दिल्ली: 84 दिनों की वेटिंग, 34 वोटों से जीत, सिर्फ 38 दिन मेयर रहेंगी शैली ओबेरॉय

नई दिल्ली,

दिल्ली नगर निगम चुनाव में आखिरकार आम आदमी पार्टी अपना मेयर बनाने में कामयाब हो ही गई. शैली ओबेरॉय बीजेपी की रेखा गुप्ता को मात देकर दिल्ली की महापौर बन गई हैं. दिल्ली नगर निगम चुनाव के 84 दिन के लंबे इंतजार के बाद अब जाकर शैली ओबेरॉय 34 वोटों से चुनावी जीती हैं, लेकिन वह महज 38 दिन ही महापौर के पद पर रह कर काम कर सकेंगी. शैली दिल्ली एमसीडी में 31 मार्च तक मेयर रहेंगी और उसके बाद एक अप्रैल को फिर से मेयर का चुनाव होगा.

84 दिन बाद 34 वोटों से जीतीं
दिल्ली के मेयर चुनाव में आम आदमी पार्टी की उम्मीदवार शैली ओबरॉय को 150 वोट मिले हैं जबकि बीजेपी प्रत्याशी रेखा गुप्ता को 116 वोट मिले हैं. इस तरह से शैली ओबेरॉय 34 वोटों से जीत दर्ज की हैं, लेकिन उन्हें मेयर बनने के लिए 84 दिनों का इंतजार करना पड़ा है. इसकी वजह यह है कि दिल्ली नगर निगम चुनाव के नतीजे 7 दिसंबर 2022 को आए हैं, जिसमें आम आदमी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. एमसीडी सदन में मेयर चुनाव के लिए तीन बार बैठक हुई और तीनों बार बीजेपी और आम आदमी पार्टी के पार्षदों के हंगामे के चलते मेयर का चुनाव नहीं हो सका. ऐसे में चौथी बार बुधवार को 84 दिन के बाद सदन की बैठक हुई, जिसमें शैली ओबेरॉय मेयर चुनी गई हैं.

38 दिन ही मेयर रहेंगी
शैली ओबेरॉय भले ही बड़ी मशक्कत और सुप्रीम कोर्ट के हस्ताक्षेप के बाद मेयर चुन ली गई हैं, लेकिन अपने पद पर सिर्फ 38 दिन ही रहेंगी. अगर आप ये सोच रहे हैं कि ऐसा क्यों होगा तो इसके लिए एमसीडी एक्ट को जानना जरूरी है, जिसमें एक अप्रैल से 31 मार्च तक के लिए ही मेयर चुन जाता है. डीएमसी एक्ट की धारा दो (67) के अनुसार एमसीडी का वर्ष अप्रैल माह के प्रथम दिन से शुरू होता है. इस तरह अगले साल31 मार्च को वर्ष समाप्त हो जाता है. इस लिहाज से 22 फरवरी को शैली ओबेरॉय मेयर चुनी गई हैं, जिनका कार्यकाल 31 मार्च को खत्म हो जाएगा. इस तरह से वह सिर्फ 38 दिनों तक ही मेयर पद पर रहकर काम-काम कर सकेंगी. इसके बाद दोबारा से एक अप्रैल को मेयर का चुनाव होगा.

कौन हैं शैली ओबेरॉय ?
39 साल की शैली ओबेरॉय पश्चिमी दिल्ली के पूर्वी पटेल नगर वार्ड की निर्वाचित पार्षद हैं. वह दिल्ली यूनिवर्सिटी में असिस्‍टेंट प्रोफेसर थीं. वह भारतीय वाणिज्य संघ की आजीवन सदस्य भी हैं. उन्होंने ओबेरॉय ने इग्नू के स्कूल ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज से प्रबंधन अध्ययन में पीएचडी की है. उनके नाम कई पुरस्कार और सम्मान हैं जो उन्हें विभिन्न सम्मेलनों में प्राप्त हुए.

शैली ओबेरॉय 2013 में एक कार्यकर्ता के रूप में AAP में शामिल हुईं और 2020 तक पार्टी की महिला मोर्चा की उपाध्यक्ष रहीं. पहली बार पार्षद के रूप में उन्होंने पश्चिमी दिल्ली में भाजपा के गढ़ में जीत दर्ज की. दिल्ली विश्वविद्यालय में एक पूर्व विजिटिंग असिस्टेंट प्रोफेसर और पहली बार पार्षद, शैली ने दिल्ली भाजपा के पूर्व प्रमुख आदेश गुप्ता के गृह क्षेत्र पूर्वी पटेल नगर से चुनाव लड़ा और अपनी प्रतिद्वंद्वी दीपाली कुमारी को 269 मतों से हराया और अब रेखा गुप्ता को हराकर मेयर चुनी गई हैं.

About bheldn

Check Also

INDIA ब्लॉक की 1 जून को मीटिंग बुलाने के पीछे क्या है खड़गे और कांग्रेस की रणनीति? 5 Point में समझें

नई दिल्ली, लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण का मतदान बाकी है और कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन …