PM मोदी की ओम बिरला से मुलाकात, जगदीप धनखड़ की सर्वदलीय बैठक… संसद में आज क्या रहा खास?

नई दिल्ली,

संसद के चालू बजट सत्र के दूसरे चरण में पक्ष-विपक्ष का राहुल गांधी के लंदन वाले बयान और अडानी मुद्दे पर सियासी संग्राम जारी है. संसद में जारी गतिरोध के बीच लोकसभा से विनियोग विधेयक 2023 पारित हो गया. लोकसभा ने अलग-अलग मंत्रालयों की अनुदान मांगों को भी मंजूरी दे दी है. विनियोग विधेयक और अनुदान मांगों का प्रस्ताव पारित होने के बाद लोकसभा की कार्यवाही 24 मार्च की सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई.

लोकसभा की कार्यवाही स्थगित होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्पीकर ओम बिरला से मुलाकात की. लोकसभा स्पीकर ओम बिरला के साथ पीएम मोदी की इस मुलाकात के दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई अन्य मंत्री भी मौजूद रहे. इससे पहले लोकसभा की कार्यवाही पहले दोपहर दो बजे और फिर शाम 6 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई थी.

शाम 6 बजे सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्ष ने अडानी मुद्दे पर जेपीसी जांच की मांग को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी. पीएम मोदी भी सदन की कार्यवाही के दौरान मौजूद रहे. विपक्ष की नारेबाजी के बीच ही वित्त मंत्री ने विनियोग विधेयक 2023 पेश किया और अलग-अलग मंत्रालयों की अनुदान मांगों के प्रस्ताव को भी बिना चर्चा के वोटिंग करा पारित कर दिया गया.

जगदीप धनखड़ ने की सर्वदलीय बैठक
राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ ने सदन में जारी गतिरोध दूर करने के लिए गुरुवार को सभी दलों के फ्लोर लीडर्स के साथ बैठक की. जगदीप धनखड़ की ओर से बुलाई गई बैठक में विपक्षी कांग्रेस के साथ ही आम आदमी पार्टी और अन्य दलों के फ्लोर लीडर्स भी मौजूद रहे. जगदीप धनखड़ ने इस बैठक में सभी दलों के फ्लोर लीडर्स से सदन को सुचारू और व्यवस्थित तरीके से चलाने के लिए सहयोग मांगा.

जगदीप धनखड़ ने बैठक में कहा कि हाउस ऑर्डर में आए और चर्चा हो. राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ की बैठक के बाद उम्मीद जताई जा रही थी कि शायद इस बैठक में कुछ समाधान निकल आए और उच्च सदन की कार्यवाही चल सके. सभापति की बैठक के बाद दोपहर दो बजे जब राज्यसभा की कार्यवाही शुरू हुई, ऐसा नहीं हुआ. राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होते ही हंगामा शुरू हो गया और सदन की कार्यवाही शुरू होने के एक मिनट के भीतर ही 24 मार्च की सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई.

सभापति ने 21 मार्च को भी की थी बैठक
राज्यसभा के सभापति जगदीप धनखड़ ने 21 मार्च को भी सदन में जारी गतिरोध दूर करने के लिए सभी दलों के फ्लोर लीडर्स की बैठक बुलाई थी. हालांकि, तब विपक्षी दलों ने इस बैठक से दूरी बना ली थी. सभापति जगदीप धनखड़ की बैठक में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के साथ एक-दो दलों के नेता ही पहुंचे थे. विपक्षी नेताओं ने सभापति से बैठक के पहले ही मुलाकात कर इससे दूरी बनाने के संकेत दे दिए थे.

लोकसभा में भी बैठकें बेनतीजा
लोकसभा में भी गतिरोध जारी है. लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने लगातार दो दिन सभी दलों के फ्लोर लीडर्स के साथ बैठक की थी. लोकसभा स्पीकर ने गृह मंत्री अमित शाह से भी आधे घंटे तक सदन में जारी गतिरोध को लेकर चर्चा की थी लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. सदन में हर रोज कार्यवाही शुरू होते ही पक्ष-विपक्ष के सांसद नारेबाजी करते हुए हंगामा कर रहे हैं.

About bheldn

Check Also

‘BJP चुनाव जीतती नहीं, चोरी करती है’, सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बोले अरविंद केजरीवाल

सुप्रीम कोर्ट ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव को लेकर ऐतिहासिक फैसला सुनाया. कोर्ट ने रिटर्निंग ऑफिसर …