पीएम मोदी ने बढ़ती गर्मी को लेकर की हाई लेवल मीटिंग, मौसम विभाग को दिया ये निर्देश

नई दिल्ली,

अचानक मौसम में हुए बदलाव को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की. बैठक में उन्होंने रबी फसलों पर पड़ने वाले मौसम के प्रभाव के बारे में जानकारी हासिल की. साथ ही सिंचाई जल आपूर्ति, चारा और पेयजल के लिए चल रहे प्रयासों की समीक्षा की. अपातकालीन स्थिति में राज्यों की तैयारियों और अस्पतालों के बुनियादी ढांचे के बारे में जाना. इस दौरान प्रधानमंत्री को भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) द्वारा मौसम पूर्वानुमान और सामान्य मानसून की संभावना के बारे में जानकारी दी गई.

मौसम को लेकर तैयार किया जाना प्रोटोकॉल
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गर्मी को लेकर जागरूकता सामग्री तैयार की जानी चाहिए. अत्यधिक गर्मी की स्थिति से निपटने और बच्चों को मौसम के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए स्कूलों में मल्टीमीडिया व्याख्यान सत्र शामिल करने को कहा गया है. इसके अलावा गर्म मौसम में क्या करें और क्या न करें इसका आसान प्रोटोकाल जारी करना चाहिए था. इसके अलावा प्रचार के विभिन्न अन्य तरीके जैसे जिंगल, फिल्म, पैम्फलेट आदि भी तैयार और जारी किए जाने चाहिए.

आसान तरीके से वेदर फोरकास्ट हो जारी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आईएमडी से डेली वेदर फोरकास्ट को आसान तरीके से जारी करने का निर्देश दिया है. साथ ही टीवी समाचार चैनल, एफएम रेडियो मौसम पूर्वानुमान को इस तरह से समझाने के लिए रोजाना कुछ मिनट खर्च करने का निर्देश दिया है. इससे नागरिकों के अंदर जागरूकता बढ़ेगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी अस्पतालों के विस्तृत फायर ऑडिट की आवश्यकता पर जोर दिया. सभी अस्पतालों में अग्निशामकों द्वारा मॉक फायर ड्रिल की जानी चाहिए. जंगल की आग से निपटने के लिए समन्वित प्रयास की जरूरत भी बताई गई. प्रधानमंत्री मोदी ने निर्देश दिया कि जलाशयों में चारे और पानी की उपलब्धता पर नजर रखी जाए. भारतीय खाद्य निगम को प्रतिकूल मौसम की स्थिति में अनाज भंडारण सुनिश्चित रखने को कहा गया है.

About bheldn

Check Also

‘मोदी की एक ही गारंटी है सभी कांग्रेस सरकारों को गिराओ’, हिमाचल संकट पर जयराम रमेश का तीखा वार

नई दिल्ली, हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस का सियासी संकट अब एक कदम और आगे बढ़ …