लोकतंत्र की परीक्षा की घड़ी, मुझे बोलने नहीं दिया जाएगा.. राहुल ने फिर बोला पीएम मोदी पर हमला

नई दिल्ली

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लंदन में अपने भाषण को देशविरोधी करार देने के भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के आरोपों पर जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से बीजेपी के 4 मंत्रियों ने मुझपर सदन में आरोप लगाए हैं, उसी तरह मुझे भी सदन में इन आरोपों का जवाब देने दिया जाए। उन्होंने कहा कि ये भारतीय लोकतंत्र की परीक्षा की घड़ी है। राहुल ने साथ ही कहा कि मुझे नहीं लगता है कि वो मुझे बोलने देंगे। आज तो मेरे आने के एक मिनट के भीतर सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी गई थी। राहुल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम नरेंद्र मोदी और गौतम अडानी के रिश्तों को लेकर भी सवाल उठाए।

पर मुझे बोलने नहीं दिया जाएगा
राहुल ने बीजेपी के आरोपों पर कहा कि आज सुबह मैं संसद जाकर स्पीकर से कहा कि संसद में अपनी बात रखना चाहता हूं। सरकार के चार मंत्रियों ने मेरे ऊपर हाउस में आरोप लगाया है तो मेरा हक है कि संसद में मुझे अपनी बात रखने देने चाहिए। मुझे लगता नहीं है कि वो मुझे बोलने देंगे। आज मेरे आने के एक मिनट के बाद उन्होंने सदन को स्थगित कर दिया। उम्मीद है कि वो कल मुझे बोलने देंगे।

पीएम मोदी-अडानी का रिश्ता क्या है?
राहुल गांधी ने कहा कि मैंने जो पीएम नरेंद्र मोदी और गौतम अडानी के बारे में जो सदन में बोलना उसे सदन की कार्यवाही से हटा दिया गया। ये पूरा मामला मुद्दे से हटाने का है। सरकार और उनके मंत्री अडानी के मुद्दे से डरे हुए हैं। इसलिए उन्होंने पूरा तमाशा रचा है। मुझे लगता है कि वो मुझे संसद में नहीं बोलने देंगे। अडानी और पीएम का रिश्ता क्या है। डिफेंस कॉन्ट्रैक अडानी को क्यों दिया जा रहा है।

लंदन सेमिनार वाली बात यहां भी दोहरा दी
राहुल ने कहा कि मैं संसद का सदस्य हूं। चूंकि मेरे खिलाफ संसद में चार मंत्रियों ने आरोप लगाया है तो ये मेरा अधिकार है कि मैं उसका जवाब सदन में दूं। ये मेरा लोकतांत्रिक अधिकार है। अगर भारतीय लोकतंत्र व्यवस्था चल रही है तो मैं अपनी बात लोकसभा में रख सकता हूं। जो आप देख रहे हैं वो भारतीय लोकतंत्र की परीक्षा है। बीजेपी के 4 नेताओं ने मुझपर आरोप लगाए हैं तो क्या मुझे भी उतनी जगह दी जाएगी जितना मौका उन 4 मंत्रियों को दिया गया है। या फिर मुझे चुप कराया जाएगा। इस देश के सामने असल सवाल यही है।

समझिए क्या है पूरा मामला
इस सप्ताह के शुरुआत से ही बीजेपी ने राहुल गांधी के लंदन में दिए गए बयान को लेकर कांग्रेस नेता को घेरा है। कई बार सत्ता पक्ष और कई बार विपक्षी सांसदों ने सदन की कार्यवाही नहीं चलने दी है। जब राहुल से संसद पहुंचने पर सवाल पूछा गया था तो उन्होंने कहा था कि वो कुछ भी देशविरोधी नहीं बोले हैं।

बीजेपी के मंत्रियों ने राहुल से माफी की मांग की थी
बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने राहुल गांधी के लंदन में दिए गए बयान पर माफी की मांग की थी। लोकसभा में जोशी ने कहा था कि राहुल ने जो कुछ कहा था वह देश का अपमान है। जोशी ने कहा कि देश राहुल से माफी की मांग कर रहा है और हम सांसद भी। उन्होंने देश की छवि को विदेश में धूमिल की है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने राहुल के माफी मांगने से साफ इनकार किया। उन्होंने आज कहा कि आखिर राहुल किस बात के लिए माफी मांगे?

About bheldn

Check Also

जनरल सीट पर सफाई कर्मचारी के बेटे कुलदीप को उतारकर क्या केजरीवाल ने खेल दिया बड़ा दांव?

नई दिल्ली इसमें कोई दो राय नहीं कि अरविंद केजरीवाल चुनावी राजनीति में प्रयोग करने …