LIC का बड़ा ऐलान- अडानी ग्रुप में नहीं घटाएंगे निवेश, लेते रहेंगे योजनाओं की जानकारी

नई दिल्ली,

गौतम अडानी के नेतृत्व वाले Adani Group पर छाये हिंडनबर्ग के साये के बीच समूह में एलआईसी (LIC) ने अपने निवेश को लेकर जारी खबरों पर बड़ी प्रतिक्रिया दी है. LIC की ओर से ऐलान किया गया है कि अडानी ग्रुप में उनका इन्वेस्टमेंट जस का तस रहेगा और इसे बिल्कुल भी नहीं घटाया जाएगा. देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी के चेयरमैन एम. आर. कुमार ने ये बड़ी बात कही है.

LIC चेयरमैन ने कही बड़ी बात
Adani Group में निवेश नहीं घटाने के अपने बयान में एलआईसी चेयरमैन ने कहा कि हम अडानी ग्रुप मैनेजमेंट को कभी-कभी सिर्फ बिजनेस प्रोफाइल जानने के लिए बुलाएंगे. इसके साथ ही हम इस बात की जानकारी समय-समय पर लेंगे कि समूह में किन योजनाओं पर काम किया जा रहा है और इन्हें कैसे प्रबंधित किया जा रहा है.

हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद संकट में घिरे अडानी ग्रुप के लिए ये राहत भरी खबर है. इससे पहले कहा गया था कि ग्रुप में इन्वेस्टमेंट को लेकर उठ रहे सवालों के बीच सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनी के अधिकारी अडानी ग्रुप के टॉप मैनेजमेंट के साथ बैठक करेंगे और समूह के विभिन्न कारोबारों से जुड़े संकट को लेकर जानकारी लेंगे और यह जानने की कोशिश करेंगे कि वह स्थिति से निपटने के लिए क्या कर रहे हैं.

तीसरी तिमाही में ताबड़तोड़ मुनाफा
बता दें एलआईसी का शुद्ध लाभ (LIC Net Profit) चालू वित्त वर्ष की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में तेज बढ़ोतरी के साथ 8,334.2 करोड़ रुपये पर पहुंच गया है. ये आंकड़ा एक साल पहले की समान अवधि में 235 करोड़ रुपये रहा था. वहीं इससे पहले सितंबर तिमाही के आंकड़े देखें तो बीमा कंपनी ने 15,952 करोड़ रुपये का मुनाफा दर्ज किया था.

स्टॉक मार्केट फाइलिंग में शेयर की गई जानकारी के मुताबिक, LIC की शुद्ध प्रीमियम आय दिसंबर 2022 को समाप्त तिमाही में 1,11,787.6 करोड़ रुपये रही, जो एक साल पहले 2021-22 इसी तिमाही में 97,620.34 करोड़ रुपये थी. इसमें 14.5 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. इसके अलावा 31 दिसंबर 2022 को समाप्त हुई तिमाही में एलआईसी का कुल एसेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) 44.34 लाख करोड़ रुपये रहा था.

एयूएम का 0.97% निवेश किया गया
अडानी ग्रुप में एलआईसी के निवेश (LIC Investment In Adani Group) की बात करें, तो LIC की ओर से अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के नतीजों का ऐलान करते हुए बताया गया कि उसके कुल एसेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) का सिर्फ 0.97 फीसदी ही अडानी ग्रुप में इन्वेस्ट किया गया है. वहीं बीते 7 फरवरी 2023 को संसद में केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री भागवत किसनराव कराड द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, अडानी ग्रुप की तमाम कंपनियों में एलआईसी ने 30,127 करोड़ रुपये का निवेश किया हुआ है.

हिंडनबर्ग रिपोर्ट से अडानी ग्रुप को भारी नुकसान
गौरतलब है कि Hindenburg की रिसर्च रिपोर्ट में अदानी ग्रुप पर फर्जी लेन-देन, शेयरों में हेरा-फेरी समेत कर्ज को लेकर भी बड़े दावे किए गए हैं. इसमें 88 सवालों के जरिए कई गंभीर आरोप लगाए गए हैं. 24 जनवरी 2023 को इस रिपोर्ट के पब्लिश होने के बाद से अडानी ग्रुप को 117 अरब डॉलर से ज्यादा का नुसकान हो चुका है. वहीं गौतम अडानी की नेटवर्थ में भी बड़ी गिरावट देखने को मिली है.

Forbe’s Real Time Billionaires Index के मुताबिक, गौतम अडानी की कुल संपत्ति कम होकर 58.7 अरब डॉलर रह गई. इसके साथ ही वे अरबपतियों की लिस्ट में फिर से खिसककर 21वें पायदान पर पहुंच गए.

About bheldn

Check Also

नहीं बेच सकते ‘मां का दूध’… 5 लाख जुर्माना, FSSAI ने कहा- तुरंत लगे रोक

नई दिल्‍ली , भारत खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (FSSAI) ने ह्यूमन मिल्क को एक …