अडानी पर बैन लगाने वाले इन बैंक का निकला दम, 8 दिन में ऐसी हुई हालात कि बिकने पर हुआ मजबूर

नई दिल्ली

कहते किस्मत कब पलटी मार दे ये किसी को पता नहीं होता है। हिंडनबर्ग (की रिपोर्ट के बाद अडानी समूह के दिन खराब हो गए थे। अडानी के शेयरों के भाव गिरने लगे। अमेरिकी शॉर्ट सेलिंग कंपनी हिंडनबर्ग ने अडानी समूह पर गंभीर आरोप लगाए, जिसके बाद रेटिंग एजेंसी और स्विस बैंक क्रेडिट सुइस ने अडानी समूह के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए अडानी के बांड स्वीकार करने से इंकार कर दिया। एक महीने बाद हालात ने ऐसी करवट ली कि अब वहीं क्रेडिट सुइस बैंक दिवालिया होने के कगार पर है। बैंक बिकने जा रहा है।

अडानी पर बैन लगाने वाला बैंक हुआ बेदम
एक महीने पहले तक क्रेडिट सुइस बैंक अडानी समूह पर पाबंदियां लगा रहा था और अब बैंक की खुद की हालात खराब है। बैंक की हालात अडानी समूह से भी बुरी स्थिति में पहुंच चुकी है। क्रेडिट सुइस के शेयरों में भारी गिरावट आ चुकी है। बीते आठ दिनों में अडानी समूह के शेयरों में 79 फीसदी तक की गिरावट आ चुकी है। क्रेडिट सुइस के शेयर ऑल टाइम लो पर पहुंच चुके हैं। बैंक के शेयर साल 2007 के अपने उच्चतम मूल्य से 99 फीसदी तक गिर चुके हैं। बैंक की हालात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि एक कारोबारी दिन में बैंक के शेयरों में 65 फीसदी से अधिक की गिरावट आ चुकी है।

8 दिन में बदल गया सीन
अडानी समूह पर हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने से बाद जिस क्रेडिट सुइस बैंक ने अडानी के बांड को स्वीकार करने से इंकार कर दिा था, आज वो बैंक बिक चुका है। हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से जितना नुकसान अडानी को हुआ, उससे कहीं अधिक नुकसान इस बैंक को अपनी गलतियों की वजह से हुआ है। इतना ही नहीं, जो बैंक उसे खरीदने जा रही है, उसकी भी हालात खराब हो गई। उसके भी शेयर गिरने लगे हैं। क्रेडिट सुइस को यूबीएस बैंक खरीदने जा रहा है। इस खबर के बाहर आने के बैंद यूबीएस के शेयर 14 प्रतिशत टूट गए। गौरतलब है कि स्विस की फाइनेंशियल कंपनी यूबीएस ने इसे 3.25 अरब डॉलर में खरीदने का ऐलान किया है।

About bheldn

Check Also

पेट्रोल-डीजल की कीमत में कमी भूल जाइए, सूख गया है ‘दोस्त’ रूस की टंकी का डिस्काउंट

नई दिल्ली चुनावी साल में अगर आप पेट्रोल-डीजल की कीमत में कटौती की उम्मीद कर …