अल-अक्सा मस्जिद विवाद के बीच ईसाइयों के निशाने पर क्यों आया इजरायल

नई दिल्ली,

अल-अक्सा मस्जिद विवाद के बीच इजरायल के यरुशलम के कब्रिस्तान में ईसाइयों की कब्र टूटी-फूटी मिलने से इजरायल सरकार एक बार फिर धार्मिक कट्टरता के आरोपों के घेरे में है. सीसीटीवी फुटेज में यहूदी पोशाक पहने लोगों को तोड़फोड़ करते दिखने के बाद इजरायल सरकार ने सफाई देते हुए कहा है कि अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा.

दरअसल, इजरायल के धुर दक्षिणपंथी नेता के यरुशलम स्थित अल-अक्सा मस्जिद दौरे के बाद इस्लामिक देशों ने कड़ी चेतावनी दी है. अल-अक्सा मस्जिद भी यरुशलम में ही स्थित है. इस प्राचीन स्थल को यहूदी, मुस्लिम और ईसाई का संगम स्थल माना जाता है. लेकिन पिछले कई सालों से यह जगह विवादों के घेरे में है.

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार, एक एंग्लिकन बिशप होसाम नौम ने बताया कि यरुशलम के पुराने शहर में 30 से ज्यादा ईसाई कब्रों में तोड़फोड़ की गई है. जिसके बाद पुलिस ने इस घटना की जांच शुरू कर दी है. रिपोर्ट के अनुसार, सियोन पर्वत (Mount Zion) पर स्थित कब्रिस्तान में तोड़फोड़ की गई है. ईसाइयों का मानना है कि इसी स्थान पर यीशु ने अंतिम बार भोजन ग्रहण किया था.चर्च के अधिकारियों ने बताया है कि कब्र में तोड़फोड़ का पता मंगलवार को चला है. अधिकारी ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के अनुसार, एक जनवरी को यहूदी पोशाक पहने हुए दो लोग कब्रिस्तान में फोड़फोड़ करते दिख रहे हैं.

ईसाइयों के खिलाफ नफरतः चर्च
चर्च के बिशप होसाम नौम ने क्षतिग्रस्त कब्र को लेकर कहा कि हम न केवल निराश हैं बल्कि हम बहुत दुखी भी हैं. वहीं, यरुशलम के एपिस्कोपल डायोसिस (Episcopal Diocese ) चर्च ने अधिकारिक बयान जारी करते हुए इस तोड़फोड़ को धार्मिक कट्टरता और ईसाइयों के खिलाफ नफरत बताया है.सियोन पर्वत यरुशलम स्थित पुराने शहर की दीवारों के बाहर स्थित है. यह स्थल तीर्थयात्रियों को भी आकर्षित करता है. इस कब्रिस्तान की स्थापना 19वीं शताब्दी के मध्य में की गई थी. इस कब्रिस्तान में पादरी, वैज्ञानिकों और राजनेताओं सहित कई हस्तियों की कब्र है.

सरकार ने क्या कहा
इजरायल के विदेश मंत्रालय ने ट्वीट करते हुए यरुशलम के सियोन माउंट कब्रिस्तान में तोड़फोड़ की घटना की निंदा की है. विदेश मंत्रालय ने लिखा है कि इजरायल अपनी स्थापना के बाद से ही सभी धर्मों के लोगों के लिए पूजा और धर्म की स्वतंत्रता के लिए प्रतिबद्ध है और इस नीति को जारी रखेगा.इजरायल के विदेश मंत्रालय ने इस तोड़फोड़ को अनैतिक और धर्म का अपमान बताते हुए कहा है कि अपराधियों पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा.इजरायली पुलिस ने मंगलवार को बताया है कि घटना की जांच शुरू कर दी गई है.

इजरायली मंत्री के अल-अक्सा मस्जिद दौरे के बाद विवाद
इजरायल के राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्री और कट्टर दक्षिणपंथी मंत्री इतामार बेन-गविर के अल-अक्सा मस्जिद दौरे के बाद इजरायल एक बार फिर विवादों में हैं. इस दौरे के बाद अरब देशों और इजरायल के बीच तनाव चरम पर है. पाकिस्तान, सऊदी अरब समेत कई इस्लामिक देशों ने इजरायल को चेतावनी भी दी है. इसके अलावा इस्लामिक देशों का संगठन ओआईसी और फिलिस्तीन के प्रधानमंत्री ने इजरायल पर आरोप लगाया है कि मंत्री का यह दौरा अल-अक्सा मस्जिद की यथास्थिति बदलने की कोशिश है.

About bheldn

Check Also

भारत आ रहे तीन रूसी टैंकरों पर अमेरिका ने लगाया बैन, तेल का क्या होगा?

नई दिल्ली, फरवरी 2022 में शुरू हुए रूस-यूक्रेन युद्ध के बाद से ही भारत रूस …