भेल से लगी रजत नगर में 10 किलोवाट के दो सोलर प्लांट लगे

भोपाल

भेल से लगी रजत नगर कॉलोनी में रहवासी समिति ने अच्छी पहल की है। यहां हर माह पानी-बिजली के 40 हजार रूपये से ज्यादा का बिल लोगों को भरना पड़ रहा था। हर माह भारी-भरकम राशि रहवासी समिति के माध्यम से भरना पड़ती थी। इसे देखते हुए कॉलोनी में सोलर प्लांट लगाने का प्लॉन बनाया गया। समिति, रहवासी, जनप्रतिनिधियों से सहयोग से हाल ही में करीब 12 लाख रूपए की लागत से दो सोलर प्लांट लगवाए गए। इसके लगने से अब हर माह बिजली का खर्च 15 हजार से भी कम का रह गया है।

कॉलोनी में सोलर प्लांट की क्षमता 10 किलोवाट का है। इससे बनने वाली बिजली से दिन के समय पानी सप्लाई होगा और रात के समय सड़कों पर लगी स्ट्रीट लाइटें जलेंगी। रहवासी समिति के जिम्मेदारों का कहना है कि हर माह जो राशि बचेगी उसे कॉलोनी के विकास में खर्च किया जाएगा। साथ हर तीन माह में सर्विसिंग होगी। इस पैनल की 25 साल गारंटी होना बताई जा रही हैं।

गोविंदपुरा संभागीय आईटीआई में कार्यशाला
भोपाल। गोविंदपुरा स्थित संभागीय आईटीआई में कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें अग्निवीर भर्ती योजना में किए गए बदलाव की जानकारी देने आर्मी भर्ती ऑफिस से मेजर सूबेदार बलराज हुड्डा और उनकी टीम ने आईटीआई के छात्र-छात्राओं को जानकारी दी। इस मौके पर बताया कि पहले रैली के माध्यम से भर्ती की जाती थी, अब पहले लिखित परीक्षा होगी। इसमें उत्तीर्ण होने पर फिजिकल टेस्ट होगा। इसमें इसके लाभ, वेतन सहित अन्य सुविधाओं की जानाकरी दी।

विज्ञान दिवस पर बाबूलाल गौर महाविद्यालय में विज्ञान प्रदर्शनी
भोपाल। महात्मा गांधी हायर सेकंडरी स्कूल सीएम राइज भेल में राष्ट्र्रीय विज्ञान दिवस धूमधाम से मनाया गया। मुख्य अतिथि मृदा वैज्ञानिक डॉ. शेखर साराभाई मौजूद थे। प्राचार्य हेमलता परिहार और विज्ञान शिक्षिका डॉ. अर्चना शुक्ला के मार्गदर्शन में विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय विज्ञान दिवस और डॉ. सीवी रमन द्वारा किए गए कार्यों को बताया। विज्ञान रंगोली में उत्सर्जन तंत्र, सूक्ष्मदर्शी, पादप कोशिका, जंतु कोशिका, जल चक्रजैसे चित्र रंगों के चित्र बनाए। रंगोली प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार कुसुम साहू, द्वितीय शशि साहू, तृतीय दीक्षा साहू, सचदीप सिंह, नंदिनी को मिला। विज्ञान के कई विषयों को मॉडल बनाकर विज्ञान की प्रदर्शनी में साझा किया। इसमें वायुदाब, ज्वालामुखी का फटना, सुचालक कुचालक, उत्सर्जन तंत्र का कार्य करना, प्रकाश संश्लेषण, वॉटर डिस्टलेशन, मनुष्य शरीर में पाए जाने वाले विभिन्न तंत्र, संघनन की प्रक्रिया ध्वनि के लिए माध्यम का होना जरूरी है, जैसे मॉडल बनाए। सभी मॉडल शिक्षक हेमंत दुबे, पूजा दुबे, संध्या शर्मा, नीरजा सोनी अनुरूपता सिंह के मार्गदर्शन में बच्चों ने बनाएं।

भेल के प्राचीन गणेश-साई मंदिर में आरती
भोपाल। गुरूवार को भेल कारखाना पांच नंबर फाउंड्री गेट स्थित प्राचीन गणेश-साई मंदिर पर आरती के पश्चात कांग्रेस नेत्री दीप्ति सिंह ने महाप्रसाद का वितरण किया गया। कांग्रेस आईटी सेल प्रवक्ता अतुल मालवीय ने बताया कि इस अवसर पर सैकड़ो ठेकाश्रमिक एवं भेल कर्मचारी मौजूद थे।

 

About bheldn

Check Also

भूमि पूजन

भोपाल 40 लाख की लागत से शासकीय आवास कोटरा में पीडब्ल्यूडी द्वारा डामरीकरण के विकास …