आधा सिर मुड़वाया, बेरहमी से पीटा…यूपी के फतेहपुर में संत के साथ दरिंदगी, जानिए पूरा मामला

फतेहपुर

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जनपद में एक संत के साथ दरिंदगी का मामला का सामने आया है। मामला जनपद के बरगवां कुड़नी रोड स्थित मंदिर के पुजारी राजेश्वरानंद ब्रह्मचारी का है। राजेश्वरानंद को बकेवर क्षेत्र में आई एक बारात में लड़की के शादी से इंकार कर दूल्हे को वरमाला ना पहनाने का दोषी मान लड़की पक्ष के लोगों ने मंदिर से अगवा कर उनकी बेरहम पिटाई की और आधा सिर मुड़वा दिया।

पुलिस ने संत को क्षेत्र छोड़ने का दिया फरमान
मामला पुलिस तक पहुंचा जरूर लेकिन, दबाव के चलते पुलिस ने कोई न्याय तो नहीं दिया लेकिन संत को क्षेत्र छोड़ देने का फरमान जारी कर दिया। आरोप है कि संत की दुर्गति वालों पर कार्रवाई के बजाय क्षेत्रीय पुलिस नेताओं को खुश करने के हर हथकंडे अपनाती रही।सामाजिक अपमान, जिल्लत और जलालत झेल रहा पीड़ित संत कानपुर में अपने बहन के यहां रहकर इलाज करा रहा है। उसका कहना है कि उसे न्याय न मिला तो वह ऊपर तक जाएगा, फिर भी कुछ नहीं हुआ तो उसके जीने का कोई मकसद नहीं है।

लड़की ने दूल्हे को जयमाला पहनाने से किया इनकार
गत दिनों बकेवर क्षेत्र के एक गांव में बारात आई तो वरमाला के समय लड़की ने दूल्हे को जयमाल पहनाने से इंकार कर दिया। परिजनों ने तहकीकात शुरू की तो सरांय बकेवर स्थित बटेश्वर मंदिर के सेवादार संत राजेश्वरानंद ब्रह्मचारी के मोबाइल का नंबर भी मिला। आनन-फानन में लड़की वालों ने बाबा को ही दोषी मान लिया और गाड़ी लेकर पहुंच गए।

मंदिर से बाबा को उठा लाए घर, कमरे में बंद कर मुड़वाया आधा सिर
मंदिर की धुलाई कर रहे संत की पिटाई की और गाड़ी में उठा लाए। गांव ले जाकर लात, घूंसो एवं डंडों से बेरहमी से पिटाई कर गुप्तांगों को चोट पहुंचाई गई। परिजन इतने गुस्से में थे कि सही गलत करने का फैसला ही न कर सके और बाबा का आधा सिर मुंडवा दिया। इसी बीच किसी ने पुलिस को संत के अपहरण की सूचना दे दी। आनन-फानन पहुंची पुलिस ने उसे अपने कब्जे में लेकर थाने ले आई।

फोन कॉल के बारे में बाबा ने पूरी बात पुलिस एवं परिजनों को बताई। मामला बिरादरी का होने के चलते कई सत्ताधारी नेता हरकत में आ गए और उनके फोन घनघाने शुरू हो गए। नेताओं के दबाव के चलते संत के साथ अमर्यादित व्यवहार करने वाले लोगों पर पुलिस नरम पड़ गई। न्याय देने के बजाय बाबा को ही क्षेत्र छोड़ने का आदेश जारी कर दिया जबकि बाबा ने नामजद लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की थाने में तहरीर दी थी।

आरोपियों को जेल नहीं भेजा गया तो कर लूंगा आत्महत्या: राजेश्वरानंद
संत राजेश्वरानंद का कहना है कि वह मंदिर में 6 वर्ष से रह रहे हैं। वहां बहू, बेटियां, महिलाएं आती रहती हैं। पता कर लिया जाए अगर कोई भी उनकी शिकायत बता दे तो हर सजा भुगतने के लिए तैयार हैं।

पुलिस के अलग-अलग बयान
मामले में थानाध्यक्ष ने कहा है कि अगर संत मुकदमा दर्ज कराना चाहते हैं तो वह आ जाएं। उनका मेडिकल कराकर कार्रवाई की जाएगी। वहीं सीओ परशुराम त्रिपाठी ने बताया कि मामले की जानकारी मिली है संबंधित एसओ को भेजा गया है, जो आरोपी हैं उनकी गिरफ्तारी के लिए कहा गया है। नियमतः जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

About bheldn

Check Also

हद हो गई…. किसानों को रोकने सिंघु बॉर्डर पर लगाई गई LRAD डिवाइस, आदमी को बना सकती है बहरा

चंडीगढ़ किसानों के विरोध प्रदर्शन के बीच दिल्ली की उत्तरी और पश्चिमी बॉर्डर पर पुलिस …