व्यापारियों का आरोप जबरिया टैक्स लगा रहा है नगर निगम

भोपाल

इंन्द्रपुरी के व्यापारियों का आरोप है कि नगर निगम उनसे जबरिया टैक्स वसूल रहा है । पूर्व में नगर निगम द्वारा अलग-अलग ट्रेड के लिए अलग-अलग लाइसेंस शुल्क लिया जाता था 400-500 से लेकर $2000 तक अब जो होटल और हॉस्टल चलाते हैं उनके सामने की रोड की चौड़ाई को ध्यान में रखते हुए पर वर्गफीट के हिसाब से टैक्स थोपा जा रहा है जिसमें 50,000 से लेकर 70000 रू. तक के व्यापारी को अक्टूबर महीने में नोटिस दिए गए थे बाद में भूपेन्द्र सिंह स्थानीय प्रशासन मंत्री द्वारा इस पर रोक लगा दी गई थी जबकि पूर्व महापौर आलोक शर्मा के कार्यकाल में हॉस्टल वालों को 200 प्रति कमरा देना तय हुआ था जो बाद में हटा दिया गया था।

होस्टल ऑनर वेलफेयर एसोसिएशन के अंतर्गत आने वाले लोग शासन के कार्य में हाथ बढ़ाते हैं व शासन की मदद करते हैं इसके विपरीत कॉलोनी में हर मकान में 10 से 20 किराये दार हर घर में निवास कर रहे हैं और हॉस्टलों की तरह विद्यार्थी रह रहे हैं उन पर कोई टैक्स नहीं है। जबकि बिल्डिंग मालिकों द्वारा प्रॉपर्टी टैक्स सफाई का टैक्स बिजली का पैसा समय-समय पर दिया जाता है इसके अलावा लोगों द्वारा इनकम टैक्स की भरा जाता है। होस्टल ऑनर वेलफेयर एसोसिएशन राजीव कपूर ने मांग की है कि इस मामले को जल्द ध्यान दिया जाये ।

About bheldn

Check Also

बागसेवनिया कटारा हिल्स 80 फीट रोड से अतिक्रमण तुरंत हटाये – राज्य मंत्री श्रीमती गौर

भोपाल। बागसेवनिया कटारा हिल्स 80 फीट सीमेंटेड रोड के आस पास किनारे के अतिक्रमण को …