भिवानी कांड में मोनू मानेसर को राजस्थान पुलिस की क्लीन चिट! वॉन्टेड लिस्ट से हटाया नाम

चंडीगढ़

भिवानी हत्याकांड को लेकर बुधवार को हथीन की अनाज मंडी में चल रही महापंचायत में जुटे दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के हिंदू संगठनों ने ऐलान किया कि वे आरोपियों को गिरफ्तार नहीं होने देंगे। इसी बीच राजस्थान पुलिस ने इस मामले में वॉन्टेड की नई लिस्ट जारी करते हुए मोनू मानेसर और लोकेश सिंगला को क्लीन चिट दे दी। नई लिस्ट में इन दोनों के नाम नहीं हैं।

पुलिस ने भरतपुर में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस मामले के 8 अन्य वांछितों की फोटो समेत लिस्ट जारी की है। इनमें से 2 नूंह के और 6 हरियाणा के अन्य जिलों के हैं। पुलिस अधिकारियों के अनुसार इस मामले के 5 में से एक नामजद आरोपी जो पुलिस रिमांड पर है रिंकू सैनी ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

घाटमीका के जुनैद व नासिर का अपहरण कर हत्या करने के आरोप में गोपालगढ़ थाना पुलिस ने मोनू मानेसर, लोकेश सिंगला, रिंकू सैनी, अनिल कुमार, श्रीकांत मरोड़ा को नामजद कर दस आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। राजस्थान पुलिस के एडीजीपी क्राइम दिनेश एमएन ने बताया कि इस हत्याकांड में अनिल निवासी, श्रीकांत, कालू, किशोर, अनिल निवासी भिवानी, शशिकांत, विकास, मोनू निवासी पालूवास, भिवानी इस मामले में वॉन्टेड हैं।

पुलिस ने स्कॉर्पियो कार की बरामद
भरतपुर रेंज के आईजी गौरव श्रीवास्तव ने बताया कि इस संगीन वारदात के बाद अनुसंधान के दौरान पुलिस ने CCTV फुटेज को खंगालने के साथ-साथ साइबर सेल की मदद से कॉल डिटेल निकालकर पुख्ता साक्ष्य जुटाए हैं। पुलिस ने जुनैद और नासिर के अपहरण से लेकर हत्या करने तक की वारदात को अंजाम देने में इस्तेमाल की गई स्कार्पियो गाड़ी को हरियाणा से बरामद कर लिया है। इस मामले के आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए राजस्थान पुलिस की तीन टीमें हरियाणा पुलिस के सहयोग से निरंतर दबिश दे रही हैं।

महापंचायत में जुटे 4 राज्यों के संगठन
भिवानी कांड के आरोपियों के समर्थन में हथीन की अनाज मंडी में बुधवार को महापंचायत हुई। भारी पुलिस बल की मौजूदगी में हुई महापंचायत में दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और राजस्थान के हिंदू संगठन जुटे। यहां मामले की CBI जांच की मांग कर वक्ताओं ने कहा कि जांच पूरी होने तक किसी की गिरफ्तारी न की जाए। ऐलान किया गया कि पुलिस इन युवकों को मामले में फंसा रही है। वे आरोपियों को गिरफ्तार नहीं होने देंगे।

आरोपियों को आर्थिक मदद की घोषणा भी की गई। वक्ताओं ने कहा कि मोनू मानेसर व उनके साथियों का नागरिक अभिनंदन किया जाएगा। हिंदू संगठनों ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग दोहराई और कहा कि जांच में दोष साबित होने पर ही गिरफ्तारी होनी चाहिए। अगली महापंचायत भिवानी, फिर सोहना और भरतपुर में भी करने का ऐलान किया गया।

भिवानी कांड में अब तक क्या हुआ
हरियाणा के भिवानी जिले के लोहारू में 16 फरवरी को एक जली हुई बोलेरो मिली थी। इस गाड़ी में जुनैद और नासिर नाम के दो मुस्लिम युवकों के जले हुए कंकाल पाए गए थे। इसके बाद पुलिस ने मोनू मानेसर समेत पांच बजरंग दल कार्यकर्ताओं पर केस दर्ज किया था। मामले की जांच हरियाणा और राजस्थान पुलिस कर रही है। भिवानी कांड के बाद से मुख्य आरोपी मोनू मानेसर फरार है।

इस मामले में एक और आरोपी श्रीकांत पंडित के परिवार ने राजस्थान पुलिस पर सवाल उठाए हैं। आरोप है कि घर में श्रीकांत के नहीं मिलने के बाद उसकी गर्भवती पत्नी को पुलिस ने धक्का दिया, जिससे पेट में पल रहे बच्चे की मौत हो गई। नूंह पुलिस ने राजस्थान के चालीस पुलिसकर्मियों पर इस मामले में केस दर्ज किया है।

कौन है मोनू मानेसर
मोनू मानेसर का असली नाम मोहित यादव है। वह गुरुग्राम बजरंग दल का जिला संयोजक है और काऊ टास्क फोर्स से जुड़ा हुआ है। यह टास्क फोर्स मवेशियों की तस्करी और गोकशी से जुड़े मामलों की जानकारी लेने के साथ ही फौरन कार्रवाई करती है। 2011 में बजरंग दल की सदस्यता लेने के बाद से वह सोशल मीडिया पर भी काफी ऐक्टिव है। उसकी टीम में 50 लोग बताए जाते हैं। पानीपत, भिवानी, सोनीपत, गुरुग्राम, रेवाड़ी, नूंह और पलवल में उसकी टीम ऐक्टिव है।

About bheldn

Check Also

मुगलों के ताजमहल से लड़ने को तैयार है आगरा की ये सफेद इमारत, 104 साल में हुई तैयार, अब यहां का भी लगेगा टिकट

आगरा का नाम आते ही, जहन में सबसे पहला नाम ताजमहल का आता है, और …