BJP जनता को फ्री में कुछ नहीं देती, लोग उंगली दबा लेते हैं कि दिल्ली में सब कुछ फ्री मिलता है: केजरीवाल

नई दिल्ली,

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को विधानसभा में बजट सत्र के दौरान भाषण दिया. इस दौरान उन्होंने अपनी सरकार की तुलना भाजपा शासित अन्य राज्यों से की. सीएम ने कहा कि भाजपा शासित राज्य फ्री में जनता को कुछ नहीं देते खासकर बिजली. उसके बावजूद उनका बजट घाटे में चलता है. हमने फ्री में बिजली दी, इसलिए वे किसी भी तरह से बिजली सब्सिडी रोकना चाहते हैं. हम DIsCOM की ऑडिट कराएंगे. मुख्यमंत्री ने कहा कि लोग उंगली दबा लेते हैं कि दिल्ली में सब कुछ फ्री मिलता है. पहले कॉमन वेल्थ घोटालों की दिल्ली कहा जाता था. अब अच्छे स्कूलों और अस्पतालों के लिए जानी जाती है.

पीएम मोदी पर उठाए कई सवाल
सीएम ने भाजपा पर सवाल उठाते हुए कहा कि नेतृत्व का पढ़ा लिखा होना जरूरी है. प्रधानमंत्री कई बार कह चुके हैं कि वे हाई स्कूल तक गए हैं. अगर पढ़े लिखे न हों तो सरकार चलाना मुश्किल हो जाता है. कौन कहां साइन कराके गया पता ही नहीं चलता है. केजरीवाल ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री पढ़े लिखे होते तो नोटबंदी या किसान कानून का निर्णय कभी नहीं होता. गंदी नाली के गैस से खाना बनने लगे तो गैस ख़रीदने की क्या ज़रूरत. विदेशों से नेता आते हैं वे पता नहीं प्रधानमंत्री से क्या साइन कराते हैं.

‘देश भर में दिल्ली रहने लायक शहर बन गया है’
सीएम ने कहा कि मुझे एक आदमी ने बताया कि देश भर में दिल्ली रहने लायक शहर बन गया है. दिल्ली मॉडल ने पूरे देश को उम्मीद दी है. दिल्ली मॉडल ने बताया कि पढ़ी लिखी और ईमानदार सरकार क्या कर सकती है. उन्होंने कहा, हमने हर धर्म, हर उम्र और जाति का विकास किया है. दिल्ली जीरो करप्शन का मॉडल है और सबसे कम महंगाई, वर्ल्ड क्लास ट्रांसपोर्ट, खूबसूरत सड़कों, फ्री पानी-बिजली का मॉडल है.

‘दिल्ली में बजट घाटे में नहीं है’
मुख्यमंत्री ने कहा कि लोग उंगली दबा लेते हैं कि दिल्ली में सब कुछ फ्री मिलता है. पहले कॉमन वेल्थ घोटालों की दिल्ली कहा जाता था. अब अच्छे स्कूलों और अस्पतालों के लिए जानी जाती है. केंद्र सरकार ने हजारों करोड़ खर्च किया, लेकिन जनता घोटालों को नहीं मानी. पूरे देश में ईमानदार सरकार आम आदमी पार्टी की है. 65 साल के काम पिछले 8 साल में डबल हुए. दिल्ली में बजट घाटे में नहीं है, वहीं इनकी सरकार घाटे में हैं. क्योंकि भ्रष्टाचार बहुत है. दिल्ली में 28 नए फ्लाई ओवर बनाए गए हैं. 2015 से 2023 तक 390 किलोमीटर मेट्रो बनी है. 286 स्टेशन बने हैं.

BJP पर तंज कसते हुए केजरीवाल ने कहा कि ये चांद सितारे सब आपका है. सृष्टि की रचना 2014 में हुईं थी. हमने दिल्ली में महिलाओं को मुफ़्त सफ़र करवाया. लंदन में बसों की लाइव ट्रैकिंग होती है और आज दिल्ली में वही सुविधा उपलब्ध है. दिल्ली आज EV कैपिटल बन गयी है. 2014 तक 227 कच्ची कॉलोनी में सीवर लाइन डली, जबकि पिछले 8 साल में 747 कॉलोनी में सीवर लाइन डाली गई. 8 साल में 1671 कॉलोनी में पानी की पाइप लाइन डाली गई. 8 साल में 5138 मीटर पानी की पाइप लाइन डाली गई. इनकी पार्टियों ने दिल्ली की हवा भी खराब की, 2015 में हवा शुद्धिकरण किया और 2022 तक 30% प्रदूषण कम किया. हर साल 2 करोड़ मरीज मोहल्ला क्लीनिक में इलाज कराते हैं.

दिल्ली में एक भी पॉवर कट नहीं लगता
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपनी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि दिल्ली में आज एक भी पॉवर कट नहीं लगता है. दिल्ली आज तिरंगों का शहर है.

‘अब करेंगे ये काम’
सीएम केजरीवाल ने कहा कि इंफ्रास्ट्रक्चर को बूस्ट करने के लिए 21 हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे. 1400 किलोमीटर सड़कों का ब्यूटीफीकेशन करेंगे. 29 नए फ्लाईओवर बनाएंगे, तीन डबल देकर फ्लाईओवर तैयार होगा. ISBT बनाए जाएंगे और 2 मल्टी लेवल बस डिपो बनाए जाएंगे.

इस साल 1600 नई इलेक्ट्रिक बस आ जाएंगी. लास्ट माइल कनेक्शन के लिए मोहल्ला बस लाई जाएंगी. सीवर ट्रीटमेंट प्लांट से 636 की बजाय 890 MGD सीवेज ट्रीट करेंगे. हर घर फ्री पानी और सीवर का फ्री कनेक्शन देंगे. 743 से बढ़ाकर 1300 से ज़्यादा सीवर कनेक्शन लगाएंगे. 3 कूड़े के पहाड़ ख़त्म कर दिए जाएंगे. BJP के प्लान के आधार पर कूड़े के पहाड़ ख़त्म करने में 197 साल लगते, लेकिन आज दावा करता हूं कि दिसंबर 2024 तक तीनों पहाड़ ख़त्म कर देंगे. दिल्ली अगले कुछ सालों में स्वच्छता के मामले में इंदौर को पीछे छोड़ देगी.

सीएम ने कहा कि ये पढ़ी लिखी सरकार का नतीजा है. उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि एक अनपढ़ सरकार का नारा कुछ अलग है. बीजेपी के लिए उन्होंने कहा, ‘घर घर नाली घर घर भैंस, जिसकी लाठी उसकी भैंस…बनेगा पकौड़ा बनेगी चाय, स्कूल अस्पताल भाड़ में जाए…वाह रे शासन तेरा खेल, ईमानदार को हो गयी जेल.’

About bheldn

Check Also

5 राज्यों में ताबड़तोड़ गठबंधन के लिए कांग्रेस और दूसरे दल इन 4 कारणों से हुए मजबूर

नई दिल्ली, कांग्रेस के लिए यह हफ्ता खुशियां लेकर आया. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी …