‘खुद को भारत समझते हैं PM’, राहुल गांधी बोले- पुलिस भेजने और केस करने से मैं डरने वाला नहीं

नई दिल्ली

लंदन के बाद अब भारत जोड़ो यात्रा के दौरान महिलाओं को लेकर दिए गए बयान के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी लगातार चर्चाओं में हैं। संसद में भी हर दिन उनके बयानों को लेकर घमासान मचा हुआ है। लंदन में भारत के लोकतंत्र पर उनकी टिप्पणियों को लेकर भाजपा उनसे माफी की मांग कर रही है। इस बीच उन्होंने फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ को निशाने पर लिया है।

केरल में उन्होंने कहा कि भाजपा पीएम, बीजेपी और आरएसएस के मन में भ्रम है। वे सोचते हैं कि वे ही भारत हैं। पीएम एक भारतीय नागरिक हैं, पूरा भारत नहीं। चाहे वह कितने भी अहंकारी क्यों न हों या वह कुछ भी सोचते हों। पीएम, भाजपा या आरएसएस पर हमला किसी भी तरह से भारत पर हमला नहीं है, लेकिन भारत की स्वतंत्र संस्थाओं पर हमला करके वे भारत पर हमला कर रहे हैं। और मैं यह कहना बंद नहीं करूंगा।”

राहुल गांधी ने आगे कहा कि वह अपने ऊपर बार-बार होने वाले राजनीतिक हमलों, घर पुलिस भेजे जाने या उनके खिलाफ मामले दर्ज किए जाने से भयभीत नहीं हो सकते, क्योंकि वह सच्चाई में विश्वास करते हैं और हमेशा इसके साथ खड़े रहे हैं। सांसद राहुल गांधी ने वायनाड के कई परिवारों को प्रदान किए गए नए घरों की चाबियां सौंपने के बाद एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

कांग्रेस नेता ने दावा किया, “बहुत से लोग प्रधानमंत्री, भाजपा, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और पुलिस से डर सकते हैं, लेकिन मैं भयभीत नहीं हूं। मैं उनसे जरा भी नहीं डरता और यह उनकी समस्या है। उनकी समस्या यह है कि मैं क्यों नहीं डरता। इसका कारण है कि मैं सच्चाई में विश्वास करता हूं।” उन्होंने कहा, “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मुझ पर कितने हमले किए जाते हैं, मेरे घर कितनी बार पुलिस भेजी जाती है या मुझ पर कितने मुकदमे दर्ज किए जाते हैं, मैं हमेशा सच्चाई के लिए खड़ा रहता हूं। मैं ऐसा ही हूं।”

रविवार को दिल्ली पुलिस की एक टीम राहुल गांधी के आवास पर पहुंची थी। कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान राहुल गांधी ने श्रीनगर में कहा था कि देश में अभी भी महिलाओं का यौन उत्पीड़न हो रहा है। उनके इस बयान को लेकर पुलिस उनसे जानकारी लेने पहुंची थी कि वह कौन सी महिलाएं जिनके साथ ऐसा हुआ। पुलिस का कहना है कि वह उन महिलाओं की जानकारी चाहते हैं, ताकि उन्हें न्याय मिल सके। हालांकि, राहुल गांधी ने जानकारी देने के लिए थोड़ा समय मांगा है। इस घटनाक्रम के अगले दिन राहलु गांधी की यह टिप्पणी आई है।

About bheldn

Check Also

शादी कोई अक्षमता नहीं है: 60 लाख के मुआवजे के फैसले से सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को दी बड़ी सीख

नई दिल्ली सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को मिलिट्री नर्सिंग सर्विस की एक पर्मानेंट कमीशंड ऑफिसर …