सब साथ हों तो भारत हिंदू राष्ट्र… त्रिवेणी संगम में स्नान के बाद धीरेंद्र शास्त्री की हुंकार, जातिवाद पर कही ये बात

प्रयागराज

बागेश्वर धाम सरकार कथावाचक धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री प्रयागराज पहुंचे हैं। गुरुवार की सुबह हुए संगम तट पर पहुंचे। प्रयागराज संगम में आस्था की डुबकी लगाई। इस मौके पर पूरा संगम क्षेत्र भगवत नारों से गूंज उठा। प्रयागराज संगम में स्नान के बाद मां शीतला कृपा महोत्सव में शामिल होने के लिए धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री रवाना हुए हैं। मेजा में उनके दिव्य दरबार का आयोजन होना है। त्रिवेणी संगम में डुबकी लगाने के बाद धीरेंद्र शास्त्री ने सतुआ बाबा से मुलाकात की है। प्रयागराज आगमन को लेकर संतों के एक समूह ने धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का विरोध किया था। हालांकि, गुरुवार को बड़ी संख्या में पहुंचे संतों ने धीरेंद्र शास्त्री का स्वागत किया। उनकी अगवानी कर संत उन्हें संगम की धारा की तरफ ले जाते दिखे। हर हर महादेव और हर हर गंगे के नारों से पूरा संगम क्षेत्र गूंजता रहा।

संतोष बाबा के शिविर पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री
त्रिवेणी संगम में स्नान और ध्यान के बाद धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री विभिन्न संतों से आशीर्वाद लेने पहुंचे। वे बागेश्वर धाम में होने वाले यज्ञ और अपने अभियान के लिए उनका आशीर्वाद लिया। माघ मेला में पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री ने संगम नगरी में अपना दरबार लगाया। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे हैं। युवा चेतना मंच की ओर से इस कार्यक्रम को पूरा कराया जा रहा है। धीरेंद्र शास्त्री संतोष बाबा के शिविर में भी पहुंच कर उनका आशीर्वाद लिया।

संतों ने किया धीरेंद्र शास्त्री का भव्य स्वागत
बागेश्वर धाम सरकार धीरेंद्र शास्त्री का स्वागत संगम तट पर संतों ने किया। बागेश्वर धाम सरकार लगातार विवादों में घिरे हुए हैं। पिछले दिनों उनके विवादों के बीच गायब होने का मामला सामने आया था। इसके बाद उन्होंने उत्तराखंड से वीडियो जारी कर बागेश्वर धाम में होने वाले यज्ञ में संतों-महात्माओं को आमंत्रित किए जाने की बात कही। अब वे प्रयागराज पहुंचे हैं।

धीरेंद्र शास्त्री यहां पर संत-महात्माओं का आशीर्वाद लेने पहुंचे हैं। संगम तट पर स्नान के दौरान बागेश्वर धाम सरकार के जय-जयकारे भी लगे। बागेश्वर धाम सरकार के समर्थक इस दौरान बड़ी संख्या में उनके साथ जुटे दिखे। हिंदू राष्ट्र के भी नारे इस दौरान लगते रहे।

About bheldn

Check Also

मुगलों के ताजमहल से लड़ने को तैयार है आगरा की ये सफेद इमारत, 104 साल में हुई तैयार, अब यहां का भी लगेगा टिकट

आगरा का नाम आते ही, जहन में सबसे पहला नाम ताजमहल का आता है, और …