‘देसी अंदाज’ में रोटी बना रहे बिल गेट्स से PM मोदी ने कहा- एक और नया ट्रेंड है, ट्राई कीजिए

नई दिल्ली,

इन दिनों माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिलगेट्स का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें वे बिहारी स्टाइल में रोटी बनाते दिख रहे हैं. दरअसल सेलिब्रिटी शेफ ईटन बर्नथ ने अपने सोशल मीडिया पर ये वीडियो शेयर किया था जिसके बाद से वह वायरल हो गया. अब इस वीडियो को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इंस्टाग्राम स्टोरी पर शेयर किया है. पीएम मोदी ने इस वीडियो के साथ लिखा है ‘शानदार बिल गेट्स, भारत में लेटेस्ट ट्रेंड मिलेट यानी मोटे अनाज का है. ये काफी पौष्टिक होता है. मोटे अनाज से कई व्यंजन तैयार होते हैं. आप उन्हें बनाने की कोशिश कर सकते हैं.’

सेलेब्रिटी शेफ ने बिहार में सीखा रोटी बनाना
वायरल हुए वीडियो में देखा जा सकता है कि बिल गेट्स ने बामुश्किल खुद आटा गूंथकर रोटी बनाई और उसपर घी लगाकर खाया. ऐसा करने में ईटन उनकी मदद कर रहे हैं. वीडियो में ईटन खुद बता रहे हैं कि जब वह भारत के बिहार राज्य में घूमने गए थे तो उन्होंने वहीं पर रोटी बनानी सीखी. ईटन ने भारत में चलने वाली ‘दीदी की रसोई’ की तारीफ भी की है और यह वीडियो अपने ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया है.

भारत में मोटे अनाज के दिया जा रहा बढ़ावा
गौरतलब है कि भारत में इस समय मोटे अनाज को बढ़ावा दिया जा रहा है. हाल में वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन ने अपने बजट भाषण में भी कहा था कि सरकार भारत को श्रीअन्न (मोटा अनाज) का वैश्विक हब बनाने की दिशा में काम कर रही है. भारत इसको लोकप्रिय बनाने में सबसे आगे है. उन्होंने भारत में सदियों से खाए जाने वाले श्रीअन्न का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार इसके उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए छोटे किसानों के साथ मिलकर काम करेगी.

भारत को मोटे अनाज का वैश्विक हब बनाने की तैयारी
उन्होंने कहा, ‘श्रीअन्न की खपत से पोषण, खाद्य सुरक्षा और किसानों के काम को बढ़ावा मिलता है, माननीय प्रधानमंत्री जी ने ऐसा कहा है. हम दुनिया में श्रीअन्न के सबसे बड़े उत्पादक और दूसरे सबसे बड़े निर्यातक हैं. हम कई प्रकार के श्रीअन्न उगाते हैं जैसे- ज्वार, श्री रागी, श्रीअन्न बाजरा, श्रीकुट, श्रीअन्न रामदाना, कांगनी, कुटकी, कोदो, चीना और सामा.’ उन्होंने आगे कहा, ‘इनके ढेरों स्वास्थ्य फायदे हैं और ये सदियों से हमारे भोजन का मुख्य अंग बने रहे हैं. मैं इन श्रीअन्न को उगाकर देशवासियों की सेहत में योगदान करने के लिए छोटे किसानों के प्रति आभार व्यक्त करती हूं. अब भारत को श्रीअन्न का वैश्विक हब बनाने के लिए भारतीय बाजार अनुसंधान संस्थान हैदराबाद को उत्कृष्टता केंद्र के रूप में बढ़ावा दिया जाएगा.’

मोटे अनाज में श्रेणी क्या आता है?
बताते चलें कि ज्वार, रागी, बाजरा, कुट, रामदाना, कांगनी, कुटकी, कोदो, चीना और सामा मोटे अनाजों की श्रेणी में आते हैं. भारत में सदियों से प्रचलित मोटे अनाज अब पश्चिमी देशों में भी लोकप्रिय हो रहे हैं क्योंकि ये ग्लूटन फ्री होते हैं.

सीएम बाघेल ने अमिताभ बच्चन को तोहफे में भेजा मोटा अनाज
मोटे अनाज को बढ़ावा देने की कड़ी में हाल में मकर संक्रांति के मौके पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई फिल्मी हस्तियों को बाजरे का गिफ्ट हैम्पर भेजा था. इसके लिए बॉलीवुड मेगास्टार अमिताभ बच्चन ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ की कई विशेषताएं हैं. बाजरा भेजने के लिए धन्यवाद। इस पत्र को मुख्यमंत्री ने अपने ट्विटर अकाउंट पर साझा करते हुए अमिताभ बच्चन को धन्यवाद दिया.

About bheldn

Check Also

ब्रिटेन के पीएम और उनकी पत्‍नी की रईसी कैसे बढ़ा रही इन्‍फोसिस? अमीरों की लिस्‍ट में और ऊपर

नई दिल्‍ली: इन्‍फोसिस के कारण ब्रिटेन के पीएम ऋषि सुनक और उनकी पत्‍नी अक्षता मूर्ति …