CHINA… जयशंकर ने ठोककर लिया चीन का नाम, सोरोस पर भी कांग्रेस को सुना दिया

नई दिल्ली

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कांग्रेस पर बड़ा हमला करते हुए कहा कि भारत चीन से नहीं डरता है और न ही पीएम नरेंद्र मोदी और मैं चीन का नाम लेने से डरते हैं। उन्होंने बीबीसी डॉक्यूमेंट्री पर भी सवाल उठाते हुए कहा कि आखिर ये अभी ही क्यों आई है। ये महज संयोग नहीं है। 1984 में दिल्ली में भी बहुत कुछ हुआ था लेकिन उसपर डॉक्यूमेंट्री क्यों नहीं बनी?

न्यूज एजेंसी ANI के साथ इंटरव्यू में विदेश मंत्री ने कांग्रेस, जॉर्ज सोरोस से लेकर विदेशी मीडिया पर भी निशाना साधा। जब उनसे पूछा गया कि कांग्रेस कहती है कि न तो आप और नही पीएम नरेंद्र मोदी चीन की बात करते हैं। इसपर जयशंकर ने कहा कि तो आखिर एलएसी पर सेना कौन तैनात कर रहा है। वहां सेना राहुल गांधी ने नहीं भेजा है। नरेंद्र मोदी ने सेना भेजी है। शांति काल के दौरान एलएसी पर अबतक की सबसे बड़ी ऐतिहासिक सैन्यबलों की तैनाती की गई है।

सुन लीजिए CHINA..जयशंकर ने कांग्रेस को सुना दिया
जयशंकर ने कहा कि आखिर चीन पर तैनाती हम तो कर रहे हैं। शांति काल के दौरान चीन सीमा पर सबसे बड़ी संख्या में सैन्य बलों की तैनाती की गई है। प्लीज नोटिस, मैं कह रहा हूं चाइना..CHINA।

आखिर रिपोर्ट की बाढ़ अभी क्यों?
विदेशी मीडिया में पीएम मोदी पर कई विरोधी लेख छपे हैं, जॉर्ज सोरोस ने लोकतंत्र पर जो कहा उसके बारे में भी कहा गया कि पीएम मोदी की इमेज खराब हुई है, इस सवाल के जवाब में जयशंकर ने कहा कि एक कहावत है War by other means, इसपर जरा सोचिएगा। ये एक प्रकार की राजनीति है, जो दूसरे तरीके से की जा रही है। आखिर क्यों अचानक से इतनी रिपोर्ट और विचारों की बाढ़ आ गई है। ये पहले क्यों नहीं हो रहा था।

लंदन, न्यूयॉर्क में चुनावी साल शुरू
बीबीसी डॉक्यूमेंट्री के सवाल पर जयशंकर ने कहा कि 1984 में दिल्ली में बहुत कुछ हुआ था। उसपर डॉक्यूमेंट्री क्यों नहीं बनी। आप कहते हैं ये टाइमिंग महज एक संयोग है। मुझे आप बताइए न ये क्यों हो रहा है। पता नहीं दिल्ली या भारत में चुनावी साल शुरू हुआ कि नहीं लेकिन लंदन और न्यूयॉर्क में शुरू हो चुका है।

राहुल ने कहा था- पीएम मोदी चीन का नाम लेने से डरते हैं
चीन और भारत के बीच मई 2020 से सीमा को लेकर विवाद चल रहा है. 2020 में गलवान में भारतीय सेना और चीनी सेना के बीच हिंसक झड़प हुई थी. इसमें भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे. चीन को भी काफी नुकसान पहुंचा था. हालांकि, चीन पर जानकारी छिपाने का आरोप लगता रहा है. इसके बाद से कांग्रेस चीन के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरती रही है. कांग्रेस का आरोप है कि पीएम मोदी चीन का नाम तक नहीं लेते. यहां तक कि राहुल गांधी ने यहां तक कह दिया था कि पीएम मोदी चीन का नाम लेने से डरते हैं.

पिछले साल अरुणाचल के तवांग में भी चीनी सेना और भारतीय जवानों के बीच झड़प हुई थी. दरअसल, चीनी सैनिकों ने भारतीय क्षेत्र में अतिक्रमण की कोशिश की थी. इसके बाद भारतीय सेना ने उन्हें खदेड़ दिया था. इसे लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बयान भी दिया था. हालांकि, इसे लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधा था. कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चीन को लेकर बहस से ‘भागने’ का आरोप लगाया था. उन्होंने कहा था कि इस मुद्दे पर जवाब प्रधानमंत्री मोदी को देना चाहिए न कि रक्षा मंत्री को.

About bheldn

Check Also

UP: मोबाइल छीन लेने से भड़की पत्नी, पति को बेहोश कर लगाया करंट, बैट से फोड़ डाला सिर

मैनपुरी , यूपी के मैनपुरी में एक पति ने अपनी पत्नी का मोबाइल छीन लिया. …