मैं गोमांस खाता हूं, मुझे इसमें कोई समस्या नहीं… मेघालय में मतदान से पहले बीजेपी चीफ का बड़ा बयान

गुवाहाटी

मेघालय के बीजेपी के प्रमुख अर्नेस्ट मावरी ने कहा है कि मैं बीफ खाता हूं और मैं बीजेपी में हूं, इसमें मुझे कोई दिक्कत नहीं है। उन्होंने आईएएनएस की तरफ से पूछे गए एक सवाल में जवाब में यह बात कही। उनसे पूछा गया था कि मेघालय जैसे राज्य में, जहां कम से कम 90 फीसदी लोग ईसाई धर्म का पालन करते हैं, क्या आप मानते हैं कि लोग गोमांस पर रोक, सीएए और अन्य मुद्दों पर बीजेपी के कट्टर रुख को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं?

मावरी ने कहा कि केंद्र में बीजेपी को सत्ता में आए नौ साल हो चुके हैं, और हमने किसी भी चर्च पर हमले होते नहीं देखा है। बीफ खाने पर भी कोई रोक नहीं लगाई जा रही है। बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष अर्नेस्ट मावरी ने पहाड़ी राज्य में क्या पक रहा है, इसे बताने के लिए बात की।

सवाल: बहुत भ्रम है। क्या एनपीपी और बीजेपी सहयोगी हैं?
अर्नेस्ट मावरी : मेघालय में, हमने एनपीपी के साथ कोई गठबंधन नहीं किया है। हम अपने दम पर लड़ रहे हैं, और वे भी अपने व्यक्तिगत बल पर लड़ रहे हैं। एनपीपी पिछले पांच वर्षों से बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार में शामिल है, और हमारी पार्टी ने भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस का रुख अपनाया है।

सवाल: लेकिन आप एनपीपी के नेतृत्व वाली सरकार का भी हिस्सा थे।
अर्नेस्ट मावरी: हां, हम एमडीए सरकार में रहे हैं। लेकिन भाजपा के पास केवल दो विधायक और एक मंत्री थे, और हमारे पास मंत्रालय में कोई महत्वपूर्ण विभाग नहीं था। सत्ता और अन्य विभाग, जहां पांच वर्षों में सबसे अधिक भ्रष्टाचार हुआ है, वे या तो एनपीपी या उनके गठबंधन सहयोगी, यूडीपी के पास थे।

सवाल: आप भ्रष्टाचार के बारे में कैसे जान सकते हैं?
अर्नेस्ट मावरी: एक साल में हमने बहुत सारे आरटीआई आवेदन दायर किए हैं, हमने देखा है कि वर्तमान शासन के तहत मेघालय में कितना बड़ा भ्रष्टाचार चल रहा। हमारे पास सारे रिकॉर्ड हैं।

सवाल: तो फिर आपने सरकार क्यों नहीं छोड़ी और आश्चर्य की बात है कि आज तक आपके एक मंत्री है!
अर्नेस्ट मावरी: देखिए, बीजेपी एक राष्ट्रीय पार्टी है और हम स्थानीय स्तर पर गठबंधन छोड़ने या बनाने का फैसला नहीं ले सकते। मेघालय में क्या हो रहा है, इसके बारे में हमने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को सूचित कर दिया था और इस मामले में उनके निर्णय का इंतजार कर रहे। एनपीपी यहां एनडीए और नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस (एनईडीए) का हिस्सा बनी हुई है। इसलिए नेडा के अध्यक्ष या दिल्ली में पार्टी के नेताओं को इस मुद्दे पर फैसला करना चाहिए।

सवाल: क्या आपने नेडा के अध्यक्ष हिमंत बिस्वा सरमा के साथ भ्रष्टाचार के मुद्दे पर चर्चा की है?
अर्नेस्ट मावरी: हां, पिछले कुछ सालों में जब भी असम के मुख्यमंत्री हमसे मिले, हमने उन्हें भ्रष्टाचार के बारे में बताया। उन्होंने हमें फैसले का इंतजार करने की सलाह दी।

सवाल: राजनीतिक विश्लेषक कह रहे हैं कि अगर एनपीपी सत्ता में आती है, तो BJP सरकार में वापसी का रास्ता खुला रखे हुए है।
अर्नेस्ट मावरी: नहीं, आपको इसे इस तरह नहीं देखना चाहिए। इस बार हमने प्रदेश की सभी 60 सीटों पर प्रत्याशी उतारे हैं। हम एक अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद कर रहे हैं और चुनाव परिणाम के बाद हम ऐसी पार्टियों की तलाश कर सकते हैं, जिनके हाथ भ्रष्टाचार में न डूबे हों।

सवाल: लेकिन, आपके पास चुनने के लिए बहुत कम विकल्प हैं। आप कांग्रेस या टीएमसी के साथ नहीं जा सकते।
अर्नेस्ट मावरी: इन दोनों पार्टियों के साथ जाना असंभव है। अभी हम ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतने पर ध्यान दे रहे हैं। हमें विधानसभा की 60 में से 34 सीटें जीतने का अनुमान है।

सवाल: कोनराड संगमा और मुकुल संगमा में से बेहतर मुख्यमंत्री कौन है?
अर्नेस्ट मावरी: मैं उनके बीच तुलना नहीं कर सकता। मैं कॉनराड संगमा के भ्रष्टाचार के बारे में पहले ही बात कर चुका हूं। अगर तृणमूल यहां जीतती है, तो राज्य बड़े पैमाने पर बांग्लादेशी घुसपैठ का गवाह बनेगा। हम काफी लंबे समय से इस मुद्दे का सामना कर रहे हैं, और हम यहां अधिक बांग्लादेशी लोगों को आमंत्रित नहीं कर सकते।

सवाल: लेकिन BJP नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लेकर आई है।
अर्नेस्ट मावरी : सबसे पहले सीएए में एक टाइमलाइन तय की गई है, इसके बाद बांग्लादेश के किसी भी व्यक्ति को यहां रहने की इजाजत नहीं दी जाएगी। इसके अलावा, केंद्र ने तीन साल पहले सीएए पेश किया था। क्या आपने कोई बांग्लादेशी घुसपैठ के मुद्दे देखे हैं? जवाब न है।

सवाल: मेघालय जैसे राज्य में, जहां कम से कम 90 प्रतिशत लोग ईसाई धर्म का पालन करते हैं, क्या आप मानते हैं कि लोग गोमांस पर प्रतिबंध, सीएए और अन्य मुद्दों पर BJP के कट्टर रुख को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं?
अर्नेस्ट मावरी : केंद्र में BJP को सत्ता में आए नौ साल हो चुके हैं, और हमने किसी भी चर्च पर हमले होते नहीं देखा है। बीफ खाने पर भी कोई रोक नहीं लगाई जा रही है। मैं बीफ खाता हूं और मैं बीजेपी में हूं, इसमें मुझे कोई दिक्कत नहीं है. मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि मेघालय की जनता इस बार बीजेपी के साथ है। यह आप दो मार्च को देखेंगे।

About bheldn

Check Also

स्लॉटर हाउस में अमानवीय स्थिति, दबिश देकर पुलिस ने 57 नाबालिग बच्चों का किया रेस्क्यू

गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद की क्राइम ब्रांच पुलिस और थाना मसूरी पुलिस की संयुक्त …