वाडिया इंस्टीट्यूट के साइंटिस्ट की चेतावनी, हिमालय में कभी भी आ सकता है बड़ा भूकंप

देहरादून/नई दिल्ली,

उत्तरी अफगानिस्तान में मंगलवार रात 10.16 बजे आए 6.6 तीव्रता के भूकंप के बाद दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र सहित उत्तरी भारत में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए. रिपोर्ट्स के मुताबिक, भूकंप के झटके तुर्कमेनिस्तान, कजाकिस्तान, भारत, पाकिस्तान, ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान, चीन, अफगानिस्तान और किर्गिस्तान में महसूस हुए.

भारत के कई राज्यों में भी देर रात भूकंप आने से हड़कंप मच गया. दिल्ली-एनसीआर के साथ साथ पंजाब, कश्मीर और उत्तराखंड में भी भूकंप से लोगों में भय है. आखिर क्यों आ रहे हैं इतने भूकंप? क्या कोई बड़ा भूकंप आने वाला है. इस पर वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालय जियोलॉजी के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. अजय पॉल ने बताया कि हिमालय में कभी भी बड़ा भूकंप आ सकता है.

डॉ. पॉल ने बताया कि अफगानिस्तान में आए भूकंप की गहराई बहुत ज्यादा थी. इसलिए उसका असल बहुत बड़े इलाके में देखा गया. हम सिस्मिक जोन 5 में हैं किसी भी एक क्षेत्र की पहचान नहीं कर सकते. अवेयरनेस और सिविल इंजीनियरिंग से जान बचाई जा सकती है. भूकंप से पहले किसी तरह की भविष्यवाणी करना मुश्किल है. जब टेक्टोनिक प्लेट्स से एनर्जी रिलीज होती है. तभी भूकंप आता है. कल मेरे घर की लाइट्स और पंखे भी 45 सेकेंड तक हिलते रहे.

भारत के चारों तरफ हजारों भूकंपीय फॉल्ट्स लाइन
IIT Roorkee के अर्थ साइंसेज विभाग के साइंटिस्ट प्रो. कमल ने aajtak.in को बताया कि पाकिस्तान से लेकर भारत के उत्तर-पूर्व के राज्यों तक हिमालय की पूरी बेल्ट में भूकंप का आना बेहद सामान्य घटना है. इतनी ज्यादा मात्रा में भूकंप का आना मतलब ये है कि टेक्टोनिक प्लेट्स के अंदर मौजूद प्रेशर रिलीज हो रहा है. हाल ही में एक नया नक्शा जारी हुआ है, जिसमें भारत के ऊपर हिमालय के इलाके में हजारों फॉल्ट लाइन्स हैं. इन फॉल्ट लाइन्स में होने वाली हल्की हलचल भी भारतीय प्रायद्वीप को हिला देती है.

इंडियन-यूरेशियन-तिब्बतन प्लेट में चल रही कुश्ती
आप इसे ऐसे समझें अगर मैं लगातार आपको धक्का देता रहूं. पर आपके पीछे एक दीवार है. जो आपको पीछे जाने नहीं दे रहा है. मेरे धक्के से लगातार आपके शरीर में ऊर्जा स्टोर हो रही है. जिसे आप एक दबाव की तरह महसूस कर रहे हैं. आपको दर्द हो रहा है. बेचैनी और उलझन भी होगी. ये सभी रिएक्शन एक एनर्जी स्टोर होने की वजह से होती है. आखिरकार आप इस एनर्जी से छुटकारा पाने के लिए रिएक्ट करेंगे. मुझे वापस धक्का देंगे या किसी तरह से मेरे सामने से हटेंगे. बस यही हालत बनी हुई है इंडियन, यूरेशियन और तिब्बत टेक्टोनिक प्लेट के बीच.

भारतीय प्लेट हर साल 15-20 मिमी चीन की ओर खिसक रही
असल में इंडियन टेक्टोनिक प्लेट हर साल 15 से 20 मिलिमीटर तिब्बतन प्लेट की तरफ बढ़ रहा है. इतना बड़ा जमीन का टुकड़ा किसी अन्य बड़े टुकड़े को धकेलेगा, तो कहीं न कहीं तो ऊर्जा स्टोर होगी. तिब्बत की प्लेट खिसक नहीं पा रही हैं. इसलिए दोनों प्लेटों के नीचे मौजूद ऊर्जा निकलती है. ये ऊर्जा छोटे-छोटे भूकंपों के रूप में निकलती है, तो उससे घबराने की जरुरत नहीं है. जब तेजी से ऊर्जा निकलती है तो बड़ा भूकंप आता है.

हिंदूकुश-हिमालय में 7 तीव्रता का भूकंप आए तो दिल्ली का क्या होगा?
आमतौर पर 7 तीव्रता का भूकंप दो तरह का नुकसान करता है. पहला होता है एपिसेंट्रल डैमेज यानी जहां भूकंप का केंद्र है उसके 50 से 70 किलोमीटर की रेंज में. ये भूकंप की मुख्य लहर की वजह से होता है. यहां मुख्य लहर तेजी से चारों तरफ फैलना शुरू करती है. इसे सरफेस वेव कहते हैं. ये 200 से 400 किलोमीटर तक चली जाती हैं. कई बार दूरी बढ़ भी जाती है. अगर हिंदूकुश में इतनी तीव्रता का भूकंप आता है, तो दिल्ली में तबाही तय है. क्योंकि सरफेस वेव दो-तीन मंजिले की इमारतों को तो नहीं गिराती. अगर वो कमजोर न हो तो. सरफेस वेव से 15 मीटर से ऊंची इमारतों को नुकसान पहुंचता है.

About bheldn

Check Also

ग्रीस के तौर पर यूरोप में भारत को मिला नया दोस्त, जानें भारत के लिए क्यों जरूरी है ये देश

एथेंस/नई दिल्‍ली: ग्रीस के प्रधानमंत्री क्‍यरिआकोस मित्‍सोटाकिस मंगलवार देर रात दो दिन के दौरे पर …