उमेश पाल हत्याकांड: अतीक के ठिकाने से मिले 80 लाख रुपये और 9 पिस्टल, पकड़े गए दो गुर्गे

प्रयागराज,

उमेश पाल हत्याकांड में शूटरों को पकड़ने के लिए पुलिस ने यूपी के माफिया डॉन अतीक अहमद के दफ्तर पर छापेमारी की. इस दौरान वहां भारी पुलिस फोर्स की तैनाती की गई थी. सूत्रों के अनुसार इस दौरान अतीक अहमद गैंग का करीबी गुर्गा भी दबोचा गया है.रिपोर्ट के मुताबिक पकड़ा गया गुर्गा उमेश पाल हत्याकांड में शामिल शूटरों के भी संपर्क में था. छापेमारी के दौरान अतीक अहमद गैंग से जुड़े दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. गुर्गों की निशानदेही पर 9 पिस्टल और करीब 80 लाख रुपए भी बरामद किए गए हैं.

बता दें कि इन पैसों और हथियारों को अतीक अहमद के चकिया इलाके में ध्वस्त दफ्तर में छिपाकर रखे गए थे. रिपोर्ट के मुताबिक पकड़े गए दोनों गुर्गे उमेश पाल हत्याकांड की पूरी कहानी जानते थे और वो लगातार शूटरों के संपर्क में थे.

बता दें कि हत्या के 26 दिनों बाद भी पुलिस और एसटीएफ की टीम शूटरों को नहीं पकड़ पाई है. हालांकि शूटरों की तलाश के दौरान पुलिस को उमेश पाल और उनके दो सरकारी गनर की सरेआम हत्या में इस्तेमाल किए गए 4 पिस्टलों के बारे में अहम जानकारी मिली है. सूत्रों के अनुसार, हथियार सप्लाई करने वाला हिरासत में लिया गया. उसके पास से बरामद असलहों की जांच करवाई जा रही है.

हिरासत में लिया गया शख्स, माफिया डॉन अतीक अहमद के चकिया इलाके का ही रहने वाला है. उसके बाबा और पिता भी अतीक के लिए काम करते थे. इस बीच शूटरों की तलाश में पुलिस की छापेमारी जारी है. गुड्डू मुस्लिम, मोहम्मद गुलाम और साबिर की तलाश में यूपी पुलिस और यूपी एसटीएफ सूबे के साथ-साथ 13 राज्यों और 15 जिलों की खाक छान रही है.

इनाम बढ़ा, लेकिन नहीं मिल रहे हैं शूटर
असद, अरमान, गुलाम, गुड्डू मुस्लिम और साबिर की तलाश पुलिस ने तेज कर दी है. यूपी पुलिस ने इन्हीं पांचों के सिर पर अब इनामी राशि भी बढ़ा दी है. उमेश पाल की हत्या के मामले में यूपी पुलिस ने पांच आरोपियों पर इनाम की रकम ढाई लाख रुपये से बढ़ा कर पांच लाख कर दी है. पुलिस और एसटीएफ दिन रात छापेमारी के बाद भी शूटरों तक नहीं पहुंच पा रही है.

22 टीमें कर रही है शूटरों की तलाश
प्रयागराज और लखनऊ वाया बरेली से लेकर नेपाल तक पुलिस और एसटीएफ की 22 टीमें शूटरों की तलाश में खाक छान रही हैं. पुलिस ने मोहम्मद गुलाम के लिए मेंहदौरी में घेरा लगाया है जबकि गुड्डू मुस्लिम की तलाश में पुलिस ने लाला की सराय पर नज़र गड़ा रखी है.इस हत्याकांड में बाहुबली अतीक अहमद के बेटे असद की सबसे बड़ी भूमिका दिखाई दे रही है और पुलिस का दावा है कि उमेश पाल पर हुए हमले में अतीक अहमद के इस बेटे को ताबड़तोड़ गोली चलाई थी. पुलिस अभी तक असद को भी नहीं ढूंढ पाई है.

कब हुई थी उमेश पाल की हत्या
प्रयागराज के बहुचर्चित विधायक राजू पाल हत्याकांड के मुख्य गवाह उमेश पाल और उनके 2 सुरक्षाकर्मियों संदीप निषाद और राघवेंद्र की 24 फरवरी 2023 को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इस मामले में उमेश पाल की पत्नी जया पाल ने धूमनगंज थाने में पूर्व सांसद अतीक अहमद, उसके भाई अशरफ, पत्नी शाइस्ता परवीन, 2 बेटों, अतीक के साथी बमबाज गुड्डू मुस्लिम, गुलाम मोहम्मद और 9 अन्य साथियों के खिलाफ केस दर्ज कराया था.

About bheldn

Check Also

पूर्व डेप्युटी स्पीकर महेश्वर हजारी बनने जा रहे मंत्री, नीतीश कैबिनेट के विस्तार का काउंटडाउन शुरू-सूत्र

पटना: जनता दल यूनाइटेड (जद यू) के नेता महेश्वर हजारी ने बिहार विधानसभा के उपाध्यक्ष …