‘दुर्भाग्य से मैं सांसद हूं…’, प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोले राहुल गांधी तो जयराम रमेश ने बीच में ही टोका

नई दिल्ली,

राहुल गांधी विदेश से लौटने के बाद जब बीजेपी को जवाब देने जब प्रेस कॉन्फ्रेंस करने बैठे तो यहां भी कुछ ऐसा बोल गए कि जयराम रमेश को उन्हें टोकना पड़ा. राहुल गांधी से बीजेपी माफी की मांग कर रही है. बीजेपी को जवाब देने के लिए राहुल गांधी गुरुवार 3.30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करने बैठे. इस दौरान उनके साथ एक और जयराम रमेश थे तो दूसरी ओर केसी वेणुगोपाल.

बीजेपी को जवाब देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि वे सदन में बीजेपी के आरोपों का जवाब देना चाहते हैं. लेकिन उन्हें नहीं लगता है कि उन्हें संसद में बोलने दिया जाएगा. राहुल ने आगे कहा, ” दुर्भाग्य से मैं एक सांसद हूं और मुझे उम्मीद है कि मुझे संसद में बोलने दिया जाएगा, इसलिए मैं सबसे पहले अपने बयान को सदन के पटल पर रखना चाहूंगा इसके बाद मुझे इस पर आप जैसी भी चर्चा करना चाहेंगे, वैसी चर्चा करके मुझे खुशी होगी.”

जयराम ने नोटिस कर ली राहुल की ‘अनफार्चुनेटली’
राहुल गांधी के शब्द अनफार्चुनेटली को जयराम रमेश ने तुरंत नोटिस कर लिया. राहुल की लाइन खत्म होते ही जयराम रमेश ने उनके कान में जो कुछ कहा वो वहां रखे माइक में रिकॉर्ड हो गया.

आपका मजाक बना सकते है- जयराम
जयराम रमेश ने राहुल से कहा, ‘आपने कहा है कि दुर्भाग्य से मैं सांसद हूं, इस पर वे आपका मजाक बना सकते हैं.’जयराम रमेश की बात सुनने के बाद राहुल गांधी ने फिर से अपनी बात कही. अपनी बात को सुधारकर राहुल ने पत्रकारों से कहा, “मैं इसे स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि दुर्भाग्य से मैं आपके सवालों का जवाब नहीं दे सकता, और चूंकि आरोप संसद में चार मंत्रियों की ओर से लगाए गए हैं इसलिए ये मेरा लोकतांत्रिक अधिकार है कि मुझे जवाब देने का मौका दिया जाए. इसलिए यदि भारत का लोकतंत्र काम कर रहा है तो मैं अपनी बात संसद में कह पाऊंगा.”

जयराम जी यह हमारे लिए दुर्भाग्य की बात है- पूनावाला
राहुल की प्रेस कॉन्फ्रेंस के कुछ ही मिनटों के बाद ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया. इस वीडियो पर बीजेपी नेता शहजाद पूनावाला ने भी प्रतिक्रिया दी है. शहजाद पूनावाला ने कहा है कि जयराम जी यह हमारे लिए दुर्भाग्य की बात है कि वह इस महान संसद में एक सांसद हैं, जिसकी वह बुरी तरह से उपेक्षा और अवमानना करते हैं. दुख की बात यह भी है कि वह बिना ट्रेनिंग लिए बयान भी नहीं दे सकते हैं. आश्चर्य है कि उनके विदेशी हस्तक्षेप वाले बयान के लिए उन्हें किसने प्रशिक्षित किया था?

राहुल के बयान पर माफी की मांग
बता दें कि राहुल गांधी के लंदन में दिए बयान पर बीजेपी उनसे माफी की मांग कर रही है. राहुल गांधी ने लंदन में कहा था कि भारत की संसद में बोलने की आजादी नही हैं. यहां संसद में माइक बंद कर दिया जाता है. राहुल ने कहा था कि लोकतंत्र की रक्षा करने का दावा करने वाले अमेरिका और यूरोप चुपचाप देख रहे हैं. विपक्ष के तौर पर हम लड़ाई लड़ रहे हैं, लेकिन यह अकेले भारत की जंग नहीं है. यह पूरे लोकतंत्र का एक संघर्ष है.

राहुल ने कहा कि ये पूरा तमाशा अडानी मुद्दे से ध्यान हटाने के लिए खड़ा किया गया है. उन्होंने कहा कि ये भारत के लोकतंत्र की परीक्षा होगी कि उन्हें उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों पर जवाब देने दिया जाता है अथवा नहीं. राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अडानी मुद्दे पर डरे हुए हैं और इसलिए इस पूरे तमाशे को खड़ा किया जा रहा है. राहुल ने कहा कि अडानी और नरेंद्र मोदी का रिश्ता क्या है? डिफेंस कॉन्ट्रैक्ट्स अडानी को ही क्यों दिए जा रहे हैं?

About bheldn

Check Also

2029 में ‘वन नेशन वन इलेक्शन’ की तैयारी! किसी राज्य की सरकार गिरने पर बनेगी यूनिटी गवर्नमेंट

नई दिल्ली , लोकसभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है. मार्च के महीने …