24 घंटे में 5 देशों में भूकंप… तुर्की में तबाही की भविष्यवाणी करने वाले रिसर्चर की बात होगी सच?

नई दिल्ली,

पिछले 24 घंटे में 5 देशों में भूकंप के झटके महसूस किए गए. अफगानिस्तान और तजाकिस्तान में गुरुवार सुबह भूकंप आया. तजाकिस्तान में आए भूकंप की तीव्रता 7.2 बताई जा रही है. तो अफगानिस्तान में आए भूकंप की रिक्टर स्केल पर तीव्रता 6.8 थी. भूकंप का असर चीन सीमा से सटे इलाकों में भी रहा. तुर्की के एंटिऑक में स्थानीय समयानुसार सुबह 04.42 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप की तीव्रता 4.2 थी. इससे पहले बुधवार को भारत में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए.

पिछले 24 घंटे में कब कहां आया भूकंप?
– अफगानिस्तान में भूकंप गुरुवार सुबह 06.07 मिनट पर आया. भूकंप का केंद्र फैजाबाद से 265 किलोमीटर दूर स्थित था. हालांकि, भूकंप से किसी भी तरह के जानमाल की खबर सामने नहीं आई है.
– तजाकिस्तान में सुबह 6:07 बजे 6.7 तीव्रता का भूकंप आया. चीन से लगी सीमा के पास भूकंप का असर देखने को मिला है.
– तुर्की के एंटिऑक में स्थानीय समयानुसार सुबह 04.42 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप की तीव्रता 4.2 थी.
– भारत में दिल्ली एनसीआर में बुधवार दोपहर में भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप का केंद्र नेपाल में था. रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 4.8 थी. नेपाल के जुमला से 69 किमी दूर इसका केंद्र था. हालांकि, दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके काफी हल्के थे.
– इससे पहले बुधवार को दोपहर 1.30 बजे उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में भूकंप के झटके महसूस किए गए. भूकंप की तीव्रता 4.4 थी. भूकंप का केंद्र पिथौरागढ़ से 143 किमी दूर जमीन के 10 किलोमीटर भीतर थी.

तुर्की-सीरिया में तबाही के बीच 5 देशों में आया भूकंप
पिछले 24 घंटे में 5 देशों में भूकंप के झटके ऐसे वक्त पर आए, जब इसी महीने भूकंप ने तुर्की और सीरिया में भूकंप ने तबाही मचाई है. तुर्की और सीरिया में 6 फरवरी को 7.8 तीव्रता का भूकंप आया था. दोनों देशों में अब तक 46000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. अकेले तुर्की में भूकंप से 2 लाख से ज्यादा अपार्टमेंट तबाह हो गए थे. भूकंप का केंद्र तुर्की-सीरिया बॉर्डर पर था. ऐसे में सीरिया में भी भूकंप से भारी तबाही हुई थी. सैकड़ों लोगों के अभी भी लापता होने की खबर है.

जनवरी में भारत में 45 बार आया भूकंप
National Center for Seismology के मुताबिक, भारत में 1 जनवरी से 31 जनवरी तक 45 बार भूकंप आया. 6 बार हिमाचल प्रदेश, 5 बार उत्तराखंड औऱ कर्नाटक में भूकंप के झटके महसूस किए गए. जम्मू कश्मीर, लद्दाख, अंडमान और मणीपुर में चार चार बार भूकंप आया. जबकि असम में तीन बार भूकंप के झटके लगे.

क्या भारी तबाही का संकेत तो नहीं ये झटके?
तुर्की-सीरिया में 6 फरवरी को भूकंप आया था. इसमें 46000 लोगों की मौत हुई है. लाखों लोग बेघर हो गए. नीदरलैंड के एक रिसर्चर फ्रैंक हूगरबीट्स ने भूकंप से तीन दिन पहले ही भारी तबाही की भविष्यवाणी की थी. इतना ही नहीं फ्रैंक हूगरबीट्स ने भारत, अफगानिस्तान और पाकिस्तान के आसपास भूकंप के बड़े झटके लगने का अनुमान लगाया है. ऐसे में सवाल है कि क्या भारत और आसपास के देशों में हाल ही में आए ये झटके बड़ी तबाही का संकेत तो नहीं हैं.

About bheldn

Check Also

तुम्‍हें नौकरी से न‍िकलवा देंगे… रघुराम राजन को कौन दे रहा था धमकी, फ‍िर पूर्व RBI गवर्नर ने क्‍या क‍िया?

नई दिल्‍ली: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के पूर्व गवर्नर और अब शिकागो यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर …