‘हम अपनी भूमिका अच्छी तरह से जानते हैं…विपक्ष में कई लोगों की तरह दो-मुंहे नहीं’, नीतीश के बयान पर कांग्रेस

नई दिल्ली

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के यह कहने के एक दिन बाद कि वह सभी विपक्षी दलों को एक साथ लाने की दिशा में काम करने के लिए कांग्रेस से एक संकेत का इंतजार कर रहे हैं। इसके जवाब में कांग्रेस ने रविवार को कहा कि पार्टी अपनी भूमिका को अच्छी तरह से जानती है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को CPI-M के 11वें जनरल कन्वेंशन में था कि हम इंतज़ार कर रहे हैं बस आप लोग (कांग्रेस) जल्दी फैसला लें। अगर मेरा सुझाव मानें और सब साथ मिलकर लड़ें तो ये (भाजपा) 100 से नीचे जाएंगे, लेकिन अगर मेरा सुझाव नहीं मानेंगे तो क्या होगा वो आप जानिए। उन्होंने कहा था कि कांग्रेस को अब आगे का फैसला करना चाहिए। कांग्रेस विपक्षी एकजुटता में देरी न करे। हम इंतजार कर रहे हैं। कांग्रेस विपक्षी नेताओं को बुलाए और तय कर ले कहां से किसके साथ चुनाव लड़ना है।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के इसी बयान पर कांग्रेस ने कुछ विपक्षी दलों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि यह कुछ दलों की तरह नहीं है, जो विपक्षी बैठकों में शामिल होते हैं, लेकिन बाद में भाजपा के हित में काम करते हैं। कांग्रेस ने कहा कि उसे नेतृत्व करने के लिए किसी से प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है। कांग्रेस ने कुमार के बयान का स्वागत किया और कहा कि वह रायपुर, छत्तीसगढ़ में आगामी अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) पूर्ण सत्र में विपक्षी एकता जैसे मुद्दों पर फैसला करेगी। सत्र में देश भर से 1,800 एआईसीसी प्रतिनिधियों सहित लगभग 15,000 प्रतिनिधियों के भाग लेने की उम्मीद है।

कांग्रेस ने कहा कि हम अपनी भूमिका अच्छी तरह जानते हैं। कांग्रेस ही एकमात्र राजनीतिक दल है, जिसने भाजपा से समझौता नहीं किया है। कई विपक्षी दल मल्लिकार्जुन खड़गे द्वारा बुलाई गई बैठकों में जाते हैं, लेकिन बाद में उनके कार्य सत्ता पक्ष के हित में होते हैं। हम दो मुंहे वाले नहीं हैं। हमारे पास केवल एक ही मुंह हैं।

कांग्रेस नेता वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस पहले ही समान विचारधारा वाले विपक्षी दलों को एक साथ लाने की पहल कर चुकी है। उन्होंने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के दौरान हमने समान विचारधारा वाले राजनीतिक दलों को शामिल होने और भाजपा सरकार के खिलाफ एक आम लड़ाई के लिए आमंत्रित किया। अधिकांश समान विचारधारा वाले राजनीतिक दल शामिल हो गए। संसद में अडानी मुद्दे पर पूरा विपक्ष एक साथ रहा। उन्होंने कहा कि हम नीतीश कुमार के बयान का स्वागत करते हैं। निश्चित रूप से कांग्रेस पार्टी बड़े स्तर पर अपनी भूमिका को निभाएगी।कुमार की इस टिप्पणी पर कि यदि विपक्ष एकजुट हो जाता है तो भाजपा अगले साल चुनावों में 100 सीटों का आंकड़ा पार नहीं कर पाएगी, वेणुगोपाल ने कहा, “हमारा काम केवल यही करना है। हमारा मुख्य काम भाजपा की संख्या कम करना है।”

हमें किसी से प्रमाण पत्र की जरूरत नहीं: जयराम रमेश
कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि हमें किसी से प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है कि हमें नेतृत्व करने की आवश्यकता है, क्योंकि कोई भी विपक्षी एकता कांग्रेस के बिना असफल होगी। हम वह जानते हैं। हम नीतीश के बयान का स्वागत करते हैं, हम पूर्ण सत्र में इस पर चर्चा करेंगे कि चुनाव से पहले गठबंधन होना चाहिए या बाद में। रमेश ने कहा कि कांग्रेस पहले ही कई राज्यों में अन्य दलों के साथ गठबंधन कर चुकी है। उन्होंने कहा कि जब गठबंधन की बात आती है तो आप भूल जाते हैं कि हम केरल, तमिलनाडु, बिहार, महाराष्ट्र, झारखंड में गठबंधन में हैं। हम पूर्वोत्तर के कई राज्यों में गठबंधन में हैं। यह कहना गलत है कि कांग्रेस चुनाव से पहले गठबंधन नहीं करती। ऐसे कई राज्य हैं जहां हम चुनाव से पहले गठबंधन में हैं।

About bheldn

Check Also

मोदी ने 22 खास लोगों का 16 लाख करोड़ रुपये कर्ज माफ किया, हिमाचल को नहीं दिए पैसे, राहुल गांधी का PM पर बड़ा हमला

शिमला: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले 10 …