गाय-भैंस और हाथी संग इंडियन कोर्ट को वो किस्सा, जिसे सुनाकर संजय राउत ने चुनाव आयोग पर कसा तंज

मुंबई

महाराष्‍ट्र के पूर्व मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे के खास स‍िपहसालार और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने चुनाव आयोग पर जोरदार हमला बोला है। संजय राउत ने देश की अदालतों की धीमी कार्यप्रणाली और चुनाव आयोग के रवैये पर निशाना साधा है। शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में लिखे एक लेख के जरिए संजय राउत ने ‘जंगल’ वाला किस्सा सुनाया है। इसमें उन्होंने बताया कि भारतीय न्यायपालिका किस तरह से काम कर रही है। साथ ही चुनाव आयोग के फैसले पर भी एतराज जताया है। दरअसल चुनाव आयोग ने बीते दिनों एकनाथ शिंदे गुट को असली शिवसेना की मान्यता देते हुए उसे चुनाव निशान तीर-धनुष आवंटित करने का आदेश दिया था।

गाय-भैंस संग हाथी की मिसाल और न्यायपालिका पर निशाना
शिवसेना का विवाद सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है। इस बीच संजय राउत ने ‘सामना’ में लिखे लेख में कहा कि चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट से न्याय की गुहार लगाई है। क्योंकि असली शिवसेना हमारी ही है। सुप्रीम कोर्ट में यह ‘उद्धव ठाकरे’ को सिद्ध करना पड़ रहा है। जो कि महाराष्ट्र और न्याय व्यवस्था का दुर्भाग्य है! अब कोर्ट में क्या होगा? इसके जरिए एक कहानी याद आ रही है। जो कि इस तरह से है:-

भैंस संग हाथी भी लगा भागने
जंगल में एक भैंस घबराहट में भाग रहा था। उसको भागते देखकर एक हाथी ने पूछा कि क्यों, क्या हुआ? जो कि तुम इतना डरकर भाग रहे हो। तुम्हारे डरने की वजह क्या है? इस पर भैंस ने जवाब दिया कि अरे भाई वो लोग गायों को पकड़कर ले जा रहे हैं। इस पर हैरान हाथी ने पूछा कि तुम गाय कहां हो? इस पर भैंस ने जवाब दिया कि वो मुझे पता है, लेकिन मैं गाय नहीं हूं। भारत की अदालतों में मुझे यह साबित करने में पच्चीसों साल लग जाएंगे। इतना सुनते ही हाथी भी घबराकर भागने लगा।

न्याय व्यवस्था के हालत पर तंज
संजय राउत ने आगे लिखा है कि देश की मौजूदा न्याय व्यवस्था समेत तमाम सरकारी जांच एजेंसियों के यही हालात हैं। यहां सत्य और उससे जुड़े सबूतों का इनके लिए कोई मोल नहीं रह गया है। सत्य यह रक्षक और सबूत नहीं हो सकता है।

About bheldn

Check Also

केके पाठक को लेकर बिहार विधानसभा में फिर हंगामा, राबड़ी देवी ने भी उठाए सवाल

पटना, बिहार विधानसभा में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक को लेकर गुरुवार …