कर्नाटक: विवादों के बीच IAS रोहिणी और IPS रूपा का तबादला, सोशल मीडिया पर हुई थी भिड़ंत

नई दिल्ली,

कर्नाटक में दो महिला नौकरशाहों आईपीएस डी रूपा और आईएएस अफसर रोहिणी सिंधुरी के बीच चल रहे विवाद के दौरान अब दोनों के तबादले की खबर आ रही है. जानकारी के मुताबिक अगले आदेशों तक आईपीएस डी रूपा और आईएएस अफसर रोहिणी सिंधुरी तबादला कर दिया गया है. हालांकि अभी दोनों को कहीं भी तैनाती नहीं मिली है. वहीं आईपीएस रूपा के पति आईएएस अधिकारी मुनीश मौदगिल का भी तबादला कर दिया गया है.

बता दें कि बीते रविवार को जब डी रूपा ने रोहिणी सिंधुरी की कुछ निजी तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर कर दीं उसके बाद लोग काफी हैरान हुए. रूपा ने तस्वीरें शेयर करते हुए दावा किया कि सिंधुरी ने तीन पुरुष आईएएस अधिकारियों को अपनी निजी तस्वीरें खुद भेजी थीं. रूपा ने सिंधुरी पर 19 आरोप लगाए. तो दूसरी तरफ सिंधुरी ने बीते रविवार को बयान जारी कर कहा कि रूपा उन्हें बदनाम करने के लिए झूठे आरोप लगा रही हैं.

कर्नाटक सीएम तक पहुंची लड़ाई!
इतना ही नहीं IPS डी. रूपा ने IAS अफसर रोहिणी सिंधुरी की लड़ाई को लेकर कर्नाटक से राज्यसभा सांसद लहर सिंह सिरोया ने भी ट्वीट किया. वहीं कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने भी नाराजगी जताई और सेवा नियमों के उल्लंघन का हवाला देते हुए कार्रवाई की चेतावनी दी थी. उन्होंने कहा था कि कर्नाटक में नौकरशाहों के बीच जो हो रहा है, वह दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से भारत भर के नौकरशाहों को अपने व्यक्तिगत सोशल मीडिया अकाउंट्स को बंद करने की सलाह देने का आग्रह करता हूं. उनके व्यक्तिगत विचार और प्राथमिकताएं अक्सर सरकारों के कामकाज में बाधा डालती हैं.

इतना ही नहीं कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने कहा कि हम चुप नहीं बैठे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. वे दोनों इतना बुरा बर्ताव कर रही हैं, ऐसा व्यवहार तो आम लोग सड़कों पर भी नहीं करते. ये बहुत बुरा व्यवहार है. उन्हें अपने व्यक्तिगत मुद्दों पर जो भी करना है करें, लेकिन सोशल मीडिया पर ऐसा व्यवहार नहीं करना चाहिए. मुख्यमंत्री भी इसके बारे में जानते हैं.

कौन हैं IAS रोहिणी सिंधुरी और IPS डी रूपा
रोहिणी सिंधुरी, कर्नाटक कैडर, 2009 बैच की आईएएस अधिकारी हैं. वह मूल रूप से आंध्र प्रदेश की रहने वाली हैं. वह अभी तक कई पदों पर काम कर चुकी हैं. इस वक्त वह तबादला होने से पहले हिंदू धार्मिक संस्थानों और धर्मार्थ बंदोबस्ती विभाग के आयुक्त के तौर पर काम कर रही थीं. इसके अलावा डी रूपा की बात करें, तो वह कर्नाटक हस्तशिल्प विकास निगम में एमडी के रूप में काम कर रही थीं. जिनका भी तत्काल तबादला कर दिया गया है.

About bheldn

Check Also

क्या TRP ‘गेम जोन’ पर मेहरबान थे अफसर? BJP नेता वजुभाई वाला ने बताया क्यों हुआ हादसा?

अहमदाबाद गुजरात के राजकोट अग्निकांड को लेकर बीजेपी के दिग्गज नेता और कर्नाटक के राज्यपाल …