उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका, नासिक और परभणी से 90 कार्यकर्ताओं ने थामा एकनाथ शिंदे का दामन

मुंबई

शिवसेना (यूबीटी) को बड़ा झटका लगा है। करीब 90 नेता और कार्यकर्ता शुक्रवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली बालासाहेबंची शिवसेना (बीएसएस) में शामिल हो गए। इनमें सबसे अधिक कार्यकर्ता नासिक जिले से गए हैं। कार्यकर्ता, ब्लॉक से लेकर जिला स्तर के नेताओं तक, नासिक से लगभग 60 और परभणी से 30 स्थानीय शिवसेना (यूबीटी), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, कांग्रेस और अन्य शामिल थे, जिन्होंने बीएसएस का दामन थामा।

शुक्रवार दोपहर पार्टी में उनका स्वागत करते हुए शिंदे ने कहा कि आने वाले दिनों में कई और लोग बीएसएस में शामिल होंगे, जो दिवंगत बालासाहेब ठाकरे और आनंद दीघे के आदशरें पर काम कर रहे हैं।

‘हम सभी को साथ लेकर चलते हैं’
शिंदे ने कहा, ‘बीएसएस-बीजेपी सरकार पिछले छह महीनों में बहुत अच्छा काम कर रही है, इसलिए इतने सारे लोग पार्टी की ओर आकर्षित हुए हैं और आने वाले दिनों में कई और लोग हमारा समर्थन करेंगे, क्योंकि हम सभी को साथ लेकर चलते हैं।’सीएम ने कहा, ‘हम बहुत तेजी से और शांति से काम कर रहे हैं, जबकि कुछ लोग जो कुछ नहीं करते हैं, वे अपने योगदान के बड़े-बड़े दावे करते हैं और यही कारण है कि राज्य के लोग सरकार का समर्थन कर रहे हैं।’

संजय राउत का पलटवार
शिवसेना (यूबीटी) के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने पलटवार करते हुए कहा कि जो जा रहे हैं वे पार्टी के लिए जरूरी नहीं हैं। पार्टी अभी भी नासिक और परभणी दोनों में मजबूत बनी हुई है।महाराष्ट्र विधान परिषद में शिवसेना (यूबीटी) की उपाध्यक्ष डॉ. नीलम गोरहे ने कहा कि अगर कार्यकर्ता और नेता इस तरह पार्टी छोड़ रहे हैं तो पार्टी नेतृत्व को घटनाक्रम पर गंभीरता से ध्यान देना चाहिए।

About bheldn

Check Also

मंत्री पद छोड़ने के बाद क्या कांग्रेस भी छोड़ेंगे विक्रमादित्य सिंह? जानें क्या दिया जवाब

शिमला: हिमाचल की सियासत में राज्यसभा चुनाव के बाद भूचाल सा आ गया है। सुक्खू …