नीतीश कुमार का बयान सड़क छाप, उन्हें महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए : सुशील मोदी

पटना

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यह कहकर विवाद खड़ा कर दिया है कि बिहार में जनसंख्या नियंत्रण में नहीं आएगी क्योंकि पुरुष जिम्मेदारी नहीं लेते हैं जबकि महिलाएं अशिक्षित रहती हैं, नीतीश कुमार के इस बयान को लेकर भाजपा नेता सुशील मोदी ने कहा है कि उनका बयान सड़क छाप बयान है। सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार को महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार वैशाली में अपनी “समाधान यात्रा” के बीच एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

नीतीश कुमार का पूरा बयान
नीतीश कुमार का यह बयान उस दिन दिया गया जब उनकी सरकार ने जाति आधारित जनगणना के पहले चरण की शुरुआत की है। नीतीश कुमार ने बयान देते हुए कहा कि “महिलाएं पढ़ लेंगी तभी यह प्रजनन दर घटेगा । अभी भी वही है, आज अगर महिलाएं नहीं पढ़ी हुई हैं उन्हें ध्यान में ही नहीं रहता है कि बच्चा पैदा नहीं करना है । महिला पढ़ी रहती है तो उसको सब चीज़ ज्ञान हो जाता है कि भाई कैसे हमको बचना है।”

नीतीश कुमार के इस बयान से राज्य में सियासी बवाल मच गया है, बीजेपी नेता सम्राट चौधरी ने कहा है कि उन्होंने बिहार की छवि खराब की है। चौधरी ने कहा, “मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा अभद्र शब्दों का प्रयोग असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा है। ऐसे शब्दों का प्रयोग कर वह मुख्यमंत्री पद की गरिमा को धूमिल कर रहे हैं।”

सुशील मोदी ने क्या कहा ?
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इस बयान को लेकर सुशील मोदी ने कहा कि नीतीश कुमार के इस बयान को सड़क छाप बयान कहा जा सकता है। सुशील मोदी ने कहा कि एक मुख्यमंत्री को इस तरह की सेक्सिस्ट टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। नीतीश कुमार को बिहार की महिलाओं से माफी मांगनी चाहिए।

About bheldn

Check Also

‘अमूल मतलब विश्वास, किसानों का सशक्तिकरण…’, गुजरात डेयरी संघ के कार्यक्रम में बोले PM मोदी

नई दिल्ली, पीएम मोदी गुरुवार को अहमदाबाद दौरे पर पहुंचे हैं. वह यहां गुजरात सहकारी …