रूस से बेधड़क तेल खरीदे भारत, अमेरिका नहीं उठाएगा उंगली… ‘सुपर पावर’ ने भी मानी हिंदुस्तान की ताकत!

वॉशिंगटन

रूस-यूक्रेन युद्ध शूरू होने के बाद पश्चिमी देशों ने भारत पर दबाव बनाने की कोशिश की थी कि वह रूस से व्यापार न करे। हालांकि यह दबाव भारत पर बेअसर साबित हुआ और उसने हिंसा की आलोचना करते हुए रूस से तेल खरीदना जारी रखा। अब अमेरिका समझ चुका है कि भारत उसके आगे नहीं झुकेगा। यूरोपीय और यूरेशियन मामलों के अमेरिकी असिस्टेंट सेक्रेटरी करेन डोनफ्राइड ने बुधवार को कहा कि अमेरिका रूस से तेल खरीदने के लिए नई दिल्ली पर प्रतिबंध नहीं लगाएगा। उन्होंने कहा कि भारत-अमेरिका के संबंध सबसे अधिक अहम हैं।

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, डोनफ्राइड ने कहा कि हम भारत पर प्रतिबंध लगाने के बारे में नहीं सोच रहे हैं। भारत के साथ हमारा संबंध सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। भारत जितना चाहे उतना तेल रूस से खरीद सकता है। भारत लगातार हिंसा की निंदा कर रहा है और बातचीत के माध्यम से विवाद को हल करने पर जोर दे रहा है। अपने नागरिकों के हित के लिए भारत ने रूस के साथ व्यापार जारी रखने का कड़ा रुख अपनाया है।

भारत-अमेरिका सुरक्षा एजेंडा बेहद खास
पिछले साल जब पश्चिमी देशों ने भारत पर दवाब बनाने की कोशिश की, तब विदेश मंत्री एस जयशंकर ने यूरोप में आलोचकों की बोलती बंद कर दी थी। अमेरिका के ऊर्जा संसाधन के असिस्टेंट सेक्रेटरी जेफ्री पायट ने कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पिछले एक साल में वैश्विक ऊर्जा बाजारों को बाधित करने के लिए जो किया है उसे देखते हुए भारत और अमेरिका जिस ऊर्जा सुरक्षा एजेंडे पर काम कर रहे हैं, वह बेहद महत्वपूर्ण है।

एस-400 मिसाइट सिस्टम की तीसरी रेजीमेंट तैयार
उन्होंने कहा कि रूस ने अपने तेल और गैस को हथियार बनाकर यह दिखा दिया कि वह फिर से एक विश्वसनीय एनर्जी सप्लायर नहीं बन पाएगा। यह वैश्विक तेल और गैस की कीमतों में एक मामूली बढ़ोत्तरी का कारण बना, जो दुनियाभर में अभी भी जारी है। ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार दिसंबर 2022 में, भारत ने एक दिन में औसतन 1.2 मिलियन बैरल तेल खरीदा, जो नवंबर में खरीदे गए तेल से 29 फीसदी ज्यादा था। तेल के अलावा भारत रूस से सबसे ज्यादा हथियार खरीदता है। रूस की तरफ से भारत को एस-400 मिसाइल सिस्टम का तीसरा रेजीमेंट जल्द मिलने वाला है।

About bheldn

Check Also

इजरायल को हथियार, ईरान से चाबहार डील, एक साथ दो दुश्मनों को साध गया भारत, देखते रहे चीन-पाक

तेल अवीव भारत, इजरायल के शीर्ष हथियार आयातक देशों में शुमार है। दोनों देश हर …