पगड़ी फाड़ी, बाल पकड़कर घसीटा… कनाडा में भारतीय सिख छात्र पर हमला

नई दिल्ली,

कनाडा में सिख समुदाय के खिलाफ नस्लवाद का बेहद ही संगीन मामला सामने आया है. भारत के 21 वर्षीय सिख छात्र पर कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत में अज्ञात व्यक्तियों ने हमला किया और उसकी पगड़ी फाड़कर अपने साथ ले गए. जाने से पहले उपद्रवी युवाओं के समूह ने भारतीय छात्र को बुरी तरह पीटा और उसे फुटपाथ पर घसीटा. फिर बेहोशी की हालत में उसे बर्फ में छोड़कर चले गए.

कनाडा के सीटीवी न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय छात्र गगनदीप सिंह पर कलोना शहर में उस वक्त हमला किया गया जब वो शुक्रवार रात को बस से अपने घर जा रहे थे.ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत में कलोना शहर की पार्षद मोहिनी सिंह ने कहा कि जैसे ही उन्हें इस हमले की सूचना मिली वो गगनदीप से मिलने पहुंचीं. उन्होंने सीटीवी न्यूज से बातचीत में कहा, ‘जब मैंने उसे देखा तो मैं डर गई. उसके मुंह से आवाज तक नहीं निकल रही थी, वो बोलने के लिए अपना मुंह नहीं खोल पा रहा था.’

पगड़ी फाड़ी, बाल पकड़कर सड़क पर घसीटा
उन्होंने कहा कि गगनदीप की आंखें सूजी हुई थीं और उसे काफी दर्द का अनुभव हो रहा था. पार्षद का कहना है कि उन्हें बताया गया कि गगनदीप रात करीब 10:30 बजे किराने का सामान खरीदने के बाद बस से घर जा रहा था. बस में उसके साथ करीब 15 युवाओं का एक समूह यात्रा कर रहा था. सेंट पैट्रिक्स डे मनाकर लौट रहे युवाओं ने बस में अपने साथ सवार गगनदीप को परेशान करना शुरू किया.

उन्होंने बताया, ‘वे उसे परेशान कर रहे थे और उन्होंने उस पर विग फेंक दी. उसने उनसे कहा कि उसे परेशान न करें नहीं तो वो पुलिस को बुलाएगा. बावजूद इसके वो गगनदीप को परेशान करते रहे. इसके बाद गगनदीप बस से उतर गया.’

मोहिनी सिंह ने कहा कि इसके बाद वो लड़के भी गगनदीप के साथ उतर गए और जब बस चली गई तो उन्होंने उसे घेर लिया. लड़कों ने गगनदीप के चेहरे, पसलियों, हाथों और पैरों पर वार किया और फिर उसकी पगड़ी फाड़ दी. उसके बाद गगनदीप का बाल पकड़कर फुटपाथ पर घसीटा. उन्होंने बताया कि मारने-पीटने के बाद लड़कों ने गगनदीप को सड़क किनारे गंदे बर्फ के ढेर में फेंक दिया और उसकी पगड़ी अपने साथ ले गए.मोहिनी सिंह ने कहा, ‘मारपीट के बाद उसकी पगड़ी अपने साथ ले जाना सबसे बुरा था. ऐसा लगता है जैसे वो पगड़ी को जीत की ट्रॉफी के रूप में अपने साथ ले गए.’

होश में आने के बाद गगनदीप ने किया अपने दोस्त को फोन
गगनदीप को जब मारने-पीटने के बाद उपद्रवियों ने बर्फ में फेंका तब वो बेहोश हो गया था. होश में आने के बाद उसने अपने एक दोस्त को फोन किया जिसके बाद वो घटनास्थल पर आया और 911 पर फोन कर पुलिस को बुलाया. मोहिनी सिंह ने कहा कि गगनदीप और उनके साथी, जो अपना देश छोड़ कनाडा में पढ़ने के लिए आए हैं, इस हमले से डरे हुए हैं.

पार्षद का कहना है कि गगनदीप सिख हैं और भारत से हैं, उन पर हमले के पीछे यह एक बड़ा कारक था. उन्होंने कहा, ‘मैं पूरी तरह से मानती हूं कि यह नस्लवाद है और इसे उसी रूप में देखा जाना चाहिए. इसे हेट क्राइम के लेंस से भी देखा जाना चाहिए. यह हर स्तर पर गलत है. ऐसी हरकतों को स्वीकार्य नहीं किया जा सकता.’

कलोना रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस ने एक बयान में इस घटना की पुष्टि की और कहा कि इस अपराध को बहुत गंभीरता से लिया जा रहा है. प्रवक्ता कॉन्स्टेबल माइक डेला-पाओलेरा ने कहा, ‘हम इसे बहुत गंभीरता से ले रहे हैं और चिंतित हैं कि हमारे शहर में इस प्रकार का अपराध हुआ है. यह हमला हमारे जांचकर्ताओं के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है.’

About bheldn

Check Also

हेल्पर के लिए बुलाकर भारतीयों से रूस में छीना गया पासपोर्ट, जंग लड़ने को किया मजबूर

नई दिल्ली, यूक्रेन से जंग लड़ रहे रूस से एक भयावह रिपोर्ट सामने आ रही …