ईरान: एंटी हिजाब कैंपेन में शामिल 3 और प्रदर्शनकारियों को मिली सजा-ए-मौत

नई दिल्ली,

ईरान में न ही हिजाब के खिलाफ विरोध थमने का नाम ले रहा है और न ही सरकार प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने से पीछे हटती नजर आ रही है. महसा अमिनी की मौत के बाद ईरान में शुरू हुए प्रदर्शनों ने अब एक आंदोलन का रूप ले लिया है. हालांकि, इस्लामिक देश की सरकार इस इस आंदोलन को कुचलने की पूरी कोशिश कर रही है.

ईरान की एक अदालत ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले 3 और प्रदर्शनकारियों को मौत की सजा सुनाई है. उन पर ‘ईश्वर के खिलाफ युद्ध छेड़ने’ का आरोप है. प्रदर्शनकारियों पर इतनी सख्त कार्रवाई के बाद अब अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ईरान की आलोचना तेज हो गई है.

प्रदर्शन में शामिल 2 लोगों को हाल ही में ईरान के अंदर फांसी दी गई है. उन पर प्रदर्शन के दौरान सिक्योरिटी फोर्स के जवान की हत्या करने का आरोप था. इन दोनों में से एक कराटे चैंपियन था, जिसके पास कई राष्ट्रीय खिताब थे. लगातार लोगों की दी जा रही इस क्रूर सजा के लिए यूरोपीय संघ, संयुक्त राज्य अमेरिका और दूसरे पश्चिमी देश लगातार ईरान की निंदा कर रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जिन 3 प्रदर्शनकारियों को फांसी की सजा सुनाई गई है, उनके नाम सालेह मिरहाशमी, माजिद काजेमी और सईद याघौबी है. इन तीनों को इस्फ़हान शहर में सरकार विरोधी प्रदर्शनों के दौरान सरकार समर्थित मिलिशिया के लोगों की कथित हत्या का दोषी ठहराया गया था. दरअसल, ईरान में महसा अमिनी की मौत के बाद जारी सरकार विरोधी प्रदर्शनों को कुचलने में सरकार समर्थित मिलिशिया सबसे आगे रहे हैं.

ईरान की सरकार के इन फैसलों का पोप फ्रांसिस भी विरोध कर चुके हैं. तीन प्रदर्शनकारियों को मौत की सजा दिए जाने पर भी पोप ने ईरान सरकार का विरोध किया. उन्होंने कहा किय प्रदर्शनकारियों को मिल रही मौत की सजा से जीने का अधिकार खतरे में पड़ गया है. वहां महिलाओं के सम्मान के लिए प्रदर्शन हो रहे हैं. ईरान में प्रदर्शनकों की शुरुआत 16 सितंबर 2022 को हुई 22 वर्षीय कुर्द ईरानी महिला महसा अमिनी की मौत के बाद हुई थी, जिसने बाद में राष्ट्रव्यापी समर्थन हासिल कर लिया.

हिजाब न पहनने पर इन्हें मिली सजा
– 12 जुलाई 2022 को ईरान की एक्ट्रेस रोश्नो को हिजाब न पहनने पर गिरफ्तार किया गया. कई दिनों तक टॉर्चर कर उनसे नेशनल टीवी पर माफी मंगवाई गई.
– 8 मार्च 2018 के दिन राजधानी तेहरान में एक महिला ने अनिवार्य हिजाब के खिलाफ विरोध जताया और अपना हिजाब उतारकर छड़ी के सहारे टांग दिया. महिला को 2 साल की सजा सुनाई गई. 3 महीने तक उसे पैरोल तक नहीं मिली.
– 2 फरवरी 2018 के दिन ईरान की पुलिस ने सार्वजनिक जगह पर बिना हिजाब के घूम रहीं 29 महिलाओं को गिरफ्तार किया. ईरानी पुलिस ने इसे विदेश में रह रहे ईरानियों के दुष्प्रचार का हिस्सा बताया.

About bheldn

Check Also

FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर आय UAE, इन देशों को भी मिली बड़ी राहत, नाम जानें

पेरिस फ्रांस की राजधानी पेरिस में स्थित वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) नेसंयुक्त अरब अमीरात …