सुप्रीम कोर्ट जाएगा ठाकरे गुट, उद्धव बोले- दिल्ली के सामने महाराष्ट्र को झुकाने वाला निर्णय

मुंबई

चुनाव आयोग के फैसले के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस दौरान ठाकरे ने कहा कि चुनाव आयोग का फैसला लोकतंत्र के लिए घातक है। केंद्र सरकार की दादागिरी चल रही है। उन्होंने कहा कि निर्णय बहुत ही अनअपेक्षित है। हमारी यह लड़ाई सुप्रीम कोर्ट में है। मैंने कहा था कि जब तक सुप्रीम कोर्ट का फैसला नहीं होता, तब तक चुनाव आयोग यह फैसला न दे। पार्टी किसकी है, किसकी नहीं यह अगर चुनकर आए लोगों के आधार पर ही होगा तो पार्टी संगठन का क्या होगा।

एकनाथ शिंदे पर हमला बोलते हुए ठाकरे ने कहा कि कुछ लोगों को राज्य मान्यता मिलना, उनके लिए बहुत बड़ी बात होगी, लेकिन चोर-चोर ही होता है। मैं लगातार चुनौती दे रहा हूं कि मैदान में आइए और चुनाव लड़िए। आज के निर्णय से यह लग रहा है कि अगले दो महीने में बीएमसी के चुनाव हो सकते हैं। दिल्ली के सामने मुंबई और महाराष्ट्र झुके यह निर्णय यही दिखाता है। ठाकरे ने कहा कि हम चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। उन्होंने कहा कि असली धनुष-बाण मेरे पास है और रहेगा।

ठाकरे ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में जीत हमारी ही होगी। पार्टी की चोरी शिंदे को हजम नहीं होगी। जनता आने वाले चुनाव में चुप नहीं होगी। ठाकरे ने कहा कि 24 में यह फैसला चुनाव आयोग ने कैसे दे दिया। ये लड़ाई आखिरी तक लड़ेंगे,जीत हमारी होगी। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। जिसने बाला साहबे ठाकरे का मुखौटा पहन लिया है, वो कभी भी सच्चा शिनसैनिक नहीं हो सकता।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि हम निश्चित तौर पर चुनाव आयोग के इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे। हमें यकीन है कि सुप्रीम कोर्ट इस आदेश को रद्द कर देगा और 16 विधायकों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा। मैंने कहा था कि चुनाव आयोग को सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले फैसला नहीं देना चाहिए। यदि विधायकों और सांसदों की संख्या के आधार पर पार्टी का अस्तित्व तय किया जाता है, तो कोई भी पूंजीपति विधायक, सांसद खरीद सकता है और मुख्यमंत्री बन सकता है।

यह लोकतंत्र की जीत है: शिंदे
इससे पहले चुनाव आयोग के फैसले के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि यह हमारे कार्यकर्ताओं, सांसदों, विधायकों, जनप्रतिनिधियों और लाखों शिवसैनिकों सहित बालासाहेब और आनंद दीघे की विचारधाराओं की जीत है। यह लोकतंत्र की जीत है। शिंदे ने कहा कि यह देश बाबासाहेब अंबेडकर द्वारा तैयार किए गए संविधान पर चलता है। हमने उस संविधान के आधार पर अपनी सरकार बनाई। चुनाव आयोग का आज जो आदेश आया है वह मेरिट के आधार पर है। मैं चुनाव आयोग का आभार व्यक्त करता हूं।

असली शिवसेना एकनाथ शिंदे की शिवसेना: देवेंद्र फडणवीस
महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि सीएम एकनाथ शिंदे की शिवसेना को शिवसेना का चिन्ह और नाम मिला है। असली शिवसेना एकनाथ शिंदे की शिवसेना बनी है। हम पहले दिन से आश्वस्त थे क्योंकि चुनाव आयोग के अलग पार्टियों के बारे में इसके पहले के निर्णय देखे तो इसी प्रकार का निर्णय आए हैं।

About bheldn

Check Also

स्लॉटर हाउस में अमानवीय स्थिति, दबिश देकर पुलिस ने 57 नाबालिग बच्चों का किया रेस्क्यू

गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की क्राइम ब्रांच पुलिस और थाना मसूरी पुलिस की संयुक्त …