राहुल सत्‍ता में आ सकते हैं, जो जनता के बीच जाएगा उसकी सरकार बनेगी- भारत जोड़ो यात्रा पर बोले राजभर

बस्‍ती

सुभासपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने साल 2024 के चुनावों की चर्चा करते हुए कहा कि साल 2024 का चुनाव समझौते पर लड़ा जाएगा। लेकिन समझौता सिद्धांतों पर नहीं होगा। भारत जोड़ो यात्रा पर उन्‍होंने कहा, राहुल जनता के बीच जा रहे हैं, उनकी सरकार बन सकती है। राजभर शनिवार को बस्‍ती में थे। उन्‍होंने तीन बार के विधायक और सपा के कद्दावर नेता राम ललित चौधरी को अपनी पार्टी की सदस्यता दिलाई। पूर्व विधायक के साथ सैकड़ों समर्थकों ने सुभासपा का दामन थाम लिया। ओपी राजभर ने राम ललित चौधरी को पार्टी का उपाध्यक्ष घोषित किया।

गठबंधन के सवाल पर ओपी राजभर ने मीडिया को जवाब देते हुए कहा, साल 2024 का चुनाव समझौते से ही लड़ा जाएगा, अभी हम अकेले उस हैसियत में नहीं हैं कि लोकसभा का चुनाव अपने दम पर लड़ सकें। आज की तारीख में न कोई किसी का दोस्त है न दुश्मन है, बड़े नेता सब एक हैं।

कांग्रेस और राहुल गांधी पर राजभर नरम नजर आए। भारत जोड़ो यात्रा पर उन्‍होंने कहा, ‘हो सकता है राहुल गांधी जी सत्ता में आ जाएं। कोई भी राजनीतिक दल जब आंदोलन चलाते हैं तो कोई न कोई नाम रखते हैं, चाहे सावधान यात्रा चल रहा हो, चाहे भारत जोड़ो यात्रा। उसी के बहाने लोगों के बीच जाकर लोग अपनी विचारधारा बताते हैं। पहले कांग्रेस जनता के बीच थी तो कांग्रेस की सरकार थी। कांग्रेस की सरकार बनी जब जनता से हट गई तो कांग्रेस चली गई। फिर यूपी में सपा, बसपा और कांसीराम जी जनता के बीच आए तो उन की सरकार बनी फिर वो पार्टी जनता से हट गई और पार्टी खत्म हो गई। मुलायम सिंह जी जनता के बीच थे सरकार बनी, जनता से हटे सरकार चली गई, बीजेपी जनता के बीच चली गई आज उस की सरकार है। राहुल गांधी जी जनता के बीच जा रहे हैं उनकी सरकार बन सकती है।

अलग-अलग दलों के साथ समझौते को लेकर ओमप्रकाश राजभर ने कहा, हमने बीजेपी के साथ समझौता किया। जब हमारे विचार से विचार नहीं मिले तो बीजेपी के तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जी लखनऊ में समझौता कराने आए। लेकिन बात नहीं बनी तो हमने मंत्री पद से रिजाइन दे दिया। मेरा यह कदम शायद उत्तर प्रदेश की राजनीति में पहला कदम था।’

समाजवादी पार्टी से समझौते पर उन्‍होंने कहा, ‘हमने सपा से गठबंधन किया लेकिन सपा ने हमारे साथ धोखा किया। चुनाव से पहले हम को बहकाते रहे जब चरणबद्ध चुनाव आया तो हमको 12 रिजर्व सीट दे दिया और उस पर भी अपना कंडीडेट दे दिया। उनकी मंशा थी की सरकार तो हमारी बन रही है लेकिन ओम प्रकाश राजभर को ऐसा कमजोर करें कि ओम प्रकाश राजभर फ्री बिजली, फ्री शिक्षा, जातिगत जनगणना की बात पर लड़ रहा हो जब इस के पास विधायक नहीं रहेंगें तो लड़ नहीं सकेगा। लेकिन अखिलेश यादव को यह नहीं मालूम था की पूरे रामायण में हनुमान जी अकेले थे।

About bheldn

Check Also

पिता ने बदला पाला तो पार्टी ने छीना बेटे का पद, मुंबई यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष पद से विधायक जीशान सिद्धिकी को हटाया

मुंबई कांग्रेस नेता बाबा सिद्धिकी ने कांग्रेस छोड़ी तो कांग्रेस ने उनके विधायक बेटे जीशान …