MVA के साझा न्यूनतम कार्यक्रम में सावरकर का जिक्र नहीं…आदित्य ठाकरे से अलग नाना पटोले का दावा

नागपुर

कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई के अध्यक्ष नाना पटोले ने सोमवार को कहा कि उनकी पार्टी और सहयोगी शिवसेना (यूबीटी) की अलग-अलग राजनीतिक विचारधाराएं हैं। उन्होंने कहा कि विपक्षी दल के साझा न्यूनतम कार्यक्रम में दिवंगत हिंदुत्व विचारक वी.डी. सावरकर का कोई जिक्र नहीं है। शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) ने सोमवार को कहा था कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी के स्वतंत्रता सेनानी वी डी सावरकर पर हमला करने से लोकसभा सदस्य के रूप में अयोग्य ठहराने से उन्हें मिली सहानुभूमि कम हो जाएगी।

पार्टी के मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा गया है कि राहुल गांधी आज जिस सच्चाई के लिए लड़ रहे हैं, वह सावरकर के खिलाफ अपमानजनक बयान देकर नहीं जीती जा सकती है। इससे पहले शिवसेना यूबीटी नेता आदित्य ठाकरे ने भी कहा था कि सावरकर को लेकर उनका स्टैंड स्पष्ट है और एमवीए के न्यूनतम साझा कार्यक्रम में इसे लेकर जिक्र है कि सावरकर पर कोई बात नहीं होगी।

लोकसभा की सदस्यता से अयोग्य ठहराये जाने के बाद दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने शनिवार को कहा था, ‘मेरा नाम सावरकर नहीं है, मेरा नाम गांधी है और गांधी किसी से माफी नहीं मांगते हैं।’

राहुल की इस टिप्पणी से जुड़े सवाल पर पटोले ने नागपुर में संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस की विचारधारा सभी को साथ लेकर चलने की है। उन्होंने कहा, ‘यह कांग्रेस ही है जिसने देश को आजादी दिलाई और संविधान के आधार पर काम किया। इसलिए, सत्ता में आना या न होना गौण है… कांग्रेस के लिए सिद्धांत महत्वपूर्ण हैं।’ गौरतलब है कि महा विकास आघाड़ी (एमवीए) गठबंधन में कांग्रेस, शिवसेना (यूबीटी) और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) शामिल हैं।

About bheldn

Check Also

केके पाठक को लेकर बिहार विधानसभा में फिर हंगामा, राबड़ी देवी ने भी उठाए सवाल

पटना, बिहार विधानसभा में शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक को लेकर गुरुवार …