयारी कर रहे हैं इसलिए मैं सीधे कार्यकर्ताओं से संवाद करूंगा।’

बीजेपी वर्कर को टिफिन मीटिंग की सलाह
बीजेपी अध्यक्ष ने पार्टी कार्यकर्ताओं से समाज को एकजुट रखने और जातिवाद समाप्त करने के लिए टिफिन बैठकें आरंभ करने को कहा। उन्होंने दावा किया कि जब साथ बैठकर भोजन का आदान प्रदान होगा तो इससे एकजुटता और पार्टी की विचारधारा का संदेश जाएगा। इस सम्मेलन में बीजेपी की कर्नाटक इकाई के अध्यक्ष नलीन कुमार कटील, राष्ट्रीय महासचिव व कर्नाटक के प्रभारी अरुण सिंह, प्रदेश सरकार के मंत्री जे सी मधुस्वामी, बी सी नागेश, ए ज्ञानेंद्र सहित कई अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे। कर्नाटक में इसी साल अप्रैल-मई महीने में विधानसभा चुनाव हो सकता है।

कांग्रेस पर साधा जातिवाद का निशाना
कांग्रेस पर वोटबैंक की राजनीति का आरोप लगाते हुए नड्डा ने कहा कि विपक्षी पार्टी जाति को जाति से, क्षेत्र को क्षेत्र से और भाई को भाई से लड़ाने का काम करती है। उन्होंने कहा कि जब से नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने हैं और ‘सबका साथ, सबका विश्वास’ के मंत्र पर चले हैं तब से से जातिवादी और वंशवाद की राजनीति समाप्त हुई है।

सिद्धरमैया के बयान पर जताई आपत्ति
नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने देश की राजनीति की संस्कृति और चरित्र को ही बदल डाला है। उन्होंने कहा, ‘देश की राजनीतिक संस्कृति ही बदल गई है।’ मुख्यमंत्री बोम्मई के बारे में ‘पिल्ले’ वाले बयान देने के लिए कांग्रेस नेता सिद्धरमैया पर निशाना साधते हुए नड्डा ने कहा, ‘ऐसे बयान से मुझे बहुत दुख हुआ है। कर्नाटक की राजनीति के मानक को नीचे गिराने का काम किया है। नेता की पहचान उसके बयान से होती है।’

उन्होंने कहा कि बीजेपी अपने राजनीतिक विरोधियों का भी सम्मान करती है और प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में सहकारी संघवाद को मजबूत किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ”वे (कांग्रेस के नेता) यहां लड़ते हैं, उन्हें अपने हाईकमान से मिलने का अवसर नहीं मिलता है। वे दूसरों के बारे में हल्की बातें करते हैं।’

About bheldn

Check Also

सपा-कांग्रेस गठबंधन फाइनल, कांग्रेस को सीतापुर समेत 17 सीटें, अखिलेश के ऐलान से बढ़ी हलचल

लखनऊ, आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस में बात बन गई है. …